• shareIcon

सीओपीडी होने पर इन 6 तरीकों से बढ़ाए वजन

वजन का कम होना अच्‍छी बात है, लेकिन क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिसीस (सीओपीडी) के साथ नहीं। आइए इस स्‍लाइड शो के माध्‍यम से जानें कि सीओपीडी के कारण कम होने वाले वजन को किस प्रकार से बढ़ाया जा सकता है।

वज़न प्रबंधन By Devendra Tiwari / Apr 18, 2016
सीओपीडी होने पर वजन बढ़ाने के टिप्‍स

सीओपीडी होने पर वजन बढ़ाने के टिप्‍स

वजन का कम होना अच्‍छी बात है, लेकिन क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिसीस (सीओपीडी) के साथ नहीं। इस फेफड़े की बीमारी में, क्रोनिक ब्रोंकाइटिस और वातस्‍फीति भी शामिल है, व्‍यक्ति का  वजन बहुत और मसल्‍स बहुत ज्‍यादा कम हो जाती है। सीओपीडी के चार में एक लोग बहुत ही पतले होते हैं। आइए इस स्‍लाइड शो के माध्‍यम से जानें कि सीओपीडी के कारण कम होने वाले वजन को किस प्रकार से बढ़ाया जा सकता है।

सीओपीडी क्‍या है

सीओपीडी क्‍या है

क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिसीस (सीओपीडी), जिसे क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव लंग्स डिसीस (सीओएलडी), तथा क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव एयरवे डिसीस (सीओएडी) भी कहा जाता है। क्रॉनिक ऑब्स्ट्रक्टिव पल्‍मोनरी डिजीज को सामान्य भाषा में क्रॉनिक ब्रोंकाइटिस या फेंफड़े की बीमारी भी कहते हैं। इस बीमारी का सीधा संबंध शरीर में ऑक्सीजन के घटते प्रवाह से होता है। शरीर में ऑक्सीजन पहुंचाने वाले छोटे-छोटे वायु तंत्रों में गड़बड़ी के चलते सांस लेना तक दूभर होने लगता है। आम तौर पर यह समय के साथ बिगड़ता जाता है। इसके मुख्य लक्षणों में सांस में कमी, खांसी, और कफ उत्पादन शामिल हैं। क्रॉनिक ब्रोंकाइटिस से पीड़ित अधिकांश लोगों को सीओपीडी होता है।

वजन को कैसे बनाये रखें

वजन को कैसे बनाये रखें

"सीओपीडी के अंतिम स्‍टेज में, वजन घटाने को रोकने का एक प्रमुख मुद्दा होता है," अमेरिकी डाइटटिक एसोसिएशन के प्रवक्ता एमडी, आरडी क्रिस्टीन जर्ब्सटैट कहते हैं। "सांस लेने में बहुत ज्‍यादा कैलोरी लगती है।"
सामान्य तौर पर ज्‍यादा प्रोटीन और अधिक कैलोरी खाना चाहिए, जबकि पोषण पर नजर रखना- वजन कम होने को रोकने का एक अच्छा तरीका है। यहां दिये उपायों की मदद से आप सीओपीडी के साथ वजन को बनाये रख सकते हैं।

हेल्‍दी फैट को शामिल करें

हेल्‍दी फैट को शामिल करें

वजन बढ़ाने के लिए आपको अपने आहार पर ध्‍यान देना होगा। पंजीकृत आहार विशेषज्ञ डॉक्‍टर क्रिस्टीन गरबसटड कहते हैं कि आप मानो या न मानो लेकिन वजन बढ़ाने के लिए हाई फैट फूड सबसे अच्‍छे फूड ग्रुप में से एक है और आपको सीओपीडी की समस्‍या के साथ वजन बढ़ाने के लिए इसपर ध्‍यान केंद्रित करना होगा। क्‍योंकि जिस तरह फैट पच जाता है वह पचाने के लिए अन्‍य फूड की तरह श्‍वसन प्रणाली पर असर नहीं करता। आप अधिक स्‍वाद को मिला सकते हैं लेकिन कैलोरी को कुशलता से जोड़ने के लिए आपको अपने चयापचय का ध्‍यान रखना होगा, ताकी यह सांस लेने के प्रयास में मदद करत सकें। इसके लिए आपको सादी उबली हुई सब्जियों को खाने की बजाय सलाद में ऑलिव ऑयल को शामिल करना चाहिए।

अंडों का अधिक सेवन

अंडों का अधिक सेवन

अंडे स्‍वस्‍थ पोषक तत्‍वों से भरपूर होते हैं, वजन बढ़ाने के लिए आपको इनका सेवन करना चाहिए। साथ ही इसे बनाने में बहुत ज्‍यादा समय भी नहीं लगता है। सीओपीडी के रोगियों के लिए यह फायदेमंद साबित होगा, क्‍योंकि उनमें विस्‍तृत भोजन को तैयार करने के लिए इतनी एनर्जी नहीं होती है। अंडे में मौजूद प्रोटीन के कारण सीओपीडी के रोगी इसे अपने आहार में अधिक मात्रा में ले सकते हैं।

लीन मीट को चुनें

लीन मीट को चुनें

सीओपीडी के रोगियों को अधिक प्रोटीन की जरूरत होती है, इसलिए आप लीन मीट को चुन सकते हैं। मीट में फैट अधिक संतृप्‍त और कोलेस्‍ट्रॉल में अधिक होता है। इसके लिए आप लीन मीट के टुकड़ों को विनग्रेट (लहसुन, तेल और सिरके का मिश्रण) में मैरीनेट करें और हल्‍का फ्राई करके इसका ब्रॉइल बना लें। इसमें आप एनिमल फैट नहीं बल्कि कुकिंग ऑयल में पकाने पर हेल्‍दी फैट मिला रहे हैं।

नट्स का अधिक सेवन

नट्स का अधिक सेवन

डॉक्‍टर जर्ब्सटैट के अनुसार, नट्स एक बहुत ही अच्‍छा, हेल्‍दी फैट का केंद्रित स्रोत है और यह वास्‍तव में कैलोरी को बढ़ावा देता है। साथ ही नट्स एंटीऑक्‍सीडेंट का बहुत अच्‍छा स्रोत है, जिसमें बहुत सारे हार्ट-हेल्‍दी लाभ होते हैं और सूजन से लड़ने में मदद करते हैं। नट्स को आप सलाद के रूप में, टोस्‍ट पर पीनट बटर की तरह लगाकर या मुट्ठी भर खा सकते हैं।

डेयरी प्रोडक्‍ट भी लें

डेयरी प्रोडक्‍ट भी लें

कई सूत्र का कहना है कि चीज को आप सैंडविच, पास्ता, और कैसरोल के रूप में, या व्यंजनों में ड्राई पाउडर मिश्रण के रूप में मिला सकते है। "चीज निश्चित रूप से कैलोरी का एक केंद्रित स्रोत है," डॉ जर्ब्सटैट कहते हैं, "लेकिन डेयरी फैट [सीओपीडी रोगियों] की धमनियों के लिए अच्छा नहीं होता है।" नट्स और वेजिटेबल ऑयल भी फैट के बेहतर स्रोत है, लेकिन कुछ डेयरी उत्‍पाद से बचने का कोई कारण नहीं है।
Image Source : Getty

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK