• shareIcon

इन 2 छोटी बातों पर पार्टनर न करें लड़ाई, रिलेशन होगा कमजोर

आमतौर पर अलग विचार और अलग अपेक्षाओं के कारण रिश्तों में दरार पैदा हो जाती है। आइए इस स्‍लाइड शो जानें आखिर ऐसे कौन से कारण है जिनसे रिश्‍ते में दरार आ जाती है।

डेटिंग टिप्स By Rashmi Upadhyay / Apr 09, 2018

रिश्‍ते में अंतर आने के कारण

चाहे रिश्‍ता कितना भी मजबूत क्‍यों न हो लेकिन हर रिश्‍ते में कभी न कभी दरार आ ही जाती है। यहीं बात पति-पत्‍नी के रिश्‍ते में भी लागू होती है। संबंध अंतरंग और मजबूत होने के बावजूद भी इसमें दरार आने लगती है। अगर आपके रिश्‍ते में भी ऐसा हो रहा है तो अपनी गलतियों को स्‍वीकारें और कमियों को दूर करने की कोशिश करें। लेकिन सबसे पहले तो यह जानना बहुत जरूरी है कि आखिर रिश्‍ते में दरार के क्‍या कारण है। आमतौर पर अलग विचार और अलग अपेक्षाओं के कारण रिश्तों में दरार पैदा हो जाती है। आइए इस स्‍लाइड शो जानें आखिर ऐसे कौन से कारण है जिनसे रिश्‍ते में दरार आ जाती है।

रिश्‍ते को हल्‍के में लेना

गंभीर रिश्तों में दरार के यूं तो कई कारण जैसे वक्त की कमी होना, विचारों का आपस में ना मिलना जैसी चीजें हो सकती हैं। लेकिन रिश्‍ते को हल्‍के में लेना भी एक कारण है। डेली मेल पर प्रकाशित शोध के अनुसार, 2 साल 9 महीने के बाद लोग अपने ‌रिलेशनशिप को हल्के में लेने लगते है और इससे दरार होने की आशंका बढ़ जाती है।

 

सोशल मीडिया नेटवर्किंग साइट के कारण

वैसे तो रिश्‍तों में दरार आने के कई कारण हो सकते हैं लेकिन यूके में हुई एक शोध के अनुसार, यह बात समाने आई कि रिश्तों में दरार का एक बहुत बड़ा कारण सोशल मीडिया नेटवर्किंग साइट का इस्‍तेमाल है। शोध में सोशल मीडिया नेटवर्किंग साइट को रिश्तों में दरार का सबसे बड़ा कारण बताया है। इसके अलावा शोध में यह भी पाया गया कि सोशल मीडिया के कारण रिश्तों में गंभीरता खत्म होती जा रही है क्योंकि लोग अपने पार्टनर से बात करने की बजाय सोशल मी‌डया पर ज्यादा समय व्यतीत करते हैं। Image Courtesy: Getty Images

बातचीत का अभाव

कई बार एक दूसरे से खुलकर बात न करने के लिए रिश्‍ते में दरार आने लगती है। बातचीत एक सफल रिश्‍ते की नींव होती है खासकर पति-पत्‍नी के रिश्‍ते की। अगर आपके और आपके पार्टनर के बीच बातचीत अच्छी तरह से होती है तो रिश्तों में दरार पैदा होने की संभावना काफी कम हो जाती है।

आकर्षण

कई बार हम सिर्फ किसी को देखने मात्र से ही आकर्षित होकर रिश्‍ते की शुरूआत कर लेते हैं। बाद में उम्‍मीदों पर खरा न उतरने के कारण रिश्‍ते में तनाव पैदा होने लगता है। यह भी रिश्‍ते में दरार आने का बहुत बड़ा कारण होता है।  Image Courtesy: Getty Images

इच्‍छाओं के कारण

अधिकांश पुरुषों को क्रिकेट या फुटबॉल जैसे खेल देखना बहुत पसंद होता है। वह खेल प्‍यार ही नहीं करते बल्कि उसके प्रति बहुत भावुक भी होते है और अक्सर अपने दोस्तों के साथ खेल देखने पसंद करते है। जिनसे उनकी पार्टनर चिढ़ने लगती है। यह भी रिश्‍ते में दरार का कारण है। रिश्‍ते में दरार को दूर करने के लिए इन सब चीजों का ध्‍यान रखें और अपनी पार्टनर को भी इसका हिस्‍सा बनाएं। 

 

महिलाओं के स्‍वभाव के कारण

महिलाओं को दूसरों के साथ लंबी बातें करना बहुत पसंद होता है। इसलिए अगर आपकी गर्लफ्रेंड या पत्‍नी दूसरे लड़कों के साथ लंबी बात करती हैं, या फिर हमेशा किसी के भी साथ पार्टी में जाने के लिए तैयार रहती हैं। तो आपको अच्‍छा नहीं लगता, और उनके रिश्‍ते में दरार आने लगती है। Image Courtesy: Getty Images

स्‍वाभाविक रहें

कई बार एक-दूसरे को बदलने की कोशिश के कारण भी रिश्‍ते में दरार आने लगती है।  एक-दूसरे को बदलने की कोशिश और दबाव रिश्‍ते में खटास पैदा करने लगता है।  इसलिए आप जैसे हैं वैसे ही रहें और दूसरे को भी रहने दें। रिश्ते जोर-जबर्दस्ती से नहीं पनपते। जो जैसा है उसे स्वीकार लेने में ही समझदारी है। अपनी पसंद-नापसंद दूसरे पर थोपने के बजाय उसकी सराहना करें। जबर्दस्ती का दिखावा रिश्ते की मिठास कम कर देता है। Image Courtesy: Getty Images

एक दूसरे को नजरअंदाज करना

रिश्‍ते में एक-दूसरे को नजरअंदाज करना भी दरार का बहुत बड़ा कारण है। छोटे-छोटे झगडे कब बडा रूप ले लेते हैं, यह पता ही नहीं चलता। जब एक रिश्‍ते में दो लोग एक-दूसरे को सुनना और समझना ही नहीं चाहते तो यह खतरे की घंटी है। Image Courtesy: Getty Images

एक भोजन साथी के साथ करें

समय की कमी के कारण आजकल के लोग रिश्‍ते में एक-दूसरे को समय नहीं दे पाते। यह भी रिश्‍ते में अंतर पैदा कर सकता है। इसलिए जरूरी है कि कम से कम एक भोजन एक दूसरे के साथ करें। तो क्‍यों न अपने व्‍यस्‍त कार्यक्रम से कुछ समय निकाल कर अपने साथी के साथ भोजन किया जाएं।  Image Courtesy: Getty Images

सम्मान जरूरी


कई बार एक दूसरे का सम्‍मान न करना भी रिश्‍ते में दरार का कारण बन सकता है। प्यार और तकरार साइकिल के दो पहिये की तरह हैं। एक के बिना दूसरे की कल्‍पना नहीं की जा सकती। वैसे ही यह बात प्‍यार के रिश्‍ते में भी लागू होती। इसलिए एक-दूसरे के विचारों, भावनाओं और अपेक्षाओं का सम्मान जरूरी है। जिस रिश्ते में सम्मान होता है, वहीं प्यार भी होता है। सिर्फ एक-दूसरे का सम्मान ही काफी नहीं है, पार्टनर से जुडी हर चीज का सम्मान करें। Image Courtesy: Getty Images

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK