Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

जब लगे ध्‍यान करना है नामुमकिन तो अपनायें ये टिप्‍स

ध्‍यान सिर्फ आंखें मूंदकर बैठने का नाम नहीं है। ध्‍यान किसी काम को डूबकर करने का नाम है। ध्‍यान वह प्रक्रिया है, जब आप किसी काम में इतना डूब जाएं कि आपको अपने आसपास की फिक्र ही न रहे। जानिये, कैसे आप ध्‍यान की परंपरागत विधियों से इतर रोजमर्रा के कामो

मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य By Bharat MalhotraMar 31, 2014

तनाव दूर करे ध्‍यान

तनाव दूर करने के लिए ध्‍यान बेहद कारगर उपाय है। लेकिन, अकसर लोगों को इस बात की शिकायत होती है कि वे चाहकर भी ध्‍यान नहीं कर पाते। उन्हें लगता है कि  ध्‍यान का अर्थ घंटा भर बिना किसी मकसद से बैठे रहना है। उन्‍हें यकीन नहीं होता कि वे ऐसा कर सकते हैं। लेकिन, हर बार ऐसा नहीं होता।

बनी बनायी छवि को तोड़ें

ध्‍यान का नाम सुनते ही आपके जेहन में पहली तस्‍वीर किसी योगी की आती है। जो शांत चित्‍त होकर किसी झील या दरिया के किनारे ध्‍यानमग्‍न बैठा है। कमर सीधी और पद्मासन में लीन बैठकर वह दुनिया से विरक्‍त हो चुका है। लेकिन, हकीकत इससे काफी अलग है। ध्‍यान का कैनवॉस काफी बड़ा है।

सिर्फ बैठकर ही नहीं होता ध्‍यान

ध्‍यान की शुरुआत करने वालों, अथवा वे लोग जो पहले से ध्‍यान करते चले आए हैं। उन्‍हें यह बात समझनी चाहिए कि ध्‍यान केवल बैठकर ही नहीं किया जाता। आप दिल को खुश करने वाले छोटे से छोटे काम को ध्‍यान की तरह इस्‍तेमाल कर सकते हैं।

अभ्‍यास से होता है सब

जब आप अपने जीवन में अधिक उत्‍साह महसूस करने लगते हैं, तो आप छोटी सी छोटी बात का आनंद उठाते हो। इस दौरान आपको न तो भविष्‍य की चिंता सताती है और न ही बीती हुई बातो का मलाल होता है। यह सब अभ्‍यास से आता है। और जब आप इसमें परांगत हो जाते हैं, तो यह आसान लगने लगता है। और इसके बाद सब खूबसूरत लगने लगता है।

हर लम्‍हा जियें

यदि आप पूरा दिन खुशी और उत्‍साह के साथ बिताना चाहते हैं, तो सबसे पहले उस लम्‍हें में जियें। हर चीज को महसूस करें, हर शारीरिक और मानसिक संवेदना की अनुभूति लें। धीरे-धीरे सांस लें और चेहरे पर एक मुस्‍कान बनाये रखें। आप एक साथ सब चीजों में महारत हासिल करने की न सोचें। धीरे-धीरे लगातार प्रैक्टिस करने से ही आप आगे बढ़ते रहेंगे।

संगीत सुनें

हर प्रकार के वाद्य यंत्र का आनंद लें। गीत के बोलों को जरा अलग कर, केवल संगीत की धुन का आनंद लें। यदि संभव हो, तो साथ गुनगुनायें। अपने शरीर में उन धुनों को महसूस करें। ऐसा महसूस करें जैसे आपका शरीर उन लहरियों पर झूम रहा है।

कुछ पियें और जियें

दिन की शुरुआत किसी तरल पदार्थ से करें। दिन के पहले पांच मिनट अपने आपके लिए रखें। गर्मागरम चाय, कॉफी या पानी से अपने दिन की शुरुआत करें। आंखें बंद कर एक-एक घूंट को महसूस करें। कहते हैं, चाय जुबां से उतरकर आत्‍मा तक जाती है।

योग करें

योग आपकी जिंदगी को खुशनुमा और सेहतमंद बनाने में मदद करता है। अगर आप अपने जीवन में सिर्फ योग को शामिल कर लें, तो आपको किसी अन्‍य व्‍यायाम की आवश्‍यकता नहीं है। आप चाहें दिन में केवल 15 से 20 मिनट की योग क्‍यों न करें, आपको इसका जरूर फायदा मिलता है।

ड्राइविंग द किंग

ड्राइव करते समय अकसर हम सड़क पर किसी से उलझ पड़ते हैं। रास्‍ते का तनाव हमारी थकान को काफी बढ़ा देता है। तेज संगीत को बंद करें और बेकार में किसी से बहस करने से बचें। इस तरह आप अपने लिए कुछ वक्‍त निकाल पाएंगे। और यही तो ध्‍यान है।

पैदल चलें

पैदल चलने से आपको काफी फायदा हो सकता है। धीरे-धीरे चलें। बहुत धीरे-धीरे। सांस अंदर लेते समय अपने पैरों को उठायें और पैर नीचे रखते समय सांस छोड़ें। इस क्रिया को लगातार दोहराते रहें। पैदल चलना अपने साथ वक्‍त बिताने का बहुत ही कारगर जरिया है।

कला का है अपना मजा

चलिये अपने जीवन को रंगीन बनाया जाए। कुछ ऐसा काम किया जाए, तो आपको खुशी देता हो। या जिसके लिए आपको ध्‍यान केंद्रित करने की जरूरत पड़ती हो। चित्रकारी, सिलाई, फटी किताबों को सिलना आदि जैसे काम आपको ध्‍यानमग्‍न रहने में मदद कर सकते हैं। रोजमर्रा की भागती दौड़ती जिंदगी में कला के लिए कुछ वक्‍त निकालें। और इस बात का पूरा ध्‍यान रखें कि आप अपने काम में पूरी तरह से तल्‍लीन हैं।

लिखकर कहें दिल की बात

हर सुबह अपने दिल में आ रही बातों को कागज पर उतार दें। ये न सोचें कि बातें काम की हैं या फिर बेकार। हाथों की उंगलियों का दबाव पेन पर महसूस करें। सब कुछ लिखने के बाद आप खुद को खाली महसूस कर पाएंगे। अपने मन को खाली करना ही ध्‍यान का मुख्‍य काम है और यदि आप लेख के जरिये ऐसा कर पाते हैं, तो यकीन जानिये आप ध्‍यान ही कर रहे हैं। मस्तिष्‍क खाली होते ही एक गहरी सांस भरें और सारी नकारात्‍मकता को जाने दें।

खाना पकायें

खाना पकाने ध्‍यान का एक शानदार तरीका है। स्‍वामी विवेकानंद ने भी कहा है, अच्‍छा साधु बनने के लिए अच्‍छा खाना पकाना जरूर आना चाहिए। भोजन के लिए मसाले खुद पीसें, सब्जियां भी खुद काटें। भोजन पकाते समय अपना पूरा प्‍यार उसमें उढ़ेल दें।

आहार हो मजेदार

स्‍वस्‍थ भोजन न सिर्फ आपके तन को सेहतमंद बनाने में मदद करता है, बल्कि यह आपकी आत्‍मा को भी प्रसन्‍नचित रखता है। लेकिन, जल्‍दबाजी में भोजन करना आपके लिए अच्‍छा नहीं। भोजन की गरमाहट को अपने हाथों पर महसूस करें उसकी खुशबू का अहसास लें। भोजन को खाने से पहले उसे महसूस जरूर करें।

मसाज से सजेगा साज

बहुत कशिश होती है छुअन में। दिन में कुछ वक्‍त अपने लिए निकालिये। खुद को ही मसाज दीजिए। यह आपका, आपके लिए प्‍यार जताने का तरीका है। ऐसा कीजिए और देखिये कैसे बदलता है आपका अपने लिए नजरिया।

सांसों की लय

आपकी सांसों की लय यह बताने के लिए काफी होती है कि आप चिंतित हैं या प्रसन्‍न। अपनी सांसों को चार, चार, आठ की लय पर सेट करें। यानी चार की गिनती तक सांस अंदर लें, फिर चार की गिनती तक उसे रोकें और फिर 8 की गितनी तक उसे बाहर छोड़ें। यह सब अपनी आंखें बंद करके कीजिए। इससे आपको काफी फायदा होगा। इस क्रिया को दोहरायें।

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK