• shareIcon

अगरबत्‍ती का धुआं आपके लिए हो सकता है जानलेवा

अगरबत्‍ती और धूपबत्‍ती का प्रयोग लगभग सभी भारतीय घरों में होता है और लोगों का ऐसा मानना भी है कि इसके कारण घर का वातावरण शुद्द होता है, जबकि सच्‍चाई यह है कि यह आपके लिए जानलेवा भी हो सकता है।

एक्सरसाइज और फिटनेस By Nachiketa Sharma / Apr 15, 2015

नुकसानदेह है अगरबत्‍ती

अगरबत्‍ती को भले ही आस्‍था और धर्म से जोड़ा जाता है। लेकिन सच्‍चाई यह है कि यह हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बहुत ही खतरनाक है और इसके कारण कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी के होने का खतरा भी रहता है। एक शोध की मानें तो अगरबत्ती एवं धूपबत्ती के धुएं में पाए जाने वाले पॉलीएरोमैटिक हाइड्रोकार्बन (पीएएच) की वजह से अस्थमा, कैंसर, सरदर्द एवं खांसी की संभावना बढ़ जाती है। खुशबूदार अगरबत्‍ती को घर के अंदर जलाने से वायु प्रदूषण होता है विशेष रूप से कार्बन मोनोऑक्साइड फैलता है। इसलिए अब अपने बंद कमरे में अधिक अगरबत्‍ती और धूपबत्‍ती जलाने से बचें।

Image Source - Getty Images

कफ की समस्‍या

अगरबत्‍ती के संपर्क में अधिक देर तक रहने से कफ और छींकने की समस्‍या होती है। अगरबत्‍ती के धुएं से निकलने वाले कार्बन मोनोऑक्साइड के कारण फेफड़ों की कोशिकाओं में सूजन आ सकती है और श्वसन से संबंधित समस्याएं हो सकती हैं। इसलिए जब भी श्‍वांस के साथ आवश्यकता से अधिक मात्रा में धुआं शरीर के अंदर जाता है तो कफ और सांस की समस्‍या होती है।

Image Source - Getty Images

अस्‍थमा की संभावना

अगरबत्‍ती और धूपबत्‍ती में सल्‍फर डाईऑक्साइड, कार्बन मोनोऑक्साइड, नाइट्रोजन और फॉर्मल्डेहाईड मौजूद होते हैं, ये कण और गैस के रूप में मौजूद होते हैं। इनके संपर्क में अधिक समय तक रहने से अस्‍थमा और सीओपीडी जैसी श्‍वसन संबंधी समस्‍या हो सकती है।

Image Source - Getty Images

त्‍वचा और आंखों के लिए नुकसानदेह

अगर आप अधिक समय तक धूपबत्‍ती और अगरबत्‍ती के संपर्क में रहते हैं तो इसके कारण त्‍वचा और आंखों को समस्‍या हो सकती है। इसके कारण आंखों में जलन होती है। धुएं में मौजूद केमिकल के संपर्क में आने से त्‍वचा में जलन और खुजली महसूस होती है।

Image Source - Getty Images

मस्तिष्‍क के लिए नुकसानदेह

अगरबत्‍ती से निकलने वाला धुआं तंत्रिका को प्रभावित करता है। इसके कारण सिरदर्द, ध्यान केंद्रित करने में समस्या होना और विस्मृति आदि समस्‍यायें भी होती हैं। इसके कारण खून में जानलेवा गैसों की मात्रा बढ़ने से मस्तिष्क की कोशिकायें प्रभावित होती हैं जिसके कारण तंत्रिका से संबंधित समस्याएं हो सकती हैं।

Image Source - Getty Images

श्‍वसन कैंसर हो सकता है

इसके कारण श्वसन कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी हो सकती है। दरअसल लंबे समय तक अगरबत्ती का उपयोग करने से ऊपरी श्वांस नलिका का कैंसर होने का ख़तरा बढ़ जाता है। सल्‍फर डाईऑक्साइड, कार्बन मोनोऑक्साइड, नाइट्रोजन जैसे केमिकल श्‍वांस मार्ग को नुकसान पहुंचाकर संक्रमित कर देते हैं, इसके कारण ही कैंसर की संभावना बढ़ जाती है।

Image Source - Getty Images

शरीर में जमा होते हैं विषाक्‍त पदार्थ

अध्ययनों से पता चला है कि जब अगरबत्ती को जलाया जाता है तो इसके कारण विषाक्त धुंआ निकलता है जिसमें लेड (सीसा), आयरन और मैग्नीशियम जैसे नुकसानदेह तत्‍व होते हैं। इनके कारण शरीर में विषाक्त पदार्थों की मात्रा बढ़ती है। अगरबत्ती लगाने से जो धुंआ निकलता है उसके कारण रक्‍त विकार बढ़ता है और शरीर में टॉक्सिक पदार्थ बढ़ने लगते हैं।

Image Source - Getty Images

दिल के लिए भी नुकसानदेह

स्‍वस्‍थ दिल रहेगा तभी आपका शरीर भी स्‍वस्‍थ रहेगा। लेकिन लम्बे समय तक अगरबत्तियों का उपयोग करने से हृदय रोग से होने वाली मृत्यु की दर 10-12 प्रतिशत तक बढ़ जाती है। इसका मुख्य कारण अगरबत्ती जलाने पर श्वसन के द्वारा अंदर जाने वाला धुंआ है, क्‍योंकि इसमें मौजूद वाष्पशील कार्बनिक यौगिक और कणिका तत्व रक्त वाहिकाओं की सूजन बढ़ा देते हैं और इससे दिल की बीमारियां होने लगती हैं।

Image Source - Getty Images

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK