• shareIcon

जानें क्यों जरूरी है नाश्ता करना और क्या है इसकी जरूरत?

पूरा दिन काम करने के लिए आपके शरीर को पर्याप्‍त मात्रा में ऊर्जा की आवश्‍यकता होती है। और इस ऊर्जा के लिए नाश्‍ते से बेहतर और कुछ नहीं। आइए इस स्‍लाइड शो के जरिये जाने नाश्‍ता हमारे लिए क्‍यों जरूरी हैं।

एक्सरसाइज और फिटनेस By Rashmi Upadhyay / Dec 16, 2018

सुबह का नाश्‍ता

पूरा दिन काम करने के लिए आपके शरीर को पर्याप्‍त मात्रा में ऊर्जा की आवश्‍यकता होती है। और इस ऊर्जा के लिए नाश्‍ते से बेहतर और कुछ नहीं। इसलिए नाश्‍ते को दिन का सबसे महत्‍वपूर्ण भोजन माना जाता है। दरअसल, रात के खाने के बाद हम काफी लंबे समय तक कुछ नहीं खाते, ऐसे में सुबह का नाश्‍ता पौष्टिक तत्‍वों से भरपूर होना जरूरी होता है।

खाली पेट बनता है एसिड

वैज्ञानिक दृष्टिकोण से देखें तो खाली पेट रहने से पेट में जो पाचन रस उत्‍पन्‍न होते हैं, उनसे एसिड बनने लगता है। इससे एसिड से हमारी आंतों को तो नुकसान पहुंचाता ही हैं साथ ही हम कमजोर भी होने लगते हैं। सही मायनों में देखा जाए तो नाश्ता ना करने का अर्थ है शरीर को पर्याप्त ऊर्जा ना मिलना।

अनहेल्‍थी खाने की तड़प

अगर नाश्‍ता नहीं करते है तो कुछ समय बाद खाने की इच्‍छा होती है और फिर हम पूरा दिन कुछ न कुछ खाते ही रहते हैं। ऐसे में हम भूख मिटाने के चक्‍कर में हम अनहैल्‍दी फूड लेने लगते हैं।

मैटाबोलिज्‍म पर असर

मैटाबोलिज्‍म हमारे शरीर का वह ईंधन है जिससे हमारा शरीर ठीक से काम करता है। विभिन्‍न कार्य को करने के लिए मस्तिष्‍क और स्‍नायुतंत्र को इस ईंधन की आवश्‍यकता होती है। इसकी पूर्ति न होने पर बॉडी अनहैल्‍दी फूड खाने लगता है। इस तरह से अगर आप सुबह का नाश्‍ता नहीं लेते तो इसका असर आपके मैटाबोलिज्‍म पर असर पड़ता है।

क्‍या है मैटाबोलिज्म

मैटाबोलिज्‍म वह प्रक्रिया है, जिसमें बॉडी भोजन को एनर्जी में बदलती है। ताकि बॉडी का कार्य ठीक से चलता रहे। नाश्ता पूरी रात की नींद के बाद मैटाबोलिज्म को काम पर लगाता है। अगर नाश्ता न किया जाए तो बॉडी में मैटाबोलिज्म की प्रक्रिया धीमी होने के कारण कैलोरी जलने के स्‍थान पर बॉडी में जमा होने लगती हैं।

नाश्‍ते के बिना दिन गुजरे ना

युवा लोग मानते है कि अगर वह सुबह नाश्‍ता नहीं करेंगे तो उनपर इसका कोई असर नहीं पड़ेगा। लेकिन उनका सोचना गलत हैं। नाश्ता न करने का परिणाम युवा अवस्था में भी कम नुकसानदेह नहीं है। अगर पौष्टिक नाश्ता उचित मात्रा में न लिया जाए तो शरीर कमजोर हो जाता है व दिनभर काम करना मुश्किल हो जाता है।

मोटापे का खतरा

नाश्‍ता न करने से डायबिटीज व मोटापे जैसी परेशानियां भी घेर सकती हैं। दिन का भोजन कम मात्रा में हो या थोड़ी देर से भी हो, तो चल सकता है लेकिन सुबह का नाश्ता अच्छी मात्रा में, पौष्टिक व स्वास्थ्यवर्धक होना बहुत जरूरी है।

महिलाओं के लिए भी जरूरी नाश्‍ता

हैल्थ इज वैल्थ सिर्फ यह कहावत तो आपने सुनी होगी यह महज एक कहावत नहीं, बल्कि जिन्दगी की हकीकत है। अक्सर महिलाएं सुबह के नाश्ते को नजरअंदाज करती हैं। वे घर के लोगों के खानपान पर तो पूरा ध्यान देती हैं लेकिन स्‍वयं को हमेशा भूल जाती हैं। उनके लिए भी ब्रेकफास्ट करना जरूरी है। सुबह का नाश्ता दिनभर की एनर्जी तो देता ही है, साथ ही यह शरीर को संतुलित भी बनाए रखता है। इसलिए चाहे वह युवा हो, बुजुर्ग हो, बच्‍चा हो या फिर महिला सभी के लिए नाश्‍ता जरूरी है।

दिन भर रखता है संतुष्‍ट

नाश्ता अधिक फैट बर्न करके आपके मैटाबोलिज्म को बढा देता है। नाश्‍ता अगर प्रोटीनयुक्त और फैट फ्री किया जाए तो दिन में अधिक खाने की इच्‍छा नहीं होती है। साथ ही नाश्‍ते में न्यूट्रिशन फूड ना लेने की वजह से वजन बढता है। जिसे कम करना आसान नहीं होता।

चुस्‍त बनाये नाश्‍ता

बॉडी में एनर्जी और दिन भर स्‍फूर्ति को बनाए रखने के लिए ताजा और पौष्टिक तत्वों से युक्त नाश्ता करना चाहिए। ऐसा नाश्‍ता लेना चाहिए जो ईंधन की तरह काम करे। काबोंहाइडे्ट युक्त नाश्‍ता सबसे बेहतर होता है। यह आहार ग्लूकोज को धीरे-धीरे रक्तप्रवाह में जाने देता है। जिससे आप लम्बे समय तक चुस्त बनी रहती है।

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK