Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

कुदरती तरीके से किडनी से विषैले पदार्थों को करें बाहर

किडनी हमारे शरीर का प्रमुख अंग है जो खून को साफ कर शरीर के विषाक्‍त पदार्थों को बाहर निकालता है साथ ही रक्‍त की अम्‍लीयता नियंत्रण में रखकर बीमारियों से भी बचाता है।

किडनी फेल्योर By Nachiketa SharmaOct 28, 2014

किडनी के कार्य

किडनी यानी गुर्दा हमारे शरीर का प्रमुख अंग है जो खून को साफ कर शरीर के विषाक्‍त पदार्थों को मूत्र के रास्‍ते बाहर निकालता है। इसके अलावा यह रक्‍तचाप नियंत्रण, सोडियम व पोटैशियम की मात्रा में नियंत्रण और रक्त की अम्लीयता में नियंत्रण भी करता है। जब किडनी हमारी शरीर में एकत्रित हुई गंदगी को हटाने में अक्षम हो जाती है तो उसे किडनी फेल्योर कहा जाता है। इसलिए बहुत जरूरी है कि किडनी को विषैले पदार्थों से दूर रखा जाये और शरीर को बीमारियों से भी बचाया जाये।

image source - getty images

खूब पानी पियें

कम पानी पीने से किडनियों को नुकसान हो सकता है। पानी की कमी के चलते किडनी और मूत्रनली में संक्रमण होने का खतरा भी अधिक रहता है। जिससे पोषक तत्वों के कण मूत्रनली में पहुंचकर मूत्र की निकासी को बाधित करने लगते हैं। साथ ही किडनी में स्टोन की आशंका भी बढ़ जाती है। इसलिए दिनभर में कम से कम 2 से 3 लीटर पानी पीने की सलाह दी जाती है।

image source - getty images

फल और जूस

ताजे फलों और फलों के जूस का सेवन करने से किडनी से विषाक्‍त पदार्थ बाहर निकलते हैं। दरअसल फलों में पोटैशियम की भरपूर मात्रा होती है जो किडनी को स्‍वस्‍थ रखने में मदद करता है। फलों के साथ हरी और पत्‍तेदार सब्जियों में भी पोटैशियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है। अंगूर, नींबू, संतरा, केला, किवीज, आदि का सेवन करना फायदेमंद है।

image source - getty images

बेरीज खायें

बेरीज का सेवन करना भी किडनी के लिए फायदेमंद है। इसलिए ब्‍लूबेरी, ब्‍लैकबेरी का सेवन जरूर करें। बेरीज में क्‍वीनाइन नामक पौष्टिक तत्‍व पाया जाता है जो यह खुद को हिप्‍यूरिक एसिड में बदल देता है। हिप्‍यूरिक एसिड यूरिक एसिड को एक जगह जमने से रोकता है जिससे किडनी संबंधित बीमारियों से बचाता है।

image source - getty images

धूम्रपान एवं तम्बाकू का सेवन न करें

धूम्रपान एवं तम्बाकू के सेवन से कई गंभीर समस्याएं तो होती ही हैं, लेकिन इसके कराण ऐथेरोस्कलेरोसिस रोग भी होता है। जिससे रक्त नलिकाओं में खून का बहाव धीमा पड़ जाता है और किडनी में रक्त कम जाने से उसकी कार्यक्षमता घट जाती है। इसलिए धूम्रपान और तंबाकू का सेवन करने से बचें।

image source - getty images

सुबह उठकर वॉशरूम जायें

किडनी को विषैले पदार्थों से बचाने के लिए सुबह उठने के बाद पेशाब जरूर करें। रात भर में मूत्राशय पूरी तरह मूत्र से भर जाता है, जिसे सुबह उठते ही खाली करने की जरूरत होती है। लेकिन जब आलस की वजह लोग मूत्र नहीं त्यागते और काफी देर तक उसे रोके रहते हैं तो आगे चलकर यह किडनी को भारी नुकसान पहुंचाता है। इसके कारण किडनी स्‍टोन भी हो सकता है।

image source - getty images

नमक का अधिक सेवन न करें

यह सत्य है कि नमक हमारे भोजन के स्वाद को बढ़ाता है, लेकिन अधिक मात्रा में इसका सेवन किडनी के लिए विपरीत प्रभाव डालता है। हमारे द्वारा भोजन के माध्यम से खाया गया 95 प्रतिशत सोडियम गुर्दों द्वारा मेटाबोलाइज्‍ड होता है। इसलिए नमक का अनावश्यक रूप से अधिक मात्रा में सेवन गुर्दों की क्रियाशीलता को बढ़ाकर उनकी शक्ति को कम कर देता है।

image source - getty images

शुगर को नियंत्रण में रखना

शुगर की मात्रा रक्‍त में बढ़ने के कारण सबसे अधिक समस्‍या किडनी को होती है। मधुमेह के शिकार लगभग 30 प्रतिशत लोगों को किडनी की बीमारी हो ही जाती है और किडनी की बीमारी से ग्रस्त एक तिहाई लोग मधुमेह पीड़ित हो जाते हैं। इससे यह बात तो तय है कि इन दोनों समस्याओं का आपस में संबंध है। इसलिये रक्‍त में शुगर की मात्रा को नियंत्रित रखना आवश्यक है।
image source - getty images

अन्‍य नुकसानदेह आदतें

किडनी को खराब करने में कुछ अन्य आदतें जैसे, बहुत ज्यादा शराब पीना, पर्याप्त आराम न करना, सॉफ्ट ड्रिंक्स और सोडा का अधिक सेवन करना, देर तक भूखा रहना या दूषित भोजन करना, हाईपरटेंशन का इलाज ना कराना तथा बहुत ज्यादा मांस खाना भी कुछ ऐसी आदते हैं जिनके कारण किडनी को भारी नुकसान पहुंचता है।

image source - getty images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK