Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

अपने शरीर के हिसाब से चुनें अच्‍छा वर्कआडट

सभी के शरीर की बनावट अलग-अलग तरह की होती है। इसलिए जिम में सफलता प्राप्‍त करने के लिए उचित प्रशिक्षण दिनचर्या के साथ आपको अपने शरीर की बनावट को ध्‍यान में रखना बहुत जरूरी होता है।

एक्सरसाइज और फिटनेस By Pooja SinhaMay 06, 2014

शरीर की बनावट और वर्कआडट

अक्‍सर लोग घंटों जिम में बिताने के बाद भी वजन कम नहीं कर पाते। इसका सबसे बड़ा कारण है, ऐसी दिनचर्या का पालन करना जो, शायद आपके लिए नहीं बनी।  वजन कम करने के लिए आपको अपने शरीर के प्रकार और एक्‍सरसाइज लेकिन अपने शरीर के प्रकार और एक्‍सरसाइज की जरूरत को ध्‍यान में रखकर की गई एक्‍सरसाइज से आप बेहतर परिणाम पा सकते हैं। सभी के शरीर की बनावट अलग-अलग तरह की होती है। इसलिए जिम में सफलता प्राप्‍त करने के लिए उचित प्रशिक्षण दिनचर्या के साथ आपको अपने शरीर की बनावट को ध्‍यान में रखना बहुत जरूरी होता है। image courtesy : getty images

शरीर के प्रकार का निर्धारण

सबसे पहले अच्‍छे परिणाम पाने के लिए आपको शरीर के प्रकार का निर्धारण करना होगा। यह जानना होगा कि आपकी बॉडी ऑरग्‍लास, एथलेटिक या स्ट्रेट है। परिणाम जानने के बाद किया गया वर्कआउट आपके लिए फायदेमंद स‍ाबित होगा। अगर आपकी बॉडी दो प्रकार के बीच की है तो इसके लिए आपको मध्‍य दृष्टिकोण अपनाना होगा। आइए सबसे पहले बॉडी के प्रकार के बारे में जानते हैं। image courtesy : getty images

ऑरग्‍लास बॉडी

क्‍या आपका वजन आसानी से बढ़ जाता है और कम करने में बहुत कठिनाई होती है? आपके कूल्‍हें आपके कंधों से अधिक व्‍यापक है? क्‍या आपकी हड्डी की संरचना बड़ी है और उसके ऊपर फैट की एक अतिरिक्त परत है? क्‍या आपकी उपस्‍ि‍थति गोल सुडौल या नर्म है? अगर ऐसा है तो आपकी बॉडी ऑरग्‍लास बॉडी है। image courtesy : becomegorgeous.com

एथलेटिक बॉडी

क्‍या आपमें आसानी से अतिरिक्त फैट को अपने आसपास विशेष रूप से पेट के आसपास स्‍टोर करने की क्षमता है? आपके कंधे, कूल्हों से थोड़े ज्‍यादा व्यापक हैं? आपकी एक बड़ी और भारी बोन संरचना हैं? आपकी उपस्थिति मजबूत और जोरदार है? साथ ही क्‍या आपके कलाई और हाथ आनुपातिक अंगों से बड़े हैं? अगर यह सब हैं तो आपकी बॉडी एथलेटिक बॉडी हैं। image courtesy : getty images

स्‍ट्रेट बॉडी

क्‍या आपके लिए वजन और मसल्‍स हासिल करना एक चुनौती है? क्‍या आपके कंधे और कूल्हे लगभग एक ही चौड़ाई के हैं? आपकी बोन संरचना नाजुक है? आपकी उपस्थिति सीधी और नाजुक है? साथ ही मसल्‍स कमजोर है तो आपकी बॉडी स्‍ट्रेट बॉडी है।  image courtesy : getty images

ऑरग्‍लास बॉडी के लिए एक्‍सरसाइज

ऑरग्‍लास बॉडी जिनके लिए फैट को कम करना एक चुनौती के सामान होता है, ऐसी बॉडी के लिए सर्किट प्रशिक्षण बहुत अच्छा रहता है। इस तरह का प्रशिक्षण हार्ट रेट को ऊपर उठाने और चयापचय को जलाने के लिए बहुत अच्‍छा रहता है। इसके लिए ऐसी व्‍यायामों को चुनें जिसमें आपकी शरीर के लिए चुनौती और एनर्जी के रूप में फैट के भंडार को पर्याप्त प्रेरित करने के लिए कई प्रकार के मूवमेंट हो। इसकी 10 मिनट के वर्कआउट से शुरुआत करें।  image courtesy : timeli.info

वजन प्रशिक्षण

हल्‍के से मध्‍यम में तीव्रता के लिए, 30 सेकंड के साथ 2-4 सेट्स करें और इसे 12-15 बार दोहराएं और हर सेट्स के बीच में थोड़ा सा आराम करें। वजन प्रशिक्षण वर्कआउट प्रति सप्‍ताह 2-3 बार करें।  image courtesy : bodybuilding.com

कार्डियो

अधिक फैट और कैलोरी जलाने के लिए कार्डियो एक्‍सरसाइज को प्रति सप्ताह 3-5 दिन करें। उसके बाद बड़े कार्डियो में 50-70 प्रतिशत की तीव्रता के लिए एक्‍सरसाइज को दिन में 20-45 मिनट करें। और छोटे कार्डियो दिनों में (लंबाई में 20-30 मिनट) और तीव्रता 70-80 प्रतिशत के बीच होनी चाहिए। image courtesy : getty images

एथलेटिक बॉडी के लिए वर्कआउट

इस तरह की बॉडी में मसल्‍स को टोन करने के लिए बहुत ज्‍यादा परेशानी नहीं आती है। एक्‍सरसाइज करने से संतुलित शरीर पाने के साथ आपकी कमर भी शेप में रहती हैं। इसके लिए ऐसी एक्‍सरसाइज को चुने, जिसमें मसल्‍स को अनुपात में विकसित करने के लिए हल्‍की और भारी दोनों तरह की एक्‍सरसाइज उपलब्‍ध हो।  image courtesy : getty images

वजन प्रशिक्षण

हल्‍के से मुश्किल तीव्रता के लिए 2-3 सेट को 45 सेकंड के साथ 8-।2 बार दोहराये और हर सेट्स के बीच में आराम करें। वजन प्रशिक्षण प्रति सप्‍ताह 2-3 बार में पूरा करें।  image courtesy : getty images

कार्डियो

अलग तीव्रता के स्‍तर पर कार्डियों एक्‍सरसाइज को प्रति सप्‍ताह 30-45 मिनट के लिए 3-4 बार दोहराये। इससे आपको शरीर को फिट बनाये  रखने में मदद मिलेगी साथ ही अधिक से अधिक फैट और कैलोरी जलाने से दिल के स्वास्थ्य में सुधार होगा। image courtesy : getty images

स्‍ट्रेट बॉडी के लिए वर्कआउट

स्‍ट्रेट बॉडी के लिए मसल्‍स बनाना बहुत ही मुश्किल और धीमी प्रक्रिया है। इसके लिए पोस्टुरल मसल्‍स को मजबूत बनाने पर ध्‍यान केंद्रित करें और वजन सहन करने वाले अभ्यास को शामिल करें। यह आपकी हड्डियों की चोट और ऑस्टियोपोरोसिस की संभावना कम करता हे। अभ्‍यास के रूप में आप योग, ताई ची और कीगोंग को चुन सकते हैं।  image courtesy : getty images

वजन प्रशिक्षण

धीमे से तीव्रता के लिए, धीमी और नियंत्रित गति से 2-3 सेट को 60 सेकंड के बीच 6-10 बार दोहराये। और प्रत्‍येक सेट के बाद थोड़ी देर आराम करें। धीमी गति से करने से आप इसे बेहतर तरीके से कर सकते हैं। इससे आपकी मसल्‍स में लंबे समय तक तनाव बना रहता है, जिससे मांसपेशियों के निर्माण की संभावना बढ़ जाती है। वजन प्रशिक्षण प्रति सप्ताह 2-3 बार करें।  image courtesy : getty images

कार्डियो

मध्यम तीव्रता में कार्डियो एक्‍सरसाइज को प्रति सप्ताह 3 बार करें। कार्डियोवैस्कुलर एक्‍सरसाइज को न्‍यूनतम स्‍तर पर रखा जाना चाहिए क्‍योंकि आप मसल्‍स को जलाने की नहीं बल्कि इनके निर्माण करने की कोशिश कर रहे हैं। और तेज चयापचय, मसल्‍स बनने में मुश्किल पैदा कर सकता है।  image courtesy : getty images

नोट

सभी प्रकार के शरीर को एक्‍सरसाइज के साथ-साथ अपने आहार का भी ध्‍यान रखना चाहिए। पूरे खाद्य पदार्थो को खाना चाहिए और शुगर और संसाधित और जंक फूड से बचना चाहिए। सोने से कम से कम 2-3 घंट पहले आखिरी भोजन कर लेना च‍ाहिए। इसके अलावा ऊतकों को नम और ठीक से कार्य करने के लिए पानी का पर्याप्‍त सेवन करना चाहिए। image courtesy : getty images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK