• shareIcon

व्‍यायाम के जरिये कैसे पायें ऑर्गेज्‍म

ऑर्गेज्‍म यानी सेक्‍स का चरम सुख। अक्‍सर महिलाओं को साथी के साथ संभोग के बाद भी ऑर्गेज्‍म नहीं होता। लेकिन कुछ व्‍यायाम ऐसे हैं जो आपको ऑर्गेज्‍म का सुख दे सकते हैं।

सभी By Pradeep Saxena / Aug 07, 2014

व्‍यायाम से होता है फायदा

अगर आपको पता चले कि वर्कआउट का एक फायदा बेहतर ऑर्गेज्‍म भी है, तो बेशक आप जिम में अधिक पसीना बहाना चाहेंगी। यह भी हो सकता है कि आपको हमारी बात पर विश्‍वास न हो। अमेरिका के इंडियाना सेंटर में हुए सर्वे के मुताबिक कुछ व्‍यायाम महिलाओं में ऑर्गेज्‍म को बेहतर बनाती हैं। Image Courtesy- Getty Images

बहुत काम के व्‍यायाम

क्रंच, प्‍लैंक आदि व्‍यायाम महिलाओं के सेक्‍स जीवन को बेहतर बनाने में मदद करते हैं। इन व्‍यायामों को कॉरगेज्‍म कहा जाता है। और तो और आपको सेक्‍स के दौरान चरम पर पहुंचने के लिए सेक्‍स के बारे में फंतासी भी नहीं करनी पड़ती। Image Courtesy- Getty Images

क्‍यों होता है ऐसा

हम सब ऐसा सोचते हैं कि आखिर व्‍यायाम और ऑर्गेज्‍म का क्‍या संबंध है। हालांकि इसके पीछे कोई एक खास वजह तो नहीं बतायी गयी, लेकिन इतना जरूर कहा गया कि 'क्‍यूरिस क्‍लाइमेक्‍स' तब होता है जब पेट की मांसपेशियों का सही इस्‍तेमाल होता है। और आमतौर पर ऐसा उन व्‍यायाम में होता है जिनमें घर्षण की जरूरत होती है। एक अन्‍य शोध के मुताबिक श्रोणिक और पेट की मांसपेशियों का व्‍यायाम भगशेफ पर गहरा दबाव डालता है। इससे व्‍यायाम के दौरान यौनिक क्षेत्र में रक्‍त प्रवाह का बढ़ना भी एक कारण हो सकता है। Image Courtesy- Getty Images

तो कैसा करें व्‍यायाम

तो, आखिर कौन से ऐसे व्‍यायाम हैं जो आपको रोमांचित कर सकते हैं। जब एक्‍सरसाइज से ऑर्गेज्‍म की बात की जाती है तो मुख्‍य रूप से पेट की मांसपेशियों का व्‍यायाम किया जाता है। इनमें रस्‍सी या खम्‍भा चढ़ना और वेट लिफ्टिंग आदि शामिल हैं। और एक्‍सरसाइज इंड्यूस्‍ट सेक्‍सुअल प्‍लेजर (ईआईएसपी) की बात जाए तो बाइकिंग, एरोबिक्‍स और योग को इसमें शामिल किया जा सकता है। Image Courtesy- Getty Images

कॉरगेज्‍म वर्कआउट

अगर आप इस अनोखे, कोर-प्रेरित क्‍लाइमेक्‍स को हासिल करना चाहती हैं, तो हमारी सलाह है कि आप इन व्‍यायामों को अपनी रोजाना की जिंदगी का हिस्‍सा बनायें। Image Courtesy- Getty Images

हैंगिंग स्‍ट्रेट लेग रेज

एक पुल-अप बार से लटक जाएं। आपका शरीर दोनों हाथों के बीच होना चाहिये। अपनी टांगों और कमर को सीधा रखें और धीरे-धीरे झूला झूलें। अपनी टांगों को जमीन के समांतर मोड़ें और उस पोजीशन में रुके रहें। इस प्रक्रिया को छह बार दोहरायें। आप जब अपनी टांगों को ऊपर कर रही हों, तो उन्‍हें झुलायें नहीं। अपने कूल्‍हों को नीचे की ओर धकेलें, जैसे आप किसी कुर्सी पर बैठे हों। image courtesy- diyhealth.com

हैंगिंग साइड क्रंच

बार से लटक जाएं। इसे पकड़ते समय आपकी हथेलियां बाहर की ओर होनी चाहिये। अपने घुटनों को ऊपर उठा लें। आपकी जांघें धड़ के मुकाबले 90 डिग्री के कोण में होनी चाहिये। इसके बाद अपने बायीं टांग को आगे की ओर उठायें। अपने मूलाधार को खुद को स्विंग करने के लिए इस्‍तेमाल करें। इसी प्रक्रिया को दायीं टांग से दोहरायें। दोनों ओर से इस प्रक्रिया को 20-20 बार करें। Image Courtesy- diyhealth.com

सिंगल लैग प्‍लैंक


जमीन पर लेट जाएं और अपने घुटनों को मोड़कर रखें। आपके पैर जमीन पर ही लगे होने चाहिये। अपने हाथों को छाती पर लगाकर रखें और अपनी दाहिनी टांग के निचले हिस्‍से को तब तक ऊपर उठायें जब तक यह आपकी बायीं टांग की जांघों के समांतर नहीं आ जाती। अपने पैर से जमीन पर जोर डालिये और अपने धड़ को ऊपर जांघों के समांतर उठायें। इस पोजीशन में रुकें। एक मिनट के लिए आराम करें। और फिर इस प्रक्रिया को दूसरी टांग से दोहरायें। Image Courtesy- diyhealth.com/

ऑर्म पुल ओवर स्‍ट्रेट-लैग क्रंच


चार-पांच किलो के डम्‍बल हाथ में लेकर अपनी कमर के बल पर लेट जाएं। आपके हाथ आपके पीछे होने चाहिये। अपनी टांगों को 45 डिग्री के कोण पर मोड़ें। अपने बाजुओं को छाती तक लाएं और अपने कंधों को भी मैट से ऊपर उठा लें। इस प्रक्रिया के साथ-साथ ही अपनी टांगों को ऊपर की ओर उठायें। ऐसा तक तक करें जब तक आपकी टांगे जमीन के समांतर नहीं हो जातीं। इस प्रक्रिया को दोहरायें। अपने पैर जमीन पर न लगने दें। Image Courtesy- diyhealth.com/

मेडिसिन बॉल ब्‍लास्‍ट

एक एडजेस्‍टेबल एब बैंच को 45 डिग्री के कोण पर सेट करें। अपना सिर जमीन की ओर रखें और अपने पैरों को पैडल सपोर्ट बार में फंसायें। जब आप नीचे जाएं तो अपने सीने के पास एक मेडिसन बॉल पकड़ लें। जैसे आप ऊपर आएंगें बॉल छाती से लगकर ऊपर की ओर चली जाएगी। बॉल को ऊपर जाते हुए पकड़ें और फिर नीचे आ जाएं। इस प्रक्रिया को दोहराते रहें। Image Courtesy- diyhealth.com/

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

Trending Topics
    More For You
    This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK