Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

आप में भी है अपने खून की समस्‍या से लड़ने की ताकत

खून हमारे शरीर में को संचालित कर उसे ऊर्जावान बनाने में मदद करता है, इसलिए इसका संतुलन बनाये रखना बहुत जरूरी है, नहीं तो इसके कारण, डायबिटीज, कैंसर जैसी समस्‍यायें हो सकती हैं।

एक्सरसाइज और फिटनेस By Nachiketa SharmaJan 20, 2015

रक्‍त संबंधित समस्‍यायें

खून लाल रंग का चिपचिपा पदार्थ है जो रक्‍त कोशिकाओं और प्‍लाज्‍मा से मिलकर बना है, यह हमारे शरीर में प्‍लाज्‍मा के माध्‍यम से शरीर में चलता रहता है। मानव शरीर में लगभग 5 लीटर पानी होता है। यह को‍शिकाओं को ऑक्‍सीजन पहुंचाते हैं, पाचन क्रिया के साथ शरीर के ताप को नियंत्रित करते हैं, इम्‍यून सिस्‍टम को मजबूत बनाते हैं। लेकिन अगर खून संबंधित कोई समस्‍या हो जाये तो इससे पूरा शरीर प्रभावित होता है। इसमें मौजूद, शुगर, कोलेस्‍ट्रॉल, आयरन के साथ खून की कमी से आप आसानी से निपट सकते हैं और खुद को स्‍वस्‍थ रख सकते हैं।

Image Source - Getty Images

ब्‍लड शुगर

रक्‍त में शुगर की मात्रा कम और अधिक होने से भी समस्‍या हो सकती है। अगर ब्‍लड में शुगर की मात्रा अधिक हो जाये तो इसके कारण डायबिटीज जैसी खतरनाक बीमारी हो जाती है और यदि ब्‍लड में शुगर का स्‍तर कम हो जाये तो हाइपोग्लाइसेमिया की समस्‍या हो जाती है। यह दोनों समस्‍या खतरनाक हैं, इसलिए ब्‍लड शुगर का स्‍तर नियंत्रण में होना चाहिए।

Image Source - Getty Images

ब्‍लड शुगर करें नियंत्रित

ब्‍ल्‍ड शुगर को नियंत्रण रखने के लिए खानपान पर विशेष ध्‍यान दें, नियमित रूप से व्‍यायाम करें और भरपूर नींद लें। आप रोज जितनी कैलोरी लेते हैं उसमें 55 प्रतिशत कार्बोहाइड्रेट्स, 30 प्रतिशत वसा और 15 प्रतिशत प्रोटीन होना चाहिए। इसके लिए ताजे फल खायें, संतृप्‍त वसा का सेवन न करें और शुगर का सेवन करने से बचें।

Image Source - Getty Images

आयरन की समस्‍या

आयरन की कमी और से एनीमिया होता है अैर इसकी अधिकता के कारण हीमोक्रोमेटिक रोग होने लगता है। यानी शरीर में इसकी मात्रा संतुलित होनी चाहिए। आयरन की मात्रा 20 ग्राम से अधिक नहीं होनी चाहिए। आयरन का मुख्य कार्य खून के प्रमुख घटक लाल रक्त कणों का निर्माण करना करना है। इतना ही नहीं हीमोग्लोबिन के निर्माण का कार्य भी आयरन ही करता है, जो शरीर के अंग-प्रत्यंगों को सुडौल बनाकर, शरीर को स्वस्थ बनाए रखने में अहम भूमिका निभाता है।

Image Source - Getty Images

आयरन को संतुलित कैसे रखें

शरीर में आयरन को संतुलित रखने के लिए खानपान का ध्‍यान रखें। इसके लिए चोकरयुक्त आटा, चना, मूंग और मसूर की दाल, सोयाबीन, राजमा, पालक, चौलाई की भाजी, मेथी और सरसों का साग, काजू, बादाम, सूखे मेवे, संतरा, अमरूद, आम आदि का सेवन कीजिए। रेड मीट, चिकन और मछली के अलावा अंकुरित दालों और हरी पत्तेदार सब्जियों में यह भरपूर मात्रा में पाया जाता है।

Image Source - Getty Images

खून की कमी

खून की कमी के मामले लगातार बढ़ रहे हैं, इसकी शिकार अधिकतर महिलायें हैं। बदलती जीवनशैली के साथ आहार संबंधी आदतों में होने वाला बदलाव इस समस्या के मुख्य कारण के रूप में सामने आ रहा है। वास्तव में एनीमिया कोई बीमारी नहीं है, लेकिन यह कई बीमारियों की वजह जरूर बन सकता है। शरीर को स्‍वस्‍थ और फिट रहने के लिए अन्य पोषक तत्वों के साथ-साथ आयरन की भी जरूरत होती है। आयरन ही हमारे शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण करता है। हीमोग्लोबिन फेफड़ों से ऑक्सीजन लेकर रक्त में ऑक्सीजन पहुंचाता है। इसलिए आयरन की कमी से शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी हो जाती है और हीमोग्लोबिन कम होने से शरीर में ऑक्सीजन की कमी होने लगती है। इसकी वजह से कमजोरी और थकान महसूस होती है, इसी स्थिति को एनीमिया कहते हैं।

Image Source - Getty Images

खून की कमी से कैसे निपटें

खून की कमी को दूर करने के लिए संतुलित और पौष्टिक आहार का सेवन करना बहुत जरूरी है। इसके लिए मांस, अंडा, मछली, किशमिश, हरी बीन्स, पालक और हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन कीजिए, इसमें भरपूर मात्रा में आयरन होता है। आयरन युक्त डाइट तभी फायदेमंद होती है, जब उसके साथ विटामिन सी का भी सेवन किया जाता है। विटामिन-सी के लिए अमरूद, आंवला और संतरे का जूस लें। कुछ लोग आयरन सप्लीमेंट्स लेना पसंद करते हैं, लेकिन इसे चिकितसक की सलाह पर ही लें।

Image Source - Getty Images

खून में कोलेस्ट्रॉल

कोलेस्‍ट्रॉल न केवल शरीर में बल्कि खून में भी जमा हो जाता है, इसके कारण कई प्रकार की समस्‍यायें हो सकती हैं। न्यू साउथ वेल्स विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों के द्वारा किये गये शोध की मानें तो कोशिकाओं के अंदर विभिन्न तत्वों की आवाजाही सुनिश्चित करने वाले एक प्रोटीन की वजह से ‘खराब’ कोलेस्ट्रॉल रक्त में एकत्र होता है। हमारे रक्त के प्रवाह के दौरान कोलेस्ट्रॉल लिपोप्रोटीन के अंदर होता है। निम्न घनत्व वाले लिपोप्रोटीन के अंदर पाए जाने वाला कोलेस्ट्रॉल खराब कोलेस्ट्रॉल कहलाता है। यह हमारी कोशिकाओं में प्रवेश कर विभिन्न जगहों पर एकत्र हो जाता है। इसके कारण दिल की बीमारी होने का खतरा बढ़ जाता है।

Image Source - Getty Images

कोलेस्‍ट्रॉल कैसे कम करें

खून में कोलेस्‍ट्रॉल के लेवल को नियंत्रित करने के लिये रोजाना 40-50 मिनट तक व्‍यायाम कीजिए, ऐसे आहार का सेवन कीजिए जिसमें वसा न हो। शराब तथा स्‍मोकिंग से दूर रहें। साथ ही ओमेगा 3 फैटी एसिड की कमी पूरा करने के लिए मछली का सेवन कीजिए। यह बैड कोलेस्‍ट्रॉल को कम करती है और अच्‍छे कोलेस्‍ट्रॉल को बढाने में मदद करती है। इसके अलावा ताजे फल और हरी सब्जियों (विशेष रूप से पालक) का सेवन कीजिए।

Image Source - Getty Images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK