Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

कैसे बनें भावनात्‍मक रूप से बुद्धिमान

भावनायें हर व्‍यक्ति के जीवन में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाती हैं, भावनाओं के आधार ही व्‍यक्ति व्‍यवहार करता है और उसका असर उसके गुणों पर पड़ता है, इसपर नियंत्रण करके खुद को भावनात्‍मक रूप से बुद्धिमान बना सकते हैं।

मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य By Nachiketa SharmaAug 06, 2014

भावनात्‍मक रूप से बुद्धिमान

भावनायें ही तो व्‍यक्ति की प्रवृत्ति का निर्माण करती हैं। भावनाओं को नियंत्रित कर उन्‍हें सही दिशा देकर जीवन को आनंदमय बनाया जा सकता है। भावनायें जब तक आपके नियंत्रण में हैं, तब तक बहुत अच्‍छा है, लेकिन जब आप भावनाओं के नियंत्रण में आ जाते हैं, तो समस्‍या शुरू हो जाती है। अनियंत्रित भावनायें तनाव और अवसाद को जन्‍म दे सकती हैं। भावनाओं को काबू करके आसानी से तनाव, चिंता और अवसाद पर नियंत्रण पाया जा सकता है। यही भावनायें आपके व्‍यक्तिगत और व्‍यावहारिक जीवन में आपके कौशल को बढ़ाने का काम करती हैं। इसलिए खुद को भावनात्‍मक रूप से बुद्धिमान बनायें।

image source - getty images

भावनाओं को नोट कीजिए

अगर अब तक आपने अपनी भावनाओं को पूरे दिन नजरअंदाज किया है इसका मतलब आप अब तक जीवन के खास और महत्‍वपूर्ण अनुभवों से दूर रहे हैं। इसलिए एक दिन अपने दिनभर की पूरी घटनाओं को लेकर अपनी भावनात्‍मक प्रतिक्रियाओं को नोट कीजिए। यह देखिये कि आपकी भावनायें कब सक्रिय होती हैं और जब ये सक्रिय होती हैं तब इसका क्‍या फायदा होता है।

image source - getty images

शारीरिक प्रतिक्रिया पर ध्‍यान दें

आपके शरीर की प्रतिक्रियायें और आपकी भावनायें एक-दूसरे से जुदा नहीं हैं। यह ध्‍यान दीजिए कि जब आप अपनी भावनाओं को आगे लाते हैं तब उस वक्‍त आपके शरीर की प्रतिक्रिया क्‍या होती है। अगर आप दुखी होंगे उस वक्‍त आपकी शरीर की प्रतिक्रिया क्‍या होती है और सुखी होने पर आप कैसा अनुभव करते हैं। अपनी भावनाओं को शारीरिक प्रतिक्रियाओं के साथ जोड़कर भावनात्‍मक रूप से बुद्धिमान बन सकते हैं।

image source - getty images

व्‍यवहार को देखें

जब आपकी भावनायें प्रबल होती हैं उस वक्‍त आपका व्‍यवहार कैसा होता है। जब आपकी भावनायें कमजोर होती हैं उस वक्‍त आप कैसा व्‍यवहार करते हैं। इसका खाका तैयार कीजिए। अगर आप क्रोधित हैं तो आपके चेहरे पर गुस्‍सा तो दिखेगा साथ ही आप ऊंची आवाज में बात करेंगे, अगर आपके चेहरे पर खुशी होगी तो वो भी दिखेगी। तो अपनी भावनाओं के हिसाब से प्रतिक्रिया देने की कोशिश कीजिए।

image source - getty images

खुद की भावनाओं को न आंकें

अपनी भावनाओं को खुद से आंकना छोड़ दीजिए, क्‍योंकि आपको अपने अंदर कभी भी कमी नहीं दिखेगी, अगर आपकी भावनायें गलत होंगी तब भी वे आपको अच्‍छी लगेंगी। अगर आप अपनी भावनाओं को खुद से आंक रहे हैं इसका मतलब आप अपनी कमी को छुपाकर अपनी योग्‍यता को कम कर रहे हैं। इसका नकारात्‍मक असर आपकी सकारात्‍मक सोच पर पड़ता है। इसलिए नकारात्‍मक भावनाओं से बचने की कोशिश कीजिए।

image source - getty images

इतिहास खंगालें

किसी बात को सीखने का सबसे अच्‍छा तरीका होता है इतिहास को खंगालना। अब तक अपने भावनात्‍मक इतिहास के बारे में विचार कीजिए। यह भी सोचिये कि आपने अपने व्‍यवहार से अब तक क्‍या-क्‍या अनुभव किया है। पिछली बार जब आपकी प्रबल भावनायें थी तब आपने क्‍या किया था, इस बारे में विचार कीजिए। इसके लिए खुद से सवाल कीजिए कि उस वक्‍त जो आपने किया क्‍या वह सही था या गलत था? और अगर गलत था तो उसमें कैसे सुधार किया जा सकता है।

image source - getty images

व्‍यवहार के लिए अभ्‍यास कीजिए

आप कब क्‍या सोंचेगे इसपर काबू नहीं पाया जा सकता, क्‍योंकि परिस्थितियों के हिसाब से ही हमारी भावनायें प्रबल और कमजोर होती हैं। लेकिन उन भावनाओं के आधार पर प्रतिक्रिया देना आपके वश में है। इसलिए जब भी आपके साथ कोई नकारात्‍मक घटना घटे उस वक्‍त प्रतिक्रिया देने से बचें, इस दौर में अपनी भावनाओं को काबू करने की कोशिश कीजिए।

image source - getty images

दूसरों से सीखें

दूसरों के व्‍यवहार, स्‍वभाव और प्रतिक्रिया के बारे में सीखें। अगर किसी का व्‍यवहार आपको अच्‍छा लग रहा है इसका मतलब है कि वह भावनात्‍मक रूप से बुद्धिमान है और उसकी प्रतिक्रियाओं पर उसकी भावनायें अधिक हावी नहीं होती हैं। इसलिए दूसरों की बातों को सुनें, सकारात्‍मक बातों का अनुसरण कीजिए और उसे अपने जीवन में भी लागू करने की कोशिश कीजिये। याद रखिये आपको उससे सीखना है अपना पूरा व्‍यक्तित्‍व उस पर नहीं ढालना है। 

image source - getty images

सहानुभूति कौशल को सुधारें

सहानुभूति कौशल का मतलब यह है कि आप दूसरों की भावनाओं को काफी हद तक समझते हैं, उनके दुख-सुख के साथी होते हैं। इसलिए दूसरों के प्रति सहानुभति रखना बहुत जरूरी है, यह आपको सकारात्‍मक सोच की तरफ ले जाती है। खुद को दूसरों के जगह पर रखकर सोचिये, यह सोचिये कि अगर आप उस स्थिति में होते तो क्‍या करते, उस वक्‍त आपका व्‍यवहार कैसा होता।

image source - getty images

तनाव पर काबू पायें

विभिन्‍न प्रकार की भावनायें ही तनाव का कारण बनती हैं। जब कई प्रकार की भावनायें जैसे - घरेलू माहौल, दोस्‍तों के साथ व्‍यवहार, करियर की कठिनाइयां आदि जब एक एक साथ शामिल होती हैं तब दिमाग पर जोर पड़ता है और इसके कारण तनाव होता है। इसलिए तनाव पर नियंत्रण पाने की कोशिश कीजिए, उन बातों के बारे में सोचिये जो तनाव के लिए जिम्‍मेदार हैं।

image source - getty images

अपने विचार के बारे में लिखें

आपनी भावनाओं को शब्‍दों में लिखने की कोशिश कीजिए। 'साइकोलॉजी टूडे' में छपे एक शोध के अनुसार, भावनाओं के बारे में जानने और भावनाओं पर काबू कर खुद को भावनात्‍मक रूप से बुद्धिमान बनाने के लिए जरूरी है कि अपनी भावनाओं को शब्‍दों में लिखें। हर रोज एक घंटे अपने विचारों को लिखें और अगर उसमें गलती हो तो उसे दूर करने की कोशिश कीजिए।

 

image source - getty images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK