• shareIcon

भोजन को दूषित करने वाले तत्‍वों का सेवन कैसे करें कम

स्‍वस्‍थ और पौष्टिक आहार के सेवन की जितनी जरूरत होती है उससे कहीं अधिक जरूरत इस बात पर ध्‍यान देने की है कि आप जो खा रहे हैं वो विषाक्‍त न हो, थोड़ी सावधानी से भोजन को दूषित करने वाले तत्‍वों से बच सकते हैं।

एक्सरसाइज और फिटनेस By Aditi Singh / Apr 16, 2015

आहार कैसे होता है विषाक्‍त

स्‍वस्‍थ और साफ आहार का सेवन करने से ही बीमारियों के होने का खतरा कम रहता है। लेकिन हवा में कई तरह के वायरस और बैक्टीरिया होते हैं, जो हमारे पानी और खाने की चीजों में मिल कर उन्हें विषाक्त कर देते हैं। इनका सेवन करने से ये वायरस हमारे शरीर में प्रवेश कर जाते हैं और कई संक्रामक बीमारियों का कारण भी बनते हैं। इसके कारण पाचन संबं‍धित समस्‍या होती है और शरीर कमजोर होने लगता है। लेकिन कुछ बातों का ध्‍यान रखकर भोजन को दूषित करने वाले तत्‍वों के सेवन को कम किया जा सकता है।
ImageCourtesy@Gettyimages

पानी का रखें खयाल

पानी पीने से पहले यह पता करना जरूरी है कि वह पानी साफ है या नहीं। कई बीमारियों को फैलाने वाले सूक्ष्म जीव पानी में रहते हैं। अगर शक हो तो केवल मिनरल वॉटर का ही सेवन करें। बॉडी में पानी की कमी से ब्लड सर्कुलेशन कम हो जाता है, जिससे ब्रेन में सही मात्रा में लिक्विड नहीं पहुंच पाता। इसका असर ब्रेन की क्षमता पर पड़ता है, और हमें थकान महसूस होती है। इसलिए रोजाना कम से कम 7-8 गिलास पानी पिएं।
ImageCourtesy@Gettyimage

किचन की सफाई

रसोई में भी कई भयानक बीमारियों वाले जीवाणु होते हैं जो खाने के जरिये पेट में जाते हैं। कटिंग बोर्ड पर मांस या कोई भी सब्जी काटने के बाद इसे धोना जरूरी है। इस्तेमाल से पहले चेक कर लें कि आप धुला हुआ बोर्ड ही इस्तेमाल कर रहे हैं। आपके घर में इस्तेमाल होने वाले तरह तरह के ब्रश भी कई बीमारियों का घर हो सकते हैं। इस्तेमाल के बाद इन्हें धो कर रखना चाहिए। अगर मुमकिन हो तो ब्रश को हर महीने बदलें।
ImageCourtesy@Gettyimage

हाथों की रखें सफाई

एक बात याद रखें कि कहीं भी बाहर से घर आने के बाद, किसी बाहरी वस्तु को हाथ लगाने के बाद, खाना बनाने से पहले या खाने से पहले, बाथरूम का उपयोग करने के बाद हाथों को अच्छी तरह साबुन से धोएं। औषधीय साबुन से अपने हाथ धोएं, ताकि किसी प्रकार के कीटाणु न रहें।
ImageCourtesy@Gettyimage

हरी सब्जियां है जरूरी

खाने में हरी साग- सब्जियां, सलाद, दही, दूध, दलिया, दाल, अंकुरित चने आदि का प्रयोग जरूर करें। इसमें भरपूर मात्रा में पौष्टिक तत्व मौजूद होते हैं, जो आपके स्वास्थ्य के लिए जरूरी होता है। खाना पकाने के लिए अनसैचुरेटेड वेजिटेबल ऑयल जैसे- सोयाबीन, सनफ्लॉवर, मक्का या ऑलिव ऑयल का ही प्रयोग करें। जंकफूड, सॉफ्ट ड्रिंक आदि के सेवन से बचें। रात का खाना हल्का-फुल्का लें। इससे खाना पचने में आसानी होगी।
ImageCourtesy@Gettyimage

प्रोसेस्ड फूड से बचें

क्या आपको प्रोसेस्ड फूड सुविधाजनक लगता है? यदि ऐसा है तो इस बात को समझ लें कि प्रोसेस्ड फूड में सोडियम की मात्रा अधिक होती है। उसमें सैचुरेटेड फैट ज्यादा होता है। उनमें पौष्टिक तत्व कम और फाइबर भी कम होता है। ऐसे भोज्य पदार्थों से जितना परहेज रखें, उतना अच्छा है। इनके बजाए ताजी सब्जियां खाएं। यदि आपको मजबूरी वश प्रोसेस्ड फूड खरीदना ही पड़े तो ऐसा फूड खरीदें जिनमें अनाज भरपूर मात्रा में हों, जैसे गेहूं की ब्रेड, पास्ता वगैरह। इनमें वसा कम होती है और सैचुरेटेड फैट नहीं होता।
ImageCourtesy@Gettyimage

एक साथ ना खरीदें सब्जियां

पूरे हफ्तेभर के फल और सब्जियां आप रेफ्रीजरेटर में जमा कर रख लेते हैं। रेफ्रीजरेटर में सप्ताह भर की सब्जियां और फलों को एकसाथ रखने से उनके पौष्टिक तत्व नष्ट हो जाते हैं। फलों और सब्जियों में पौष्टिकता बरकरार रखने के लिए जरूरी है कि आप उन्हें थोड़ी मात्रा में खरीदें। हो सके तो फल और सब्जियों को गर्म पानी में धोकर इस्तेमाल करें।
ImageCourtesy@Gettyimage

जरूरी हैं कुछ सावधानियां

एक बार में भरपेट भोजन करने के बजाय थोडे-थोड़े अंतराल पर फल या दूसरे स्‍नैक्‍स लें। इससे बारिश के मौसम में एक तो पाचन संबंधी समस्याओं से दूर रहेंगे, दूसरे आवश्यक पौष्टिक तत्वों की आपूर्ति होगी। ताजा और गर्म भोजन ही खाएं। अगर भोजन बच भी जाता है तो उसे एयरटाइट कंटेनर में बंद करके फ्रिज में रखना चाहिए। 24 घंटे से पहले बने भोजन को न खाएं। ऐसा भोजन खाने से आधा घंटा पहले उसे फ्रिज से निकालकर सामान्य ताप में लाएं और फिर उसे गर्म करें।
ImageCourtesy@Gettyimage

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK