• shareIcon

सिर्फ वही पुरुष जिनकी नहीं आती दाढ़ी समझ सकते हैं ये बातें

दाढ़ी-मूंछ आते ही आप खुद को समझने लगते हैं जवां। आस पड़ोस वाले भी कहने लगते हैं 'हुआ छोकरा जवां रे'। लेकिन हर किसी को नहीं मिलती ये बहार जिंदगी में। सोचिये जरा जिस चेहरा बंजर जमीन सा नजर आता हो उस पर क्या गुजरती होगी। चलिये जानते हैं ऐसे लोगों का दर्

पुरुष स्वास्थ्य By Pooja Sinha / Jan 22, 2015

कब होगा छोकरा जवां

दाढ़ी-मूंछ आते ही आप खुद को समझने लगते हैं जवां। आस पड़ोस वाले भी कहने लगते हैं 'हुआ छोकरा जवां रे'। लेकिन हर किसी को नहीं मिलती ये बहार जिंदगी में। कुछ पुरुष ऐसे भी होते हैं जिनकी 'जमीन पर एक तिनका भी नहीं उगता'। कोई अनिल कपूर बन जाता है और कोई बेचारा टाइगर श्राफ बन जाता है। कहीं इतना कि संभाले न संभले और कहीं इतना कि एक-एक तिनके को तरसे। सोचिये जरा जिस चेहरा बंजर जमीन सा नजर आता हो उस पर क्या गुजरती होगी। चलिये जानते हैं ऐसे लोगों का दर्द जिनके चेहरे पर दाढ़ी नहीं आती।
Image Courtesy : media2.intoday.in

मै ऐसा क्यों हूं

आप लाखों में एक हैं। और यही बात कही न कहीं आपको सालती है। आप यही सोचते हैं कि आखिर आप ऐसे क्यों हैं। ऐसे पुरुष बहुत कम हैं, जिनकी दाढ़ी नहीं आती और ऐसे में आपको लगता है कि आप कुछ अजीब हैं। आपको लगता है कि आपमें कोई कमी है। अपूर्णता का भाव आपको बहुत परेशान करता है।
Image Courtesy : mensxp.com

मर्द बन मर्द

हम मर्दों को भी काफी कुछ सहना और सुनना पड़ता है। मूंछों को तो मर्दानगी की शान कहा जाता है, लेकिन अगर किसी पुरुष को दाढ़ी मूंछ नहीं आती, तो.... 'हे, भगवान' उस पर तो न जाने कितने सवालों से रू-ब-रू होना पड़ता है। अगर दाढ़ी नहीं उगती तो आपकी मर्दानगी पर ही प्रश्न-चिह्न लगा दिया जाता है। और यह बात आपको जरूर बुरी लगती है कि आखिर आपके पौरुष को सिर्फ फेशियल हेयर के आधार पर तौला जाता है।
Image Courtesy : Getty Images

इन्ताह हो गई इंतजार की

आप शायद उस समय स्कूल में थे, जब आपने अपना पहला रेजर खरीदा था। और दाढ़ी आने से पहले ही शेव की थी, जैसे कि ऐसा करने से आपको दाढ़ी उग आएगी। और उसके बाद शुरू होती है इंतजार की एक लंबी प्रक्रिया। रोज आप अपने चेहरे पर हाथ फिराकर देखते हैं कि कहीं शायद कोई बाल उग आया हो। आप एक उम्मीद के साथ ऐसा करते हैं , लेकिन हर बार हाथ कुछ नहीं लगता सिवाय निराशा के। रेजर देखते ही आपका खून खौलने लगता है। स्कूल खत्म हो जाता है, कॉलेज बीत जाता है, लेकिन दाढ़ी नहीं आती।
Image Courtesy : Getty Images

अजब गजब से नाम

दाढ़ी आपको नहीं उगती, परेशान दूसरे लोग होने लगते हैं। लोग आपको क्या-क्या नाम दे देते हैं। कोई आपको बच्चा कहता है, तो किसी की नजर में आप चिकने हैं। जाने कितने ही लतीफे बन जाते हैं आप पर। आप खुद तो माचो मैन समझते हैं, लेकिन दूसरों की नजर में तो आप पुरुष ही नहीं हैं, और हां महापुरुष तो खुद को न ही समझें!
Image Courtesy : rediff.com

लड़कियां भाव नहीं देतीं

आपके आसपास मौजूद सभी लड़कियां दाढ़ी वाले पुरुष पर अपना दिल लुटा बैठती हैं। उनकी नजर आप पर पड़ती ही नहीं। और यह सब देखकर आपको अच्छा तो नहीं ही लगता होगा। लेकिन इस सब में आप भला अब कर ही क्या सकते हैं। लड़कियों को रियल मैन उसे समझती हैं, जो उन्हें वैसा नजर आता हो। कई लड़कियों की नजर में दाढ़ी नहीं तो मर्द नहीं।     
Image Courtesy : Getty Images

दोस्त, दोस्त न रहा

आपके दोस्त नये स्टाइल की दाढ़ी मूंछ रखने की बात करते हैं। किसी का दिल आता है कि वो 'रामलीला' वाले रणवीर सिंह वाली मूंछें रख ले, तो कोई किसी हॉलीवुड स्टार की नकल करना चाहता है। और ऐसे समय में आपका दिल करता है कि आप कहीं गायब हो जायें। आप सोचते हैं कि काश कि ये जमीं फट जाये और मैं इसमें समा जाऊं। लेकिन आपको कहीं से सहारा नहीं मिलता।
Image Courtesy : xdesktopwallpapers.com

कोई गंभीरता से नहीं लेता

कोई भी आपकी किसी भी बात को गंभीरता से नहीं लेता। सब आपको बच्चा और अपरिपक्व समझते हैं। मोटे तौर पर आपको ऐसा किशोर समझा जाता है जो अभी तक जवानी की दहलीज पर पहुंचा ही नहीं है। तो आपकी राय और सलाह को तवज्जो नहीं मिलती।
Image Courtesy : Getty Images

कोशिश ऱंग नहीं लाती

चलिये अब आपने सोच ही लिया कि दाढ़ी बढ़ानी है। महीने भर तक आप इस मिशन में जुट गए। लेकिन, जो नतीजा सामने आता है, उसे संतोषजनक तो कतई नहीं कहा जा सकता। चेहरे पर कुछ ही स्थानों पर दाढ़ी उगती है। और ये पैचेज आपके लुक को और भी बिगाड़ देते हैं।
Image Courtesy : i.imgur.com

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK