Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

क्या आपका स्मार्टफोन बना रहा है आपको बुद्धू

हाल में हुए एक शोध के अनुसार वे लोग जो रात 9 बजे के बाद देर रात तक स्मार्टफोन का इस्तेमाल अधिक तरते हैं, अगले दिन उसका प्रभाव उनका कार्यक्षमता और रचनात्मकता पर नकारात्मक हो सकता है।

मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य By Rahul SharmaJan 25, 2015

स्मार्टफोन बना रहा है आपको डम्ब

ये ज़मान सिर्फ मोबाइल फोन का नहीं बल्कि स्मार्टफोन का है। बाजार में इनके बढ़ते विकल्पों और कम कीमतों के चलते इन दिनों लगभग हर किसी के हाथ में स्मार्टफोन दिखाई देता है। तकनीकी रूप से उन्नत फीचर और ऐप्स के चलते स्मार्टफोन आपके लिए बहुत सी सहूलियतें तो जुटाता है लेकिन इसके कुछ नुकसान भी हैं। स्मार्टफोन के ऊपर लोगों की बेतरतीब निर्भरता की वजह से कई बार लोग कुछ बेवकूफी भरी चीज़ें कर बैठते हैं। दूसरे शब्दों में कहें तो
आपका स्मार्टफोन आपको सफी हद तक बुद्धू बना रहा है। चलिये जानें कैसे -  
Images courtesy: © Getty Images

हर एक बात पर नोटिफिकेशन

आपका स्मार्टफोन आपको हर छोटी-बड़ी बात का नोटिफिकेशन देता है। जिससे आपको बार-बार अपनी जेब या पर्स से फोन निकालकर चेक करने की आदत पड़ जाती है। कई बार तो ये आदत इतनी खराब हो जाती है कि जब फोन वाइब्रेट नहीं भी होता है तब भी आपको उसका वाइब्रेशन महसूस होता है।
Images courtesy: © Getty Images

जबड़ा लटक जाने का खतरा

मोबाइल और लैपटॉप जैसी आधुनिक टेक्नोलॉजियों के दीवानों का जबड़ा लटक जाने का खतरा है। इसकी वजह है कि यह लोग बहुत समय तक अपना सिर झुकाए काम करते हैं। जिससे चेहरे की मसल्स और त्वचा लचीले हो जाते हैं। इसलिये इस फिनोमिना को 'स्मार्टफोन फेस' कहा गया है। शायद इसी की वजह से स्किन टाइटनिंग ट्रीटमेंट्स और चिन इम्प्लांट्स का दौर जोरों पर है।
Images courtesy: © Getty Images

दिशाएं और जरूरी नंबर न याद रहना

लोग इन दिनों जीपीएस पर इतने निर्भर हो गए हैं कि कहीं जाने से पहले न रास्ते के बारे में पूछना जरूरी समझते हैं और न ही रास्तों को याद करना। बस फोन का जीपीएक ऑन किया और सपर चालू। और फिर हर मोड़ जीपीएस के हिसाब से लेने लगते हैं। लोकिन कई बार जीपीएस काम न करने या फोन किसी वजह से बंद हो जाने पर आप रास्ता भटक सकते हैं।
Images courtesy: © Getty Images

चीज़ें याद रखने की क्षमता में कमी

शायद ही अब हममें से किसी को भी एक दो से ज्यादा फोन नंबर याद हो पाते हैं। हम सारे नंबर फोन में फीड रखते हैं, दिमाग में नहीं। तो इस तरह से हमारा स्मार्टफोन हमरी याद्दाश्त को भी कमजोर बना रहा है।
Images courtesy: © Getty Images

कार्यक्षमता कम हो जाती है

स्मार्टफोन पर जो लोग देर रात तक अपने ऑफिस का या दूसरे काम करते हैं, वो अपने दिमाग को इतना अधिक बोझिल कर देते हैं कि अगले दिन की कार्यक्षमता अपने आप ही कम हो जाती है और हम अगले दिन कम काम कर पाते हैं या काम को लेकर अधिक रचनात्मक नहीं हो पाते हैं।
Images courtesy: © Getty Images

स्मार्टफोन को लोगों से ज्यादा अहमियत देना

इस तरह की बेवकूफी लगभग हम सभी करते हैं। हम अपने आसपास के लोगों को भूल जाते हैं और अगर कुछ ध्यान रहता है तो बस अपना स्मार्टफोन। सोशल मीडिया कई लोगों को करीब जरूर लाया है लेकिन करीबियों के बीच इसकी वजह से दूरीयां भी बढ़ी हैं।
Images courtesy: © Getty Images

कई और फोबिया

पहले से चर्चा में चल रहे मोबाइल फोन से होने वाले रेडिएशन से इतर अन्य कई चिंताओं से भी स्मार्टफोन से जुड़े नए फोबिया जन्म ले रहे हैं। जैसे मोबाइल के कवरेज एरिया से बाहर चले जाना, सोशल नेटवर्किंग और मोबाइल पर बातचीत के चलते असली दुनिया से कट जाना जो अकेलेपन और अवसाद की ओर ले जाता है।

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK