• shareIcon

2017 में करें इन बुरी आदतों को बाय-बाय!

साल बीत रहा है, बैठकर जरा सोचिये कि इस साल आपके भीतर क्‍या खामियां रहीं। कौन सी आदतों ने आपके लिए परेशानियां खड़ी कीं। जानिये और नये साल में उन्‍हें दूर करने का प्रयास कीजिये।

तन मन By अतुल मोदी / Dec 27, 2016

क्‍या करेंगे नये साल में

साल बीत रहा है और आपने इसके लिए योजनायें भी बना ली होंगी। अगले साल आपको क्‍या करना है। कैसे करना है। क्‍या हैं अगले साल के आपके रिज्‍योल्‍युशन। बहुत कुछ सोचा होगा आपने। लेकिन, यह भी सोच‍ा है कि क्‍या हैं जो अगले साल आपको नहीं करने हैं। ऐसे काम जो आपके व्‍यक्तित्‍व को निखारने का काम करते हैं। ऐसे काम जो आपको बेहतर बनाने का काम करते हैं। हम सबमें खामियां होती हैं, और उन्‍हें दूर कर बेहतर इनसान बनना यही तो जीवन प्रक्रिया है। इन्‍हे जानिये और यह महसूस कीजिये कि आखिर कैसे आप खुद को तनाव से दूर रख बेहतर जीवन व्‍यतीत कर सकते हैं।

Image Source : Getty

नया सोचें

जब यह साल शुरू हुआ था, तो आपने अपने लिए‍ कितनी योजनायें बनायीं थीं। क्‍या-क्‍या ख्‍़वाब सजाये थे। आप कितना कुछ सीखना चाहते थे। अपने करियर को लेकर भी आपने कुछ सोचनायें जरूर बनायी होंगी। यह भी सोचा होगा कि रोज जिम जाना है और पहले से फिट होना है। नया हुनर सीखना है और नये काम करने हैं। लेकिन, अब जब साल खत्‍म होने को है, तो आप पाते हैं कि उनमें से अधिकतर काम अधूरे हैं। जिम आप कभी गए नहीं और सैलरी भले ही इस साल अधिक न बढ़ी हो, लेकिन कमर जरूर पहले से बहुत बढ़ गयी है। करियर को लेकर बनायी योजना पर आप चले नहीं। और जो स्विमिंग सीखने का आपने जो फैसला किया था, वह तो पूरा हुआ ही नहीं। लेकिन, इन सब बातों पर खून जलाने से कुछ नहीं होगा। अगर आज आप बीते साल से बेहतर स्थिति में हैं, तो इसका अर्थ यही है कि आपने इस साल जो भी किया उसी वजह से आप आज यहां तक पहुंच पाए हैं। जो हुआ उससे सीखकर आगे बढ़ने की सोचें।

Image Source : Getty

विचारों को बदलें

अपने जीवन को नकारात्‍मकता से स्‍वतंत्र करें। यही वो चीज है जिसकी वजह से आप आगे नहीं बढ़ पा रहे हैं। 'मैं यह नहीं कर सकता' से तो काम होगा नहीं। या फिर काम न कर पाने के बहाने तलाशने से भी बात बनने वाली है नहीं। आपको यह समझना होगा कि जब तक आप सोच नहीं बदलेंगे हालात भी वैसे ही रहेंगे। जैसी आपके विचार होते हैं, वैसे ही आप हो जाते हैं। इसलिए अपने विचारों को सकारात्‍मक रखिये और जीवन के लक्ष्‍यों के प्रति ईमानदार रहें। अपनी क्षमताओं को पहचानें और उनका पूरा इस्‍तेमाल करें।

Image Source : Getty

चुनौतियों से क्‍या घबराना

किसी काम को करने से पहले उसका आकलन करना अच्‍छी बात है। लेकिन, केवल और केवल उसकी चुनौतियों के बारे में बात करते रहना ठीक नहीं। कोई भी काम बिना चुनौतियों के नहीं हो सकता। धरती में बीज बोने के लिए उसके सीने को चीरना पड़ता है। पत्‍थर भी बिना छैनी की मार के मूर्ति नहीं बन पाता। जीवंतता इसी में है कि हम चुनौतियों को स्‍वीकार करें। याद रखिये, कोई भी मुश्किल तभी तक हमारे सामने रहती है, जब तक हम उससे पार पाने का तय नहीं कर लेते।

Image Source : Getty

सभी सुलझाने की जिद

सब चीजें आपकी पसंद की नहीं होती। और हो भी नहीं सकतीं। आप क्‍यों हर चीज को सुलझाना चाहते हैं। कई बार चीजों को सुलझाने के प्रयास में वे और उलझ जाती हैं। वक्‍त खुद कई गिरहों को खोल देता है। कुछ परेशानियों को वक्‍त के भरोसे छोड़ देना चाहिये। समय के साथ-साथ चीजें अपने आप सही होने लगती हैं। यह भी संभव है कि आज कुछ चीजें आपके लिए मायने न रखती हों, लेकिन वह दिन भी आएगा जब वह आपके लिए सही हो सकता है। किसी भी व्‍यक्ति या चीज को बेकार मत समझिये।

Image Source : Getty

कब सुधरेंगे हालात

हम अकसर इस बात को लेकर रोते रहते हैं कि हमारे लिए हालात खराब हैं। परिस्थितियां हमारे अनुकूल नहीं हैं। तमाम कोशिशों के बावजूद चीजें सही नहीं हो रहीं। लेकिन, वास्‍तव में ऐसा नहीं है। चीजें उतनी बुरी भी नहीं होतीं, जितनी कि आप समझते हैं। आपको बस अपना नजरिया बदलने की जरूरत है। वास्‍तव में चीजें उतनी खराब होती नहीं हैं, जितनी कि वे नजर आती हैं। अगर हम हौसले के साथ अपना काम करने का प्रयास करें तो हालात बेहतर और बेहतर हो सकते हैं।

Image Source : Getty

हर बार मेरे साथ ही क्‍यों

आप हर बार यह सवाल पूछना बंद कीजिये कि आखिर आपके साथ ही बुरा क्‍यों होता है। परिस्‍थितियां आपके लिए सबसे बड़ी शिक्षक होती हैं। जो वे आपको सिखा सकती हैं, वह आप किसी भी अन्‍य विद्यालय में नहीं सीख सकते। हालात को कोसने से काम नहीं बनेगा। आपको हालात का सामना करना होगा। साचिये आखिर आप इस परिस्थिति से क्‍या सीख सकते हैं। हर बात से कुछ सीखिये और जीवन में नया करने का प्रयास कीजिये। हर गलती आपको कुछ सिखाती है और आपको उसे सीखने के लिए तैयार रहना चाहिये। हां यह प्रयास करना चाहिये कि भविष्‍य में वह गलती न हो।

Image Source : Getty

फल पर तुम्‍हारा अधिकार नहीं

श्रीकृष्‍ण ने गीता में कहा कि कर्म करना तुम्‍हारा अधिकार है, लेकिन फल पर तुम्‍हारा कोई अधिकार नहीं है। यानी आप केवल काम कर ध्‍यान लगाइये और इस बात को समझ लीजिये कि जरूरी नहीं आपको अपेक्षित परिणाम ही मिले। लक्ष्‍य तक की यात्रा ही प्रेरणादायी होती है। आपको चाहिये कि उन पर अपना ध्‍यान केंद्रित करें। हो कसता है कि आपको वह न मिले जो आपको पसंद हो, लेकिन आपकी आवश्‍यकतायें हमेशा पूरी होती हैं।

Image Source : Getty

खुद को कोसें नहीं

हर इनसान से गलतियां होती हैं। ऐसा कोई नहीं जो इससे बचा हो। स्‍वामी विवेकानंद ने कहा है जिस दिन आपने कोई गलती नहीं की, उस दिन आपने कुछ नया नहीं सीखा। अपनी गलतियों को पकड़कर न रखें। हर इनसान गलती करता है, लेकिन कामयाब वही होते हैं, जो अपनी गलतियों से सीखने का माद्दा रखते हैं। आप अपनी ग‍लतियों से आगे बढ़ें। आप अपनी गलतियों के मोहताज नहीं हैं। गलतियां तो आपके विकास का हिस्‍सा होती हैं।

Image Source : Getty

हर बार हों सही

किसी को गलत साबित करने का अर्थ यह नहीं होता कि आप सही हैं। इससे अच्‍छा है कि आप अपने भीतर सामंजस्‍य और प्‍यार तलाशें। जब आप अपनी पसंद को लेकर आत्‍मविश्‍वास से भरपूर होते हैं, तो आपको किसी को कुछ भी साबित करने की जरूरत नहीं होती। आपका काम खुद आपकी पहचान होता है। व्‍यर्थ की बहस में अपनी ऊर्जा न गंवायें। आपकी अतार्किक बातें सुनकर जो लोग चुप हो जाते हैं, वे वास्‍तव में ज्‍यादा समझदार हैं क्‍योंकि वे अपना समय और ऊर्जा बेकार नहीं करते।

Image Source : Getty

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK