Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

वजन कम करना है तो खाओ दिन में छः मील!

दिन में छः मीन लेने से अपकी ऊर्जा का स्तर स्थिर हो सकता है। इससे आप ज्यादा खाने से बचते हैं और भोजन का पूरा लाभ मिलता है।

स्वस्थ आहार By Rahul SharmaJan 05, 2015

एक दिन में छः मील

यह अभी भी स्पष्ट नहीं है कि पारंपरिक तौर पर दिन में तीन भोजन लेने की तुलना में दिन की दृष्टिकोण से दिन में छः छोटे मील खाने से अधिक वजन घटाने में मदद मिलती है या नहीं। हालांकि, दिन में छः मीन लेने से अपकी ऊर्जा का स्तर स्थिर हो सकता है। इससे आप ज्यादा खाने से बचते हैं और भोजन का पूरा लाभ मिलता है। इस 6 मील डाइट प्लान की मदद से आप बर्न की गयी कैलोरी से कम का सेवन करते हैं और अतिररिक्त वजन कम कर पाते हैं। तो चलिये दिन के छः मील प्लान और वजन घटाने से जुड़े पहलुओं पर विस्तार से बात करते हैं।  
Images courtesy: © Getty Images

क्या है फायदा

एक बार में बहुत ज्यादा खाने के बजाए छोटे- छोटे और कई पौष्टिक आहार लना वज़न कम करनेका एक बड़ा कदम होता है। आहार में  एवाकाडो, रोटी, आलू, पॉल्ट्री, मछली व सलाद को शामिल करें। इससे मसल्स ग्रोथ होती है और फैट बढ़ने के बजाये हड्डियां मजबूत बतनी हैं।
Images courtesy: © Getty Images

छः मील की सलाह

सालों से दिन में तीन बार खाने का चलन चलता आ रहा है। लेकिन कुछ शोधों के बाद इसमें थोड़ा बदलाव आया है और अब आहार विशेषज्ञों ने दिन में तीन बार लिये जाने वाले मेन मील (ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर) के बीच में 2 से 3 बार स्नैक्स खाने की सलाह दी है। एक शोध में यह भी कहा गया कि रोजाना 6 बार खाना सेहत के लिए बेहतर होता है और इससे वजन सही बना रहता है। वहीं कुछ शोध बताते हैं कि दिन में छः मील लेने से मेटाबोलिज्म बेहतर होता है।
Images courtesy: © Getty Images

पांच बार खाना ही काफी

2003 में विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने निर्देश जारी किए कि लोगों को दिन में पांच बार फल सब्जी का सेवन करना चाहिए। लेकिन ब्रिटेन हुए एक नए शोध ने दिन में पांच की जगह सात बार खाने की बात कही। वहीं एक और ताजा शोध में इसकी जांच की गई और वैज्ञानिकों द्वारा पाया गया कि शरीर को जितना ज्यादा फल और सब्जियों से भरा आहार मिलगा, लाभ भी उतना ही बढ़ता जाएगा। लेकिन पांच बार के बाद लाभ  होना रुक जाता है, फिर चाहे आप सात बार ही क्यों ना खाएं, फायदा उतना ही मिलेगा जितना पांच बार खाने से होता है।
Images courtesy: © Getty Images

एक बार में 80 ग्राम

आहार विशेषज्ञों द्वारा एक बार में कम से कम 80 ग्राम खाने की सलाह दी जाती है। 80 ग्राम भोजन का आशय एक सेब, या एक कटोरी सलाद या फिर सब्जी के चार-पांच चम्मचों से है। जानकार मानते हैं कि अधिकांश लोग ऐसा दिन में ज्यादा से ज्यादा चार बार ही कर पाते हैं, इसलिए बेहतर स्वास्थ्य के लिये लोगों को अपनी दिनचर्या बदलने की जरूरत है।
Images courtesy: © Getty Images

बढ़ता है मेटाबॉलिज्म

कुछ शोधों के अनुसार कई बार खाना खाने से हमारे शरीर का मेटाबॉलिज्म दर बढ़ जाती है। (मेटाबॉलिज्म वह प्रक्रिया है जिसमें खाना पचने के बाद शरीर के सेल्स व टिश्यूज द्वारा उपयोग किये जाने योग्य बनता है।) मेटाबॉलिज्म के दौरान भोजन ऊर्जा, एंजाइम्स और फैट में परिवर्तित होता है। ऊर्जा शरीर को काम करने की शक्ति देती है, एंजाइम्स हॉर्मोंस बनाते हैं और पाचन में मदद करते हैं, वहीं फैट शरीर में जमा हो जाता है। यदि मेटाबॉलिज्म ठीक न हो तो शरीर में फैट की मात्रा बढ़ जाता है। इससे कॉलेस्ट्रॉल और ब्लड प्रेशर, दोनों बढ़ने को जोखिम अधिक हो जाता है।
Images courtesy: © Getty Images

एक मील में कितना खाएं

एक सर्विंग का मतलब एक सेब या एक नाशपाती, एक अमरूद या फिर एक कटोरा अंगूर या पपीता होता है। ठीक इसी प्रकार सब्जियों का अनुमान भी छोटी कटोरी से लगाया जा सकता है। अर्थात तमाम फल और सब्जियां मिलाकर यदि दिन भर में छः सर्विंग खाई जाएं तो हमारी सेहत में सुधार आता है और वजन भी कम होता है। सब्जियों और फलों को खाने के साथ-साथ बतौर स्नैक्स मील्स के बीच में खाने में भी कोई समस्या नहीं है।
Images courtesy: © Getty Images

सब पर लागू नहीं होता ये नियम

हालांकि कुछ शोध यह भी बताते हैं कि दिन में छः बार भोजन का यह नियम डायबिटीज व अन्य कुछ रोगों से पीड़ित व्यक्तियों पर लागू नहीं होता है। इसलिए इसे फॉलो करने से पहले एक बार अपने डायटीशियन से सलाह जरूर ले लेनी चाहिए।
Images courtesy: © Getty Images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK