• shareIcon

महिला से कैसे जतायें प्‍यार

महिलायें प्‍यार जताने को लेकर खुलकर बात नहीं करतीं। लेकिन, ऐसा नहीं कि इसके सुख और आनंद से पूरी तरह अनजान होती हैं। लेकिन, कहते हैं किसी भी काम को अगर करीने से किया जाए, तो उसका मजा ही अलग होता है। तो, फिर 'लव-मेकिंग' इससे अलग कैसे हुआ।

सभी By Pradeep Saxena / May 21, 2014

महिलाओं की चाहत अलग नहीं

वे भले ही इस बारे में बात न करें। लेकिन, महिलाओं को भी सेक्‍स पसंद होता है। उतना ही जिनता पुरुष इसे चाहते हैं। और शायद उससे भी ज्‍यादा। और आप अपनी महिला साथी को असंतुष्‍ट तो नहीं रखना चाहेंगे। महिलाओं की चाहत को पूरा कीजिए। इससे आप भी खुश और आपकी साथी भी। image courtesy : getty images

भावनात्‍मक शुरुआत

सेक्‍स केवल शारीरिक मिलन नहीं। यह तो भावनात्‍मक संबधों की पराकाष्‍ठा है। यह तो प्रेम यज्ञ है। और यज्ञ में देह मात्र आहुति है। लेकिन, पुरुष अकसर इस भावनात्‍मक पक्ष को देखते ही नहीं। उनकी आंखें तन को पार कर मन को देख ही नहीं पातीं। और इसलिए तन से तन का मिलन होने के बाद भी पूरी तरह अनछुआ सा रह जाता है मन। दैहिक मिलन से पहले, महिलायें मन से शांत होना चाहती हैं। वे खुद को इस सबके लिए तैयार करना चाहती हैं। और आपको उन्‍हें ऐसा करने देने में मदद करनी चाहिए। आखिर इस सफर पर आप दोनों हमसफर हैं। इसका सबसे आसान तरीका है, उनकी सुनिये। सुनिये वह क्‍या कहना चाहती हैं। बस टकटकी लगाए उन्‍हें देखते रहिये और सुनते रहिए उनकी दिल की बात। एक बार वह तनावमुक्‍त हो जाए। फिर आप दोनों मिलकर उस शाम को हसीं बना सकते हैं। image courtesy : getty images

दैहिक मिलन का आधार

आप कहीं भी साथ वक्‍त बिता रहे हों, जरूरत है रिलेक्‍स होने की। अपनी महिला साथी को उस माहौल में सहज होने का पूरा अवसर और समय दें। प्‍यार की लौ में जगमगाती शमा की मद्धम-मद्धम रोशनी, हल्‍के-हल्‍के सुरूर सा संगीत, आप दोनों के बीच इश्‍क और खुलूस की वो रोशनी बिखेर देंगा कि बस पूछिये मत। आपकी छुअन बढ़ा देगी उनके भीतर प्‍यार की अगन। और वह भी खुद को रोक नहीं पाएंगी आपको छूने से। छुअन का यह अहसास उस सफर का शुरुआती कदम है, जिस पर आप दोनों चल निकले हैं। अगर आप घर पर हैं, तो उसे दे सकते हैं एक हॉट बाथ। आप दोनों टब में साथ वक्‍त बिता सकते हैं। प्‍यार, रूमानियत और इश्‍क से भरा वक्‍त। और इस वक्‍त से हसीं भला और क्‍या हो सकता है। image courtesy : getty images

बस अब छुअन का इंतजार

भले ही आप दोनों बेसब्र हो रहे हों। लेकिन, जल्‍दबाजी अभी अच्‍छी नहीं। हुजूर सहज पके सो मीठा होए। उतावलापन मत दिखाइये। उनकी जुल्‍फों से खेलिये। उन्‍हें बाहों ले लीजिए। जरा चूमिये उनके उस हाथ को जिसे थामने का ख्‍वाब आप कब से देखते चले आए हैं। उनके उन कंधों को सहलाइये, जिस पर सिर टिकाकर आप भूल जाते हैं सब गम। याद रखिये महिलाओं को जल्‍दबाजी पसंद नहीं। और गर्म-गर्म खाने के चक्‍कर में कहीं मुंह न जला बैठें। उन्‍हें धीरे-धीरे आनंद लेना अधिक भाता है। यूं ही रफ्ता-रफ्ता चलती प्‍यार की इस गाड़ी का सफर जल्‍दी ही अपनी मंजिल के अगले पड़ाव पर पहुंचने को है। image courtesy : getty images

आगे बढ़ें

चूमकर अपने प्‍यार की पहली मुहर अंकित करें। आपके प्‍यार का अहसास भीतर समा जाना चाहिए। उसे लगना चाहिए कि वह ही आपकी चाहत है। वह आपकी जरूरत, हसरत है, चाहत है, ना कि आपकी बांदी। महिलाओं की उत्‍तेजना उस वक्‍त और बढ़ जाती है जब उसके वासनोत्‍तेजक हिस्‍से पर आप अपना प्‍यार न्‍यौछावर करते हैं। इससे पहले कि आप अपने जिस्‍म को कपड़ों रूपी पिंजड़े से आजाद करें आप उनके होंठों और गर्दन को चूम सकते हैं। अपने प्‍यार का अहसास करा सकते हैं। कानों को चूमते हुए हौले से 'आई लव यू' कह सकते हैं। image courtesy : getty images

हमसे सनम क्‍या पर्दा

बेपर्दा होने का भी अंदाज होता है। यह धीमा-धीमा और मनभावन होना चाहिए। यह कुछ ऐसा होना चाहिए कि उसकी तड़प बढ़ती रहे। जल्‍दबाजी और बेसब्री नहीं, चतुराई और संयम से काम लीजिए। उसे थोड़ा चिढ़ाइये। कुछ ऐसा कीजिए कि लव-मेकिंग को लेकर स्‍वयं को रोक पाना उसके लिए मुश्किल हो जाए। कुछ कीजिए, कुछ छोडि़ये। इसी पोजीशन में आप उसे किस कर सकते हैं। यह जरा-जरा सा रिझाना उनके मन में आपके लिए तड़प को और बढ़ा देगा। image courtesy : getty images

चाहत को बढ़ाइए

अभी उसकी अपर बॉडी पर ही ध्‍यान लगाइये। उसे सहलाइये। और तब तक अपर बॉडी को मत छोडि़ये जब तक आप उसे पूरी तरह सहला नहीं लेते। आगे बढ़ने से पहले इस बात को लेकर पूरी तरह आश्‍वस्‍त जो जाएं कि महिला अब संभोग के लिए पूरी तरह तैयार है। संयम और उत्‍सुकता के मेल से उसकी उत्‍तेजना कई गुना बढ़ जाएगी। बस अब आप मंजिल के बेहद करीब आ चुके हैं। चंद कदम और, और फिर... image courtesy : getty images

जरा निहारिये

अब आपके सामने हुस्‍न का ताजमहल खड़ा है। करीने से तराशा हुआ, बेपर्दा हुस्‍न। तो, कुछ देर उसका दीदार कीजिए। उसे निहारिये। उसके उस रूप को आंखों में उतार लीजिए। सिर से लेकर पांव तक उसके हर अंग को आंख भर कर देखिये। 98 फीसदी ऑर्गेज्‍म भगशेफ की उत्‍तेजना से हो जाते हैं। और याद रखिये अपने साथी के इस हुस्‍न को देखना और उसकी तारीफ करना, आपका 'फर्ज' है। image courtesy : getty images

मंजिल आने को है

अधिकतर महिलाओं को भगशेफ की उत्‍तेजना के महज 5 से 20 मिनट के बीच ऑर्गैज्‍म हो जाता है। आपको अपने साथी को चरमोत्‍कर्ष जरूर देना चाहिए। अब आप इसे संभोग से पहले देना चाहते हैं या बाद में यह पूरी तरह आपकी इच्‍छा पर निर्भर करता है। आप चाहें तो दोनों तरीके आजमा सकते हैं, देखिये कि आपके लिए क्‍या काम करता है। image courtesy : getty images

अब साथ तुम्‍हारा

ऑर्गेज्‍म तक पहुंचने के बाद महिलायें संभोग के लिए पूरी तरह तैयार होती हैं। महिलायें लालसा के इस समुंदर में अपने साथी के साथ मिलकर ही गोता लगाना चाहती हैं। यह गोता कितनी देर लगा यह बात मायने नहीं रखतीं, क्‍योंकि थोड़ी देर भी आपको पूरी तरह भिगो देती है। तो अगर आप जल्‍दी ही स्‍खलित हो गए हैं, तो कुछ देर उत्‍तेजना लौटने का इंतजार कीजिए और स्‍वर्ग की इस आनंददायक इस यात्रा पर फिर निकल पडि़ये। image courtesy : getty images

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK