• shareIcon

घबराहट में ये दस काम पहुंचाते हैं आपकी सेहत को नुकसान

अक्सर लोग घबराहट में नाखून कुतरने व होंठ काटने जैसे काम करने लगते हैं जो समय के साथ-साथ आदत का रूप ले लेती है। लेकिन क्‍या आप जानते है कि ये आदतें आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक साबित हो सकती हैं।

मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य By Pooja Sinha / Jun 27, 2014

घबराहट वाली आदतें और नुकसान

अपने बालों को उंगली डालकर घुमाते रहना या नाखून काटना जैसी घबराहट में की जाने वाली आदतें देखने में भले ही हानिरहित लगें, लेकिन वास्तव में ये आदतें आपके स्वास्थ्य से लिए हानिकारक हो सकती हैं। घबराहट में की जानें वाली कुछ जैसे नाखून चबाना व बाल खींचना आदि आप खुद करें तो पता नहीं चलता लेकिन यदि कोई और ऐसा करें तो आपको ये परेशान करती हैं। लेकिन विशेषज्ञों के अनुसार इन आदतों से आपके स्वास्थ्य को कई नुकसान हो सकते हैं। चलिय जानें क्या हैं वे नुकसान.....courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

दांतों से नाखून काटना

न्यू योर्क के त्वचा विशेषज्ञ माइकल शपीरो के अनुसार, अक्सर लोग डारावनी फिल्में देखते हुए आपने नाखून चबाते हैं, लेकिन जब यह एक नियमित आदत बन जाती है, तो यह आदत आपके नाखूनों और उनके आस-पास की त्वचा दोनों को नुकसान पहुंचा सकती है। ऐसा करने से मुंह से रोगाणु उंगलियों में उंगली से मुंह में स्थानांतरित होते हैं और संक्रमण की आशंका बढ़ जाती है। courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

बालों को घुमाना

न्यू योर्क के एमडी व त्वचा विशेषज्ञ एरियल ओस्ताद के अनुसार, उंगली से बालों को घुमाने और खीचने पर आगे चलकर बालों की जड़ों को नुकसान हो सकता है। ओस्ताद के अनुसार, बालों को खींचने और घुमाने की ये जुनूनी आदत आगे चलकर मनोरोग आवेग नियंत्रण की स्थिति का संकेत भी हो सकती है, जिसे त्रिचोटिल्लोमनिया नाम से जाना जाता है। इसमें मनोचिकित्सा और दवा की आवश्यकता होती है। courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

गर्दन को बार-बार मोड़ना और चटकाना

फ्लोरिडा अटलांटिक यूनिवर्सिटी के एमडी, प्रोफेसर माइकल ग्लिबेर बताते हैं कि जबरन अपने सिर को एक तरफ घुमाने से रीड़ के जोड़ के बीच निर्मित गैस छोड़ती है, जिस कारण कट की ध्वनी होती है। हालांकि ऐसा करने से अच्छा महसूस होता है लेकिन बार-बार अपनी गर्दन चटकाने से आसपास के स्नायुबंधन हाइपरमोबाइल हो सकते हैं और चोट के लिए भी अतिसंवेदनशील हो जाते हैं। इस आदत के कारण आगे चलकर आर्थराइटिस की समस्या भी हो सकती है। courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

चेहरे को बार-बार छूना

त्वचा विशेषज्ञ जेसिका करंट के अनुसार, बार बार अपने चेहरे को छूने और एक्ने पर हाथ लगाने या नोचने से त्वचा के ऊपर मौजूद बेहद पतली सूक्ष्म परतों को नुकसान पहुंचा सकता है और वह खराब हो सकती है। इसके कारण पिगमेंटेशन की समस्या भी हो सकती है। courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

दांतों को पीसना

तनाव या रोमांच के समय अपने दांतों को पीसने या रगड़ने से अपने मौखिक स्वास्थ्य के लिए बेहद हानिकारक हो सकता है। दांतों को पीसने से उनमें दरार आ सकती है या वे आंशिक रूप से टूट सकते हैं, जिनके इलाज के लिए क्राउन और रूट केनाल की जरूरत पड़ सकती है। courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

हार्ड कैंडी चूसना

अक्सर लोग घबराहट में हार्ड कैंडी चूसना पसंद करते हैं, लेकिन ऐसा करने से उनके दांत पूरी तरह से शुगर में घिरे रहते हैं, जो टूथ कैविटी का कारण बन सकता है। बैक्टीरिया चीनी खाते हैं और इस प्रकार का वातावरण उनके लिए दांतों को खराब करने का सबसे अच्छा होता है। courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

होंठों को चाटना या काटना

घबराहट में अपने होंठों को चाटने से वे मुंह के पाचन एंजाइमों के संपर्क में आते हैं। ये एंजाइम त्वचा पर डर्मेटाइटिस और सूजन पैदा कर सकते हैं। जिस कारण होंठ सूखे और फटे दिखाई देते हैं। courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

अपने गाल के अंदर दांत से काटना

कुछ लोंगों को घबराहट में नाखून चबाने की ही तरह ही अपने गाल को अंदर दांत से काटने की आदत भी होती है। लेकिन विशेषज्ञों के अनुसार ऐसा करने से अक्सर गाल के अंदर सूजन हो जाती है और उसी जगह काटने को जारी रखने के लिए आसान हो जाता है। समय के साथ यह जीर्ण सूजन में बदल सकती है इससे गंभीर रूप से खून का रिसाव हो सकता है। courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

 

पेंसिल और पेन को कुतरना

पेंसिल और पेन के सिरों को कुतरने से उन पर मौजूद रोगाणु मुंह में चले जाते हैं, और इसके कारण कई वायरस सहित बुरे रोगजनकों से जूझना पड़ सकता है।
संभावनतः संक्रमित व्यक्ति की उंगलियों पर भी यह वायरस आ सकते हैं और फिर कंप्यूटर की-बोर्ड व सैल फोन आदि में फैल सकते हैं। इन सब के कारण आपक पूरी तरह से  रोगाणुओं से घिर जाते हैं।  courtesy: © Thinkstock photos/ Getty Images

च्‍युइंग गम चबाना

शुगर फ्री गम कई प्रकार की समस्‍याओं को कारण बन सकती है, खासतौर से पाचन संबंधी बीमारियां। अधिक मात्रा में इसका सेवन करने से इसमें मौजूद कृत्रिम स्वीटनर सोर्बिटोल एक अप्रिय लैक्सटिव प्रभाव को पैदा करता है। नेशनल डीगेस्टीवे डिजीज  इनफार्मेशन क्लीरिंगहाउस के अनुसार, च्‍युइंग गम खाने के दौरान अधिक हवा को निगलना, गैसीय स्‍टमक के खतरे को बढ़ता है। इसलिए इस आदत को छोड़ने का प्रयास करें। image courtesy : getty images

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK