Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

इन 8 तरीकों से ब्रेकअप डालता है आपकी सेहत पर बुरा असर

अनचाहे ही सही, कई बार हमें ब्रेकअप का सामना करना पड़ता है। ब्रेकअप का असर सिर्फ आपके दिल पर ही नहीं, बल्कि आपकी सेहत पर भी पड़ता है। जैसे मोटापा, पाचन तंत्र की समस्याएं, अवसाद आदि।

डेटिंग टिप्स By Shabnam Khan Feb 09, 2015

टूटता है दिल, खराब होती है सेहत

कौन चाहता है कि उसका रिलेशनटिप टूट जाए, उसे ब्रेकअप के दर्दभरे अनुभव से गुजरना पड़े और वो बिखरा-बिखरा महसूस कर करे। लेकिन, बहुत से लोगों की जिंदगी में ये मौका भी आता है। अनचाहे ही सही, उन्हें ब्रेकअप का सामना करना पड़ता है। ब्रेकअप का असर सिर्फ आपके दिल पर ही नहीं, बल्कि आपकी सेहत पर भी पड़ता है। आइए जानें, ब्रेकअप का दौर आपकी जिंदगी में किन 7 बड़ी मानसिक और शारीरिक समस्याओं को बुलावा देता है।

Image Source - Getty Images

मोटापा

अगर हाल फिलहाल में आपका ब्रेकअप हुआ है और इसी गम में आप ज्यादा खा रहे हैं तो परेशान मत हो। ब्रेकअप के बाद अक्सर लोगों के साथ ऐसा होता है। दरअसल ब्रेकअप के दौरान बहुत अधिक तनाव से शरीर में कोर्टिजोल बढ़ता है जो शरीर में फैट्स को तोड़ने में अवरोध पैदा करता है और वजन तेजी से बढ़ता है।

Image Source - Getty Images

वजन घटना

ब्रेकअप के बाद सिर्फ वजन बढ़ने की ही नहीं, वजन तेजी से घटने की समस्या का भी सामना करना पड़ सकता है। डाइट फर्म फ्रोजा सप्लीमेंट द्वारा एक हजार लोगों पर कराए गए सर्वेक्षण के अनुसार, लंबे समय तक चला रिश्ता टूटने के बाद महिलाओं का वजन एक महीने में लगभग 2.26 किलोग्राम तक कम हो जाता है। डेली स्टार बेवसाइट की रिपोर्ट के अनुसार, रिश्ते के टूटने के बाद अगर कोई व्यक्ति एक साल तक अकेला रहता है, तो उसका वजन छह किलोग्राम तक घट जाता है। इसलिए ब्रेकअप के बाद आप दुबले होते जा रहे हैं तो समझ लीजिए, आप ब्रेकअप के साइड इफेक्ट्स सी पीड़ित हैं।

Image Source - Getty Images

इम्यूनिटी घटना

अमेरिकन साइकोलॉजिकल एसोसिएशन के शोध की मानें तो ब्रेकअप के दौरान मन में बहुत अधिक नकारात्मक विचार आते हैं जिनका प्रभाव शरीर के इम्यूनिटी सिस्टम पर पड़ता है। अस्‍वीकृति का तनाव, आपके शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को उत्‍तेजित कर तनाव सेल को नुकसान पहुंचाता है। आपके प्रतिरक्षा प्रणाली के कुछ हिस्‍से संक्रमण से लड़ने और वायरस को नियंत्रण करने में मददगार प्रतिरक्षा प्रणाली के कुछ हिस्‍से अपनी भाप खोने लगते है। जिसके कारण आप बहुत जल्‍दी-जल्‍दी बीमार पड़ते हैं।

Image Source - Getty Images

पाचन संबंधी समस्याएं

ब्रेकअप से सिर्फ आपका दिल ही नहीं पेट भी अपसेट हो सकता है। दरअसर, ब्रेकअप से हाजमा खराब हो जाता है। सुनने में अटपटा लगे लेकिन ब्रेकअप के दौरान होने वाले तनाव का प्रभाव हमारे पाचन तंत्र पर भी पड़ता है। ब्रेकअप के बाद लंबे समय तक तनाव हार्ट बर्न, अपच, पेट में दर्द का कारण हो सकता है।

Image Source - Getty Images

अनिंद्रा

अगर रिश्ते में बुरे दौर से गुजरते वक्त आपकी नींद ने आपका साथ छोड़ दिया है तो इसकी वजह कुछ और नहीं है बल्कि आपका नाकाम रिश्ता और इसका तनाव ही है। तनाव के दौरान शरीर में बढ़ने वाला र्कोटिजोल नींद और बॉडी क्लॉक पर नकारात्मक प्रभाव डालता है। इसी वजह से अक्सर लोगों की ब्रेकअप के बाद नींदें उड़ जाती हैं।

Image Source - Getty Images

तनाव और अवसाद

हॉवर्ड यूनिवर्सिटी के एक शोध के अनुसार, ब्रेकअप के दौर से गुजरने वाले जोड़ों में सबसे अधिक आशंका अवसाद या तनाव की होती है। ऐसी मानसिक स्थिति में शरीर में कोर्टिजोल नामक हार्मोन का स्तर अधिक बढ़ता है। इससे ब्लड प्रेशर व दिल के रोगों का रिस्क भी बढ़ सकता है।

Image Source - Getty Images

त्वचा के रोग

अक्सर आपने देखा होगा कि ब्रेअपक के बाद लोग चेहरे से डल दिखने लगते हैं। उनकी त्वचा की रौनक गुम हो जाती है। दरअसल, ब्रेकअप के बाद कोर्टिसोल के मुक्त बहाव के कारण आपकी त्‍वचा भी प्रभावित होने लगती है। कोर्टिसोल के कारण त्‍वचा के नीचे रोमछिद्र को अवरोधक करने वाला तेल पनपने लगता है। इस तरह से दिल का टूटना अक्‍सर त्वचा की समस्याओं का कारण बनता है।

Image Source - Getty Images

दिल की सेहत पर असर

ब्रेकअप के बाद ब्रोकन हार्ट सिंड्रोम काफी आम है। ब्रोकन हार्ट सिंड्रोम एक ऐसी अवस्था है, जिसका संबंध तनावपूर्ण या भावनात्मक घटनाओं से है। इस तरह के तमाम मरीजों को एस्प्रिन या ह्रदय संबंधी दवाएँ दी गईं। दवा खाने के बाद लगभग सभी मरीजों की दशा पहले से बेहतर पायी गई। ब्रोकन हार्ट सिंड्रोम के लक्षण ह्रदयाघात के समान होते हैं, जैसे सीने में दर्द, उखड़ी साँस आदि। इन लक्षणों का पता जल्द लगने के बाद यदि तेजी से उपचार किया जाए तो इन्हें पूरी तरह दूर किया जा सकता है।

Image Source - Getty Images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK