• shareIcon

हवा में उच्‍च मात्रा में मौजूद आरएसपीएम कैसे प्रभावित कर रहा आपका स्‍वास्‍थ्‍य

खुली हवा में सांस लेने से बीमारियां अपने आप दूर होती हैं और तनाव नहीं होता है, लेकिन शायद इस बात से अनजान हैं कि हवा में उच्‍च मात्रा में मौजूद आरएसपीएम आपको न केवल बीमार कर रहा है बल्कि यह जानलेवा भी है।

एक्सरसाइज और फिटनेस By Nachiketa Sharma / Apr 08, 2015

आरएसपीएम और स्‍वास्‍थ्‍य

कहते हैं खुली हवा में सांस लेने से बीमारियां अपने आप दूर होती हैं और तनाव नहीं होता है, लेकिन शायद इस बात से अनजान हैं कि हवा में उच्‍च मात्रा में मौजूद आरएसपीएम आपको न केवल बीमार कर रहा है बल्कि यह जानलेवा भी है। इसके कारण सांस संबंधित बीमारियों के साथ कैंसर, ब्रोंकाइटिस, दमा जैसी खतरनाक बीमारियां हो रही हैं। जानिये हवा में मौजूद यह कण कैसे आपके स्‍वास्‍थ्‍य को प्रभावित करता है।

Image Source - Getty Images

क्‍या है आरएसपीएम

यह हवा में मौजूद प्रदूषित कण है, जिसे अक्‍सर आपने प्रदूषण के संदर्भ में आई रिपोर्टो में सुना होगा। आरएसपीएम (रीस्पाइरेबल सस्पेंडेड पार्टिकुलेट मैटर) के कण हवा में घुलनशील होते हैं और इनका आकार 10 माइक्रोन से भी कम (यह बाल की चौड़ाई के 5वें भाग से भी कम) होता है। इसलिए आसानी से यह आपके अंदर प्रवेश कर जाता है।

Image Source - Getty Images

कैसे करता है प्रभावित

आरएसपीएम कार्बनिक और अकार्बनिक तत्वों का मिश्रण है। हालांकि यह बंद और खुले दोनों तरह के वातावरण में मिलते हैं, लेकिन इन कणों के मिलने की संभावना खुले के बजाए बंद स्‍थान में ज्यादा होती है। प्लास्टिक का सामान, सिंथेटिक फाइबर, दरी, दरवाजों के पर्दों, घरेलू सामानों आदि में इनके होने की संभावना अधिक रहती हैं।

Image Source - Getty Images

छोटे और बड़े कण

आरएसपीएम कणों का निर्धारण इनके आकार के आधार पर किया जाता है और इसके आधार पर ही मानव शरीर में इसके द्वारा होने वाले खतरे का आकलन किया जाता है। यह कण आकार में जितना छोटा होगा, उतनी ही जल्दी नाक के जरिये शरीर में प्रवेश करेगा। सामान्‍य कपड़ों का प्रयोग करके इन कणों को शरीर में जाने से रोका नहीं जा सकता है।

Image Source - Getty Images

शोध की मानें तो

हवा में आरएसपीएम की मौजूदगी और इसके जरिये होने वाले प्रभावों को लेकर कई शोध हो चुके हैं। 2014 में विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन द्वारा 1,600 शहरों के अध्ययन पर आधारित एक रिपोर्ट आई थी जिसमें कहा गया था कि वायु प्रदूषण की हालत 2011 के एक अध्ययन के नतीजों के मुकाबले बदतर हुई है तथा पीएम 2.5 आंकड़े के साथ दिल्‍ली सहित पूरे भारत में बढ़े हैं, दिल्‍ली की हवा को पूरी दुनिया के शहरों में सबसे अधिक जहरीली माना गया है।

Image Source - Getty Images

स्‍वास्‍थ्‍य पर प्रभाव

सामान्‍यतया हमारी नाक आरएसपीएम के कणों को ब्लॉक नहीं कर पाती है। सामान्यत: नाक 4 से 5 माइक्रोन के आरएसपीएम कणों को नाक में प्रवेश करने से रोकने में सक्षम होती है। धूल के कणों के साथ मिश्रित होकर यह कण नाक में प्रवेश कर जाते हैं। आरएसपीएम फेफड़ों में अंदर तक प्रवेश कर जाते हैं और इससे सीधे फेफड़े प्रभावित होते हैं।

Image Source - Getty Images

दूसरी खतरनाक बीमारियां

आरएसपीएम के कण स्‍वास्‍थ्‍य के लिए काफी नुकसानदायक होते हैं। इसकी वजह से फेफड़ों के फंक्शन पर बुरा प्रभाव पड़ता है। तो इसकी वजह से अस्थाई रूप से दिमाग की क्षमता भी प्रभावित होती है और सोचने और समझने की क्षमता कम हो जाती है। इसके अलावा, इन कणों के कारण ब्रोंकाइटिस, दमा, अवसाद,  सीओपीडी, फेफड़ों की बीमारियां, डायबिटीज, गुर्दे की बीमारियां, आदि बीमारियां होती हैं।
Image Source - Getty Images

यह कैसे फैलता है

विलासिता पूर्ण जीवन की आगोश में सभी जाना चाहते हैं, इसके लिए लंबी कारें, बड़े कारखाने, आदि बढ़ रहे हैं। संपूर्ण भारत में हो रहे नित नये निर्माण से उड़ रही धूल, ट्रकों और कारों के धुएं, कोयला संयंत्र और कारखानों के उत्सर्जन, डीजल जेनरेटर, खेतों में ठूंठ को जलाए जाने, कूड़े-कचरे में खुले में आग लगाने आदि के कारण हवा में तेजी से आरएसपीएम के कण बढ़ रहे हैं।
Image Source - Getty Images

कैसे करें बचाव

हवा में मौजूद इन कणों से बचने के लिए जरूरी है कि अच्‍छी गुणवत्‍ता वाला मास्‍क पहनकर ही निकलें, पब्लिक ट्रांसपोर्ट का प्रयोग करने की कोशिश करें, अधिक ट्रैफिक हो तो निकलने से बचें। सुबह मॉर्निंग वॉक करें, सुबह खुले माहौल में जाकर गहरी-गहरी सांस लें, योग-प्राणायाम, व्यायाम को दिनचर्या बनायें।

Image Source - Getty Images

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK