Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

भुलक्कड़पन के 9 अजीब कारण

लोगों में कमजोर याददाश्त का रिश्ता उनकी जीवनशैली से जुड़ा है, लेकिन इसके अलावा भुलक्कड़पन के कुछ अन्य अजीब कारण भी हो सकते हैं।

मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य By Rahul SharmaOct 20, 2014

भुलक्कड़पन के कारण

भुलक्कड़पन एक ऐसी समस्या है जो अक्सर लोग छोटी सी बात समझ कर टालते रहते हैं। अकसर लोगों के साथ ऐसा होता है कि वे अपनी अलमारी की चाबी, चश्मा या अन्य कोई जरूरी कागजात कहीं रखकर भूल जाते हैं और फिर उसे ढूंढ़ने के लिए इधर-उधर घूमते हैं। तो कभी किताब का नाम या फिर उस व्यक्ति का नाम लाख सोचने पर भी तुरंत याद नहीं आता, जिससे आप अक्सर मिलते रहते हैं। लोगों में कमजोर याददाश्त का रिश्ता उनकी जीवनशैली से जुड़ा है। इसके अलावा भुलक्कड़पन के कुछ अजीब कारण भी हो सकते हैं। तो चलिये जानें कौंन से हैं भुलक्कड़पन के ये अजीब कारण।
Image courtesy: © Getty Images

नींद की कमी

नींद पूरी न होना, वयस्कों में भुलक्कड़पन का एक मुख्य कारण है। यदी आपको रात में आठ घंटे की आरामदायक नींद नहीं मिल रही है, तो मन अशांत रहता है। जिसके चलते आप चीजों को भूल जाते हैं और उलझन में रहने लगते हैं। गंभीर परिणामों में समय बीतने के साथ नींद की कमी पागलपन का कारण भी बन सकती है।
Image courtesy: © Getty Images

तनाव

जब आपकता दिमाग़ तनाव ग्रस्त होता है तो अपनी स्मृति भी हमेशा ग्रस्त रहती है। तनाव आपको किसी भी चीज़ पर ठीक से ध्यान केंद्रित करने की अनुमति नहीं देता है। तो तनाव भी भुलक्कड़पन का एक बढ़ा कारण बन सकता है।
Image courtesy: © Getty Images

नशीले पदार्थ

यदि आप धूम्रपान करते हैं, या फिर अन्य किसी नशीली दवाओं का सेवन करते हैं तो, संभवतः आपको भुलक्कड़पन की समस्या होने की आशंका ज्यादा हो जाती है। ऐसी दवाएं या नशीले पदार्थ दिमाग को धीमा व सुस्त बना देते हैं। नतीजतन, आप अधिक भुलक्कड़ हो जाते हैं।

Image courtesy: © Getty Images

हाइपोथायरॉयड

यदि आपकी थायरॉयड ग्रंथि उतनी सक्रिय नहीं है, जितना कि उसे होना चाहिए तो आपको याद्दाश्त सम्बंधी कोई समस्या हो सकती है। इसके कारण निंद आने में समस्या हो सकती है, या फिर भावनात्मक रूप से परेशानी हो सकती है।   
Image courtesy: © Getty Images

गर्भावस्था

गर्भावस्था हमेशा कुछ शारीररिक व मानसिक बदलाव लाती है। जिनमें से स्मृति में भी शामिल होती है। इस दौरान अक्सर चिजें भूलने की समस्या हो जाती है। चिडचिड़ापन व दिर दर्द आदि भी इसमें आम होते हैं।
Image courtesy: © Getty Images

एल्कोहॉल

शराब पीना व इसके कारम होने वाला हैंगओवर दिमाग दिमाग पर प्रभाव डालता है। बहुत ज्यादा शराब पीने से आप तथ्यों पर ध्यान केंद्रित करने में समस्या महसूस कर सकते हैं। बहुत ज्यादा शराब पीने से आपको अल्पकालिक स्मृति हानि हो सकती है।
Image courtesy: © Getty Images

अवसाद

यदि आप अवसाद और भावनात्मक उतार-चढ़ाव के दौर से गुजर रहे हैं, तो आपके भुलक्कड़ बनने की संभावना बढ़ जाती है। जैसा कि अवसाद के दौरान आपके दिमाग में तनाव की स्थित रहती है, आप कई काम भूल जाते हैं।
Image courtesy: © Getty Images

उम्र बढ़ना

जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती है, आपकी त्वचा पर झुर्रियों हो जाती हैं, अपनी आंखें दृष्टि खोने लगती हैं और आपके मस्तिष्क की कोशिकाएं धीमी गति से चलने लगती हैं। अपनी स्मृति 70 की उम्र में 17 जैसी तेज नहीं रह सकती। तो कई बार उम्र के बढ़ने के साथ भी भुलक्कड़पन की समस्या शुरू हो जाती है।
Image courtesy: © Getty Images

कुछ दवाएं

दवाओं के कुछ समूह वास्तव में आपके मस्तिष्क को धीमा बना सकते हैं। इसी लिए कभी-कभी ठंड के संक्रमण के लिए खांसी की दवाई पीने के बाद भी आप थोड़ा भुलक्कड़पन महसूस करते हैं। लेकिन मुख्य रूप से अवसाद विरोधी और कि हार्मोन की गोलियां आपकी स्मृति पर प्रभाव डालती हैं।
Image courtesy: © Getty Images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK