Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

छुट्टियों में सामाजिक चिंता से बचने के तरीके

छुट्टियों का मौसम उन लोगों के लिए चिंता का कारण बन सकता है जो सामाजिक चिंता विकार से ग्रस्‍त होते हैं, क्‍योंकि ऐसे लोग दूसरे लोगों से आसानी घुल-मिल नहीं पाते हैं।

मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य By Nachiketa SharmaJan 02, 2015

छुट्टियों में सामाजिक चिंता

छुट्टियों का मौसम सभी के लिए खुशियां लेकर आता है, क्‍योंकि इस वक्‍त आपके पास काम नहीं होता और आप सबकुछ भूलकर आराम फरमाते हैं। लेकिन वहीं दूसरी तरफ छुट्टियों के मौसम में कुछ लोगों को चिंता और तनाव भी होता है, क्‍योंकि वे लोग सामाजिक नहीं होते हैं और नये लोगों से आसानी से घुल-मिल नहीं पाते हैं। इसे सामाजिक चिंता विकार या सोशल फोबिया भी कहते हैं। ऐसे लोग छुट्टियों का मजा नहीं ले पाते हैं। लेकिन अगर कोशिश की जाये तो सामाजिक जिंता से आसानी से बचाव किया जा सकता है।

Image Source - Getty Images

क्‍यों होती है सामाजिक चिंता

सामाजिक चिंता एक प्रकार का डर है जो लोगों से बात करते समय लगता है खासकर ऐसे मौके पर जब आप उन लोगों को नहीं जानते हैं जिससे आप बात करते हैं। यह जीवन को काफी हद तक प्रभावित कर सकता है। कई बार लोग किसी खास परिस्थिति में भी इसके शिकार हो जाते हैं। सामाजिक चिंता को शर्माने का नाम नहीं दिया जा सकता है, यह इससे कहीं अधिक होता है। जो लोग इस समस्या से ग्रस्त होते हैं वे अकसर यह सोचते रहते हैं कि लोग उनके बारे में क्या सोचते होंगे।

Image Source - Getty Images

कार्यक्रम की दिशा तय करें

छुट्टियों के समय आप किसी पार्टी में जाने से परहेज करते हैं, क्‍योंकि आपको लगता है कि आप वहां असहज हो जायेंगे। इनसे बचना इसका हल नहीं है, बल्कि अगर आप पार्टी में जाने से बचेंगे तो और मुश्किल हो सकती है, इसके कारण तनाव और अवसाद भी हो सकता है। इससे बचने के लिए खुद से ही किसी पार्टी या कार्यक्रम की दिशा और दशा तय कीजिए। सबसे पहले यह सोचिये कि आप पार्टी में आखिर क्‍यों जाते हैं, पार्टी में लोगों से मिलना आपके लिए इतना मुश्किल क्‍यों है, इन सवालों का जवाब पाने के लिए ऐसे कार्यक्रम में जायें जहां पर आप एक बार लोगों से मिल चुके हैं। अपने दोस्‍तों के दोस्‍तों और रिश्‍तेदारों को बुलाकर पार्टी कीजिए और आखिरी तक पार्टी में रुके रहिये।

Image Source - Getty Images

स्थिति को समझें

सामाजिक चिंता तब और बढ़ जाती है जब आप यह सोचने लगते हैं कि लोग आपके बारे में क्‍या सोच रहे हैं। ऐसे में असहज होने से अच्‍छा है परिस्थिति को समझने की कोशिश कीजिए, मन को शांत कीजिए और वर्तमान स्थिति का आकलन कीजिए। जिस स्‍थान या जिन लोगों से आपको समस्‍या से हो उससे बचने की कोशिश करें।

Image Source - Getty Images

घबराहट हो सकती है

नर्वसनेस यानी घबराहट एक सामान्‍य स्थिति है जिसका सामना कई लोगों को करना पड़ता है, इस स्थिति में आने वाले आप इकलौते इनसान नहीं हैं। सभी के मन में अच्‍छी और बुरी भावनायें आती हैं और सभी भावनाओं के अधीन हैं। कोई व्‍यक्ति मुखर होता है तो किसी का स्‍वभाव शर्मीला होता है। अगर आप भी लोगों से आसानी से घुल-मिल नहीं पा रहे हैं तो यह कोई बड़ी समस्‍या नहीं है। यह एक सामान्‍य स्थिति है, इसका सामना कीजिए।

Image Source - Getty Images

आप भी किसी से कम नहीं

जब भी किसी पार्टी या किसी कार्यक्रम में आप हों तो लोगों को अपनी महत्‍ता बताइये। किसी पार्टी में आप जो भी हैं वो दिखने की कोशिश कीजिए। लोगों से बात करते वक्‍त नजरे चुराने से अच्‍छा है नजरे मिलाकर बात करें। जब भी आप किसी से नजर मिलाकर बात करते हैं तब आपको समस्‍या नहीं होती है, बल्कि आप अपनी बात आसानी से दूसरे से बोल सकते हैं। तो अगली पार्टी में दिखा दीजिए कि आप भी किसी से कम नहीं हैं।

Image Source - Getty Images

नये लोगों से मिलें

किसी समस्‍या का समाधान तभी हो सकता है जब आप उसे हल करने की कोशिश करते हैं, आप जितना किसी समस्‍या से दूर भागते हैं वह उतना ही आपका पीछा करता है। अगर आप सामाजिक चिंता विकार से ग्रस्‍त हैं तो उससे बचने का तरीका यही है कि इसका सामना कीजिए, सामाजिक कार्यक्रम में हिस्‍सा लें, पार्टी में आये हुए लोगों से बात करने में पीछे न हटें, नये-नये लोगों से मिलें।

Image Source - Getty Images

वास्‍तविकता में रहें

सामाजिक चिंता विकार से ऐसे लोग अधिक ग्रस्‍त होते हैं जिनके मन में नकारात्‍मक भावनायें अधिक आती हैं। ऐसे लोग वास्‍तविकता से परे होते हैं, वे केवल अनुमान के आधार पर स्थिति का आकलन करते हैं। इससे स्थिति सुलझने की बजाय बदतर होती जाती है। इससे बचने का सबसे अच्‍छा तरीका है कि आप यथार्थवादी बनें, वास्‍तविकता में जीने की कोशिश करें।

Image Source - Getty Images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK