• shareIcon

काम को न आने दें रिश्ते के आड़े

बहुराष्ट्रीय कंपनियों के भारी-भरकम सैलरी पैकेज पाने के एवज में कर्मचारियों को रोजाना औसतन 12 से 16 घंटे काम करना पड़ता है, जिसका असर रिश्तों पर पड़ता है।

डेटिंग टिप्स By Rahul Sharma / Oct 31, 2014

काम को रखें रिश्ते से अलेदा

मशहूर शायर फैज अहमद फैज ने कहा था......

वो लोग बहुत खुशकिस्मत थे,
जो इश्क को काम समझते थे,
या काम से आशिकी करते थे,
हम जीते जी मशरूफ रहे,
कुछ इश्क किया कुछ काम किया,
काम इश्क के आड़े आता रहा,
और इश्क से काम उलझता रहा,
फिर आखिर तंग आकर हमने,
दोनों को अधूरा छोड़ दिया....!!!


भागदौड़ भरी इस ज़िंदगी में अक्सर काम हमारे रिश्तों के आड़े आ जाता है। जिसके कारण रिश्ते टूटने-बिखरने लगते हैं। इसलिए काम और रिश्तों के बीच सामन्जस्य बनाना बेहद जरूरी होता है। तो चलिये जानें की कैसे काम को न आने दें रिश्ते के आड़े।
Image courtesy: © Getty Images

बढ़ गया है दफ्तर का दख़ल

दफ्तरों में काम के घंटों की दृष्टि से नौ से पांच की अवधारणा अब पुरानी हो चुकी है। बहुराष्ट्रीय कंपनियों के भारी-भरकम सैलरी पैकेज पाने के एवज में कर्मचारियों को रोजाना औसतन 12 से 16 घंटे काम करना एक आम बात होती जा रही है। जो यकीनन उनके रिश्तों पर नकारात्मक असर डाल रही है। पारिवारिक रिश्तों पर पड़ रहा है, जिसके चलते रिश्तों में तनाव, तलाक और एकल परिवारों में बच्चों की समस्याएं बढ़ रही हैं।
Image courtesy: © Getty Images

भारतीय कर्मचारियों पर भी भारी असर

एक ताज़ा अध्ययन के अनुसार प्रौद्योगिकी की वजह से कर्मचारियों की निजी जिंदगी में नौकरी का दखल 24 घंटे तक हो गया है। मा फोई रैनस्टैड वर्कमॉनिटर सर्वे 2012-वेव 1 के अनुसार, आज-कल भारतीय कर्मचारियों को निश्चित रूप से काम और निजी जिंदगी के बीच संतुलन बैठाने में भारी कठिनाई हो रही है।
Image courtesy: © Getty Images

करियर के साथ कुछ यूं संभालें अपना रिश्ता

साथी के साथ ज्यादा वक्त बिताने के लिए दफ्तर से बहुत ज्यादा छटि्टयां ना लें। याद रहे कि रिश्तों के साथ आपका काम भी बेहद जरूरी है। दोनों को साथ लेकर चलते हुए अपने रिलेशनशिप और करियर दोनों के बीच संतुलन बनाएं। काम के वक्त सिर्फ काम और पार्टनर के साथ बस उन्हीं के बारे में सोचें। इस बीच अपने काम का तनाव न लें।
Image courtesy: © Getty Images

परिवार और रिश्ते हमेशा पहले दर्जे पर

कार्यालय से जल्दी निकलकर परिवार और साथी के साथ समय बिताने के संदर्भ में 'लीव वर्क ए बिट अर्लीयर' नामक पुस्तक लिखने वाली जेनी मैगरूडर कहती हैं कि परिवार के साथ समय बिताना खुशहाल जीवन की कुंजी होती है। उनके अनुसार एक योग्य इंसान को कभी भी दूसरी नौकरी मिल सकती है, लेकिन परिवार की पतवार एक बार हाथ से छूटी तो दोबारा पकड़ में नहीं आती।
Image courtesy: © Getty Images

साथ बिजनेस करने से पहले रखें ध्यान

साथ में बिजनेस शुरू करने से पहले ये तय कर लें कि किसकी क्या ज़िम्मेदारी है। साथ ही बिजनेस से संबंधितक सभी बातें दफ्तर में ही करें, इन्हें कभी घर न लेकर आएं। साथ ही पर्सनल और बिजनेस आउटिंग्स को भी अगह ही रखें।
Image courtesy: © Getty Images

एक ही क्षेत्र में काम करने पर

यदि दोनों लोग एक ही क्षेत्र में काम करते हों तो रिश्तों और काम दोनों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ने का अशंका अधिक हो जाती है। तो इससे बचने के लिए दोनों को एक दूसरे की मदद के लिए तैयार रहना चाहिये। लेकिन निर्भर कतई नहीं होना चाहिए।
Image courtesy: © Getty Images

दफ्तर में देर तक काम

जब आप अपने साथी को बोलते हैं कि शात छः बजे तक आ जाएंगे, और फिर बहुत सारे काम को निपटाने के लिए देर रात तक काम करते हैं, और फिर रात दस बजे घर लोटते हैं, तो यकीन मानिये आपकी पत्नी का मन आपको घर से बाहर निकान देने का करता है। इससे बचने के लिए समय से काम पूरा करें और वादा करने से पहले एक बार क्रोसचैक कर लें।
Image courtesy: © Getty Images

घर से भी काम

जब शनिवार रात को हॉलिडे प्लानिंग की जगह जब आप देर रात तक लैपटॉप पर चिपके दफ्तर का काम कर रहे होते हैं, और अगले दिन देर तक सोते हुए संडे गुजार देते हैं, तो कुछ समय बाद ये घर से काम की आदत आपके रिश्तों पर भारी पड़ सकती है। बेहतर होगा की दफ्तर का काम दफ्तर में ही निपटाएं।    
Image courtesy: © Getty Images

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK