Women Health: ब्रेस्‍ट को हेल्‍दी रखने के लिए महिलाओं को जरूर पता होनी चाहिए ये 10 बातें

स्तन या ब्रेस्‍ट न सिर्फ महिलाओं की सुंदरता बल्कि स्वास्थ्य की दृष्टि से भी बेहद महत्वपूर्ण होते हैं, लेकिन अधिकांश महिलाओं को पता ही नहीं होता, कि उन्हें ब्रेस्ट की देखभाल कैसे करनी चाहिए।

महिला स्‍वास्थ्‍य By सम्‍पादकीय विभाग / Sep 26, 2014
स्तनों की देखभाल

स्तनों की देखभाल

सुनने में थोड़ा अजीब है, लेकिन महिलाओं के स्तन अर्थात ब्रेस्ट हमेशा से ही सेक्सुअल आकर्षण का केंद्र रहे हैं। इसी कारण महिलाएं इनके आकार और लुक को लेकर सजग रहती हैं। स्तन न सिर्फ आकर्षण बल्कि स्वास्थ्य की दृष्टि से भी बेहद महत्वपूर्ण होते हैं। लेकिन अधिकांश महिलाओं को पाता ही नहीं होता, कि उन्हें ब्रेस्ट की देखभाल कैसे करनी चाहिए! तो चलिये जानें कि अपने स्तनों को स्वस्थ और सुडौल रखने के लिए क्या किया जाए। 

बहुत कुछ बताते हैं स्तन

बहुत कुछ बताते हैं स्तन

आपको यह जानकर आश्चर्य होगा, लेकिन जब कोई महिला गर्भधारण करती है तो इसकी जानकारी उसके पेट से पहले ब्रेस्ट दे देते हैं। प्रेगनेंसी की पहली तिमाही में ब्रेस्ट मुलायम होकर बदलने लगते हैं। इसका अ र्थ होता है कि महिला का शरीर स्तनपान के लिए तैयार हो रहा है।

वज़न नियंत्रित करें

वज़न नियंत्रित करें

अपना बॉडी मास इंडेक्स 23 से कम ही बनाकर रखें। क्योंकि रजोनिवृत्ति के बाद शरीर के वजन के बढ़ने से ब्रेस्ट कैंसर का जोखिम काफी बढ़ जाता है। इसलिए वजन को नियंत्रित कर के रखें।

 

नियमित व्यायाम करें

नियमित व्यायाम करें

एक्टिव लाइफस्टाइल को अपनाएं और रोज़ कम से कम 30 के लिए व्यायाम करें। आप एरोबिक एक्सरसाइज कर सकती हैं। हफ्ते में पांच दिन एक्सरासइज करने से इम्यून पावर बूस्त होती है, कई रोग दूर रहते हैं। इससे स्तनों का आकार भी ठीक रहता है।

शराब का सेवन कम करें

शराब का सेवन कम करें

शराब का सेवन स्तन कैंसर के सबसे बढ़े आहार जोखिम कारक में से एक है। वे महिलाएं जो दिन में दो ग्लास से अधिक एल्कोहॉल का सेवन करती हैं, उन्हें स्तन कैंसर का जोखिम सबसे अधिक होता है।

अधिक सब्जियां खाएं

अधिक सब्जियां खाएं

पत्तेदार सब्जियों, जैसे ब्रोकोली, गोभी, फूलगोभी आदि के रोज छोटे सर्विंग्स लें। इस के अलावा रोजना बदल-बदल कर पत्तेदार साग, गाजर, टमाटर, खट्टे फल, जामुन और चेरी आदि का सेवन किया करें। 

मां बनने का फैंसला

मां बनने का फैंसला

हो सके तो तीस साल का होने से पहले ही मां बनने का अवसर प्राप्त करें। छह महीने या उससे अधिक समय के लिए अपने बच्चों को स्तनपान कराने वाली माताओं में स्तन कैंसर के विकास का जोखिम बहुत कम हो जाता है।

स्मोकिंग को कहें ना

स्मोकिंग को कहें ना

धूम्रपान के कारण ब्रेस्ट ढीले पड़ जाते हैं। यूनिवर्सिटी ऑफ केनटरकि के शोधकर्ताओं के मुताबिक धूम्रपान की वजह से ब्रेस्ट में पाए जाने वाला इलास्टिन नामक प्रोटीन कमजोर हो जाता है। (यह प्रोटीन ब्रेस्ट्स को सही आकार में रखता है)। इसके अलावा वजन में कमी, गर्भधारण और हार्मोंस में परिवर्तन भी ब्रेस्ट ढीले होने का कारण हो सकता है।

फैमली हिस्ट्री जानें

फैमली हिस्ट्री जानें

ब्रेस्ट कैंसर के लगभग 15 प्रतिशत मामलों में, इस समस्या का परिवारिक इतिहास देखा गया है। यदि आपके घर में किसी फस्ट-डिग्री संबंधी को ब्रेस्ट कैसेर हुआ हो तो आपको भी इसके प्रति सचेत रहने की जरूरत होती है।    

ब्रा का सही चुनाव

ब्रा का सही चुनाव

ब्रा का उपयोग आयु और अवसर के अनुसार करना चाहिए। पार्टी आदि में जाने के लिए चुस्त पैड वाली, स्कूल-कॉलेज जाने के लिए या घर में रहना हो तो बिना पैड वाली सूती और अविकसित स्तन के लिए पैड वाली ब्रा पहनना चाहिए। लेकिन घर वापस आने पर सूती कपड़े वाली ब्रा पहन लेना चाहिए। साथ ही रात में सोते समय ब्रा को उतार देना चाहिए। वहीं गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को मैटरनिटी ब्रा का उपयोग करना चाहिए।

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK