• shareIcon

ये सात टिप्‍स आजमायें और रिश्‍ते से गुस्‍सा दूर भगायें

गुस्‍सा आपके विवेक को खा जाता है और विवेक के अभाव आपके रिश्‍ते को भी काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। तो इन टिप्‍स को आजमाकर आप अपने रिश्‍ते से गुस्‍से को हमेशा के लिए बाहर कर सकते हैं।

डेटिंग टिप्स By Bharat Malhotra / Nov 07, 2014

गुस्‍सा खाये प्रेम को

प्रेम दो अतिरेक लोगों के बीच हुआ कोई समझौता नहीं है। यह उससे काफी ज्‍यादा है। यह वास्‍तव में दो लोगों को पूर्ण बनाने वाला माध्‍यम है। और प्‍यार जीवनभर कायम रहे इसके लिए जरूरी है कि आप निरंतर स्‍वयं की खोज करते रहें। लेकिन, आखिर प्रेम के बीच गुस्‍सा कैसे आ जाता है। कैसे आप एक दूसरे की बातों पर आपा खो बैठते हैं। हालांकि बाद में आपको अहसास होता है कि शायद आपने सही नहीं किया, लेकिन तब तक देर हो चुकी होती है। बेहतर है कि हम उन उपायों के बारे में जानें जो आपके रिश्‍ते को खराब कर रही हैं। Image Courtesy- Getty Images

आप नहीं मैं कहें

आप क्‍या कहते हैं इस पर ही निर्भर करता है कि आपका रिश्‍ता। आपकी बात कुछ इस तरह कही जानी चाहिये कि यह किसी पर आरोप न लगे। उदाहरण के लिए अगर आप कहते हैं, 'फ्रिज की गंदगी मुझे बहुत बुरी लगती है, मुझे बहुत खुशी होगी अगर मैं इस काम में तुम्‍हारी मदद कर सकूं। जब तक यह साफ नहीं होगा, मुझे आराम नहीं आएगा।' Image Courtesy- Getty Images

बोलने से पहले दस तक गिनें

गुस्‍सा कम करने का यह बहुत पुराना और कारगर तरीका माना जाता है। असल में यह अपने आप को मौका देने का एक तरीका है। जब आप गुस्‍से में होते हैं, तो बिना सोचे-समझे कुछ भी बोले जाते हैं। इसलिए जरूरी है कि आप गुस्‍से में कुछ भी बोलने से पहले एक बार शांतचित्‍त से सोचें। और दस तक गिनना उसी प्रक्रिया का हिस्‍सा है। Image Courtesy- Getty Images

दूसरे को समझें

इस बात को जानने का प्रयास करें कि आखिर आपका साथी इस दौरान कैसा महसूस कर रहा है। उस परिस्थिति में खुद को रखकर देखें और महसूस करें कि इस दौरान आपका व्‍यवहार कैसा होता। और जब आप खुद का अपने साथी की जगह रखकर देखते हैं, तो आपको अहसास होता है कि आपका रूखा व्‍यवहार कितना नाजायज था। यह एक कारगर और शक्तिशाली तरीका है, इससे आपको एक दूसरे को बेहतर तरीके से समझने और दूसरे की भावनाओं का सम्‍मान करने की प्रवृत्ति विकसित होती है। Image Courtesy- Getty Images

ध्‍यान से सुनें

कई बार हम अपने साथी की बात को पूरा सुने बगैर ही उत्‍तर दे देते हैं। या कई बार कहा कुछ और जाता है और समझा कुछ और जाता है। इसलिए जरूरी है कि जब कभी भी ऐसी दुविधात्‍मक परिस्थिति आए तो अपने साथी की बात को दोहरा लें। इससे यह पता चल जाएगा कि आखिर उसने क्‍या कहा है और किस लहजे से कहा है। कहने के तरीके से बात का अर्थ बदल जाता है। और अगर आप अपने साथी की बात को दोहरा लेंगे तो यह परिस्थिति उत्‍पन्‍न नहीं होगी और आप उसकी भावनाओं को अच्‍छी तरह समझ जाएंगे। Image Courtesy- Getty Images

शारीरिक जुड़ाव

अपने साथी को गले लगाने और छूने में शरम कैसी। किसी भी अच्‍छे प्रेम-संबंध के लिए शारीरिक संबंधों का अच्‍छा होना जरूरी माना जाता है। इससे आप दोनों के भावनात्‍मक संबंध भी मजबूत होते हैं। इससे तनाव भी दूर होता है और आप दोनों एक दूसरे के अधिक करीब आते हैं। Image Courtesy- Getty Images

दूरियां पाटें

रिश्‍तों में असहमति होना लाजमी है। और आपको इसका सामना करना ही पड़ेगा। लेकिन, आप इन असहमतियों का सामना कैसे करते हैं, इसी बात पर निर्भर करता है कि आपका रिश्‍ता किस दिशा में आएगा। तो, बात कीजिये। जानने की कोशिश कीजिये कि आपकी किस बात या किस आदत से आपके साथी को परेशानी होती है। ऐसी कौन सी चीजें हैं जो आपको एक दूसरे से दूर ले जा रही हैं। या कौन सी ऐसी बातें हैं जिनके कारण आप दोनों के रिश्‍ते के बीच गुस्‍सा आ जाता है। Image Courtesy- Getty Images

सहानुभूति

सहानुभूति व्‍यावहारिक भावना नहीं है। इसके लिए आपको खुद को प्रशिक्षित करना पड़ता है। आपको अपने साथी से इस बाबत रोज बात करनी चाहिये कि आखिर वह कैसा महसूस कर रहा है। एक दूसरे की बातों को सुनना और समझना काफी महत्‍वपूर्ण है। साथ बैठिये, एक दूसरे के दिल की बात सुनिये। जानने की कोशिश कीजिये कि आखिर आपका साथी किस मनोदशा से गुजर रहा है। आंखों में आंखें डालकर बैठिये और एक दूसरे को समझने और जानने का प्रयास कीजिये। Image Courtesy- Getty Images

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK