• shareIcon

रूट कैनाल ट्रीटमेंट को विस्तार से जानें

रूट कैनाल एक ऐसा इलाज है जसमें क्षतिग्रस्त या संक्रमित दांत को निकालने के जगह उसकी मरम्मत और साफ-सफाई की जाती है और फिर उन पर कैप लगाया जाता है।

दंत स्वास्‍थ्‍य By Rahul Sharma / Sep 09, 2014

रूट कैनाल ट्रीटमेंट

दांत के संक्रमण के लिए रूट कैनाल सबसे सही इलाज है। दंत चिकित्सा विज्ञान का प्रयास होता है प्राकृतिक दांतों को जहां तक संभव हो सुरक्षित रखा जाए। पहले दांतों में कीड़ा लगने पर धातुओं से उन्हें भरा जाता था या फिर बहुत खराब हो जाने पर दांत को ही निकाल दिया जाता था। लेकिन अब कीड़ा लगे दांतों को बचाने में रूट कैनाल ट्रीटमेंट बहुत कारगर इलाज के रूप सामने आया है। तो चलिये जानें रूट कैनाल पद्धति से जुड़ी जरूरी जानकारियां....
Image courtesy: © Getty Images

रूट कैनाल पद्धति मे क्या होता है?

रूट कैनाल एक ऐसा इलाज है जसमें क्षतिग्रस्त या संक्रमित दांत को निकालने के जगह उसकी मरम्मत की जाती है। शब्द "रूट कैनाल" दांत की जड़ के अंदर की कैनाल्स (canals) की सफाई से आता है। दशकों पहले, रूट कैनाल उपचार अक्सर दर्दनाक होता था। लेकिन अब नई तकनीक और लोकल एनेस्थेटिक्स की मदद से लोगों को दर्द कम ही होता है।
Image courtesy: © Getty Images

रूट कैनाल और रूट कैनाल ट्रीटमेंट को समझें

दांत के 3 भाग होते हैं, बाहरी भाग इनेमल, फिर दांत का मुख्य भाग डेंटीन और फिर दांतों का नर्म गूदा। नस एवं रक्त वाहिकाएं दांतों की जड़ (एपेक्स) के पास से अंदर जाती है और फिर जड़ के कैनाल से होते हुए पल्प चैंबर तक पहुंचती है। दांतों का दिखाई देने वाला मुकुट (क्राउन), के भीतर पल्प चैंबर होता है। रूट कैनाल उपचार में दांत के सूजे या संक्रमित पल्प को हटा दिया जाता है। रोग ग्रस्त (संक्रमित) पल्प को हटाने के बाद उस खाली जगह को साफ किया जाता है, और फिर उसे सही आकार देकर भरा जाता है। रूट कैनाल उपचार आने से पहले रोगग्रस्त दांत को निकाल दिया जाता था, लेकिन अब दांत निकालने की जरूरत नहीं पड़ती।
Image courtesy: © Getty Images

पल्प में सूजन के कारण व इसके लक्षण

दांतों में कीड़ा लगना (डीप केविटी), चोट लगना, दांत की सतह का बहुत अधिक घिस जाने आदि के कारण पल्प में सूजन या संक्रमण होता है। इसके लक्षणों में दांतों में असहनीय दर्द, ठंडा या गर्म खाने पर दर्द होना, सोते समय दांत में दर्द होना, दांत के कारण कान या सर में दर्द तथा मसूड़ों में सूजन एवं मवाद निकलना आदि शामिल होते हैं।
Image courtesy: © Getty Images

कितना समय लगता है

शुरुआती अवस्था में इलाज कराने पर एक अथवा दो सिटिंग में ही इलाज पूरा किया जा सकता है। अमूमन पहली सिटिंग में ट्रीटमेंट का समय 30 से 40 मिनट तक लग सकता है। लेकिन यदि किसी लापरवाह के चलते वहां संक्रमण हो जाए तो 4 से 5 सिटिंग और लग सकती हैं।
Image courtesy: © Getty Images

आधुनिक उपकरण

समय के साथ दंत चिकित्सा विज्ञान के आधुनिक उपकरणों ने जहां एक ओर मरीजों की पीड़ा को कम किया है वहीं दंत चिकित्सक का काम भी बेहद आसान बना दिया है। वायरलेस डिजिटल एक्स-रे जैसे उन्नत उपकरणों की मदद से रूट कैनाल ट्रीटमेंट अधिक कुशलतापूर्वक और कम समय में किया जा सकता है। एक्स-रे को कंप्यूटर पर दिखाया जा सकता है, जहां दांत का आकार भी बड़ा और स्पष्ट दिखाई देता है।
Image courtesy: © Getty Images

क्या बहुत होता है दर्द?

दंत चिकित्सा के समय मरीज को कितना दर्द होता है, यह बेहद महत्वपूर्ण होता है। यही नहीं लगभग सभी मरीज रूट कैनाल ट्रीटमेंट में होने वाले दर्द के बारे में जानना चाहते हैं। मरीज को सबसे पहले एंटीबायोटिक्स दिए जाते हैं ताकि संक्रमण का जोखिम कम हो जाए।  यदि मरीज को बहुत अधिक दर्द होता है तो लोकल एनेस्थेसिया दिया जाता है। यदि इससे भी दर्द न मिटे तो पल्प डिवाइटालाइजर का प्रयोग किया जाता है। इससे मरीज को बिलकुल दर्द महसूस नहीं होता।
Image courtesy: © Getty Images

रूट केनाल उपचार के बाद दांत कितने समय तक टिकेगा?

यदि दांतों का उचित ख्याल रखा जाए तो रूट कैनाल उपचार के बाद दांत जीवन भर साथ दे सकता है। लेकिन रूट केनाल उपचार के बाद भी आपके दांत में सड़न हो सकती है या छेद भी हो सकता है। तो यदि आप अपने दांत की उम्र बढ़ाना चाहते हैं तो उनकी उचित देखभाल और मौखिक स्वच्छता रखनी होगी। फ्लोराइड युक्त टूथ पेस्ट रोजाना दो बार ब्रश और फ्लोस अवश्य करें। साथ हीं साथ नियमित रूप से अपने दांतों का चेकअप एवं उसकी सफाई करवाएं।
Image courtesy: © Getty Images

इलाज के दौरान एवं बाद की सावधानियां

यदि रूट केनाल उपचार का सही लाभ लेना चाहते हैं तो सबसे जरूरी बात की उपचार अधूरा नहीं छोड़ें, चिकित्सक द्वारा दिए गए समय पर अवश्य जाएं (टलाएं नहीं), चिकित्सक की सलाह के अनुसार फिलिंग या कैप अवश्य लगवाएं और साफ साफाई का पूरा ध्यान रखें। यदि चिकित्सक द्वारा कोई एंटिबायोटिक दवा दी गई है तो बताए गये समय तक उसे लें।
Image courtesy: © Getty Images

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK