• shareIcon

वजन घटाने और पाचन सही रखने के लिए खाएं कमल ककड़ी की सब्‍जी

कमल ककड़ी को अंग्रेजी में लोटस स्‍टेम बोलते हैं। कमल ककड़ी का संबंध पानी से होता है क्योंकि कमल पानी में खिलता है ।कमल ककड़ी को तल कर हम चिप्स तो बनाते हैं ही लेकिन आप इसकी सब्जी और आचार भी बना सकते है। इसके फायदों के बारे में विस्तार से पढ़े।

वज़न प्रबंधन By अतुल मोदी / Feb 21, 2018

वजन कम करने में सहायक

कमल ककड़ी में ढेर सारा फाइबर होता है जो शुगर लेवल को कम करने में मदद करता है। साथ ही यह कब्‍ज से भी बचाता है और कोलेस्‍ट्रॉल को कम करता है। यह कम कैलोरी वाली होती है जिसमें ढेर सारे पोषक तत्‍व होते है। इसे खाने से पेट लंबे समय तक भरा रहता है। इसकी सब्‍जी खाने से मोटापा कम होने के साथ आपकी आंतों को स्‍वस्‍थ रखता है। कमल की जड़ में मौजूद पाइरोडॉक्सिन रक्त में होमोसिस्टीन के स्तर को नियंत्रित करता है जो सीधे दिल के दौरे को जन्म दे सकता है।

पेट की बीमारी के रखें दूर

कमल ककड़ी के नियमित सेवन से पेट से जुडी मारियाँ भी कम होती है इसलिए आप इसका नियमित सेवन कर सकते है ककड़ी के बीज पानी के साथ पीसकर चेहरे पर लेप करने से चेहरे की त्वचा स्वस्थ व चमकदार होती है। एंटीऑक्सिडेंट से समृद्ध कमल की जड़ त्वचा के कंडीशनर के रूप में काम करती है। इसके उपयोग से त्वचा हाइड्रेटेड और मॉइस्चराइज रहती है और त्वचा मुलायम और चमकदार बनती है। यह त्वचा की फाइन लाइन्स को हटाने, ब्राउन स्पॉट्स और झुर्रियों को हटाने में मदद करती है। इसका रस निकालकर मुंह, हाथ व पैर पर लगाने से वे फटते नहीं हैं तथा चेहरे की सुंदरता बढती है।

खून बढ़ाने में मदद

कमल ककड़ी में मिनरल, पोटैशियम, मैगनीशियम, थाइमीन, जिंक, आयरन और विटामिन ए बी सी होते है जो आपके शरीर को कई तरह की चीजों के लिए तैयार करते है और साथ ही आपकी इम्यून प्रणाली को भी मजबूत करते है। ये रेड ब्लड सेल्स और मांसपेशियों को मजबूत बनाने का काम करते है। इसके अलावा इसमें पोटेशियम पाया जाता है जो हमारे शरीर में तरल पदार्थ के संतुलन को बनाए रखता है। यह रक्तप्रवाह में सोडियम के प्रभावों को कम करता है।

इसे भी पढ़ें: पकाने के बजाय कच्चा खाएं ये 6 फूड्स, मिलेगा ज्यादा पोषण और कंट्रोल रहेगा वजन

गर्भावस्था मे लाभदायक

लोटस रूट गर्भवती महिलाओं के लिए बहुत अच्छा होता है। इसमें मौजूद पोषक तत्व गर्भ में पल रहे बच्चे के विकास लिए बहुत लाभदायक होते हैं। ककड़ी की जड़ 10 ग्राम, एक कप दूध व एक कप पानी में मसलकर धीमी आंच पर पकाएं। जब दूध शेष रह जाय तब गर्भवती स्त्री को पिलाने से गर्भावस्था में होने वाले उदरशूल से मुक्ति मिलती है। ककड़ी के बीजों को ठंडाई में पीसकर पीने से गर्मी मे होने वाली परेशानियों से छुटकारा प्राप्त होता है।

विषैले पदार्थो को बाहर निकाले

हमारे शरीर में पानी की मात्रा ही हमारे शरीर से विषैले पदार्थो को बाहर निकालने का काम करती है इसलिए ये भी होता है कि ककड़ी का सेवन आपके शरीर से अनचाहे पदार्थ भी बाहर करती है। कमल ककड़ी को खाने या ककड़ी व प्याज का रस मिलाकर पिलाने से शराब का नशा उतर जाता है। 

इसे भी पढ़ें: इस तरह बनाएं फास्ट फूड्स को हेल्दी, कंट्रोल रहेगा वजन और दुरुस्त रहेगी सेहत

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK