Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

हार्मोन संतुलित रखने के आसान तरीके

हार्मोन हमारे शरीर के विकास को प्रभावित करता है, यह पूरे शारीरिक तंत्र को संचालित करता है, इसमें असंतुलन होने पर कई प्रकार की बीमारियां होने लगती है, इसलिए इसे संतुलित रखना जरूरी है।

एक्सरसाइज और फिटनेस By Nachiketa SharmaJan 03, 2015

हार्मोन संतुलन है जरूरी

हर्मोन असंतुलन होने पर कई प्रकार की स्‍वास्थ्‍य संबंधित समस्‍यायें हो जाती हैं। हार्मोंस न सिर्फ शरीर की वृद्धि और विकास को प्रभावित करते हैं, बल्कि सभी तंत्रों की गतिविधियों को नियंत्रित भी करते हैं। स्‍वस्‍थ रहने के लिए जरूरी है कि हमारे शरीर में हमारे शरीर में हार्मोन का संतुलन बना रहे। हार्मोन्स शरीर को ही नहीं मस्तिष्क और भावनाओं को भी प्रभावित करते हैं। खानपान में अनियमितता, व्‍यायाम की कमी, तनाव आदि के कारण इसमें असंतुलन हो जाता है। इसे संतुलित रखना बहुत मुश्किल नहीं है। आसान तरीकों से आप इसपर नजर रख सकते हैं।

image source - getty images

हार्मोन के बारे में जानिये

हार्मोन किसी कोशिका या ग्रंथि द्वारा स्नवित ऐसे रसायन हैं जो शरीर के दूसरे हिस्से में स्थित कोशिकाओं को प्रभावित करते हैं। शरीर का‍ विकास, मेटाबॉलिज्म और इम्यून सिस्टम पर इनका सीधा प्रभाव होता है। हमारे शरीर में कुल 230 हार्मोन होते हैं, जो शरीर की अलग-अलग क्रियाओं को नियंत्रित करते हैं। हार्मोन की छोटी-सी मात्रा ही कोशिका के मेटाबॉलिज्म को बदलने के लिए पर्याप्‍त है। यह एक केमिकल मैसेंजर की तरह एक कोशिका से दूसरी कोशिका तक निर्देश पहुंचाते हैं। अधिकतर हार्मोन्स का संचरण रक्त के द्वारा होता है। कुछ हार्मोन दूसरे हार्मोन को भी नियंत्रित करते हैं।

image source - getty images

पॉली-अनसैचुरेटेड फैट से बचें

मानव के शरीर में 97 प्रतिशत संतृप्‍त और असंतृप्‍त वसा होती है, केवल 3 प्रतिशत पॉली-अनसैचुरेटेड वसा होती है। इसमें आधी वसा ओमेगा3 फैटी एसिड होती है जो शरीर में संतुलन बनाने के लिए जरूरी है। वानस्‍पतिक तेल में बहुत अधिक मात्रा में पॉली-अनसैचुरेटेड फैट होता है, जिसका प्रयोग हम बहुत पहले से करते आ रहे हैं। लेकिन अगर शरीर में इनकी मात्रा बढ़ जाये तो स्किन कैंसर होने की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए वनस्पति तेल, मूंगफली तेल, कनोला तेल, सोयाबीन तेल, आदि का सेवन करने से बचें। इनकी जगह नारियल तेल, जैतून का तेल प्रयोग करें, इसमें ओमेगा3 होता है।

image source - getty images

कैफीन का सेवन कम करें

अगर आप चाय और कॉफी के शौकीन हैं तो इसका सेवन कम कर दें, इसके कारण हार्मोन में असंतुलन हो सकता है। कैफीन का अधिक सेवन इंडोक्राइन ग्रंथि को प्रभावित करती है और इसके कारण सबसे अधिक हार्मोन का असंतुलन गर्भावस्‍था के दौरान होता है। इसलिए कॉफी का सेवन करने की बजाय ग्रीन टी का सेवन करना अधिक फायदेमंद है।

image source - getty images

टॉक्सिंस से बचें

विषाक्‍त पदार्थ जब हमारे शरीर में प्रवेश करते हैं तब हार्मोन में असंतुलन होता है। सबसे अधिक विषाक्‍त पदार्थ प्‍लास्टिक के प्रयोग से शरीर में प्रवेश करते हैं। प्‍लास्टिक की बोटल से पानी पीने, प्‍लास्टिक के बरतन में खाद्य पदार्थ गरम करने के बाद उनका सेवन करने से भी टॉक्सिन शरीर में जाता है। दरअसल प्‍लास्टिक की बोतल या बरतन बनाने के लिए प्रयोग किया जाने वाले बाइसफेनोल ए नामक रसायन जब पेट में पहुंचता है तब इसके कारण पाचन क्रिया के साथ हार्मोन पर भी असर पड़ता है।

image source - getty images

भरपूर नींद है जरूरी

नींद की कमी या अधूरी नींद के कारण कई प्रकार की स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍यायें होती हैं, हार्मोन में असंतुलन भी इसके कारण हो सकता है। गर्भवती महिलाओं को अधिक समस्‍या होती है। इसलिए रोजाना 7-9 घंटे की नींद जरूर लीजिए।

image source - getty images

नियमित व्‍यायाम करें

व्‍यायाम शरीर को स्‍वस्‍थ रखने के लिए बहुत जरूरी है, नियमित व्‍यायाम से न केवल आप फिट रहते हैं बल्कि इससे होने वाली सामान्‍य और खतरनाक बीमारियों से भी बचाव किया जा सकता है। इसलिए नियमित रूप से व्‍यायाम को अपनी दिनचर्या में शामिल कीजिए। रोज कम से कम 30-40 मिनट तक व्‍यायाम जरूरी है।

image source - getty images

तनाव से बचें

वर्तमान में शायद ही कोई ऐसा हो जिसे तनाव न होता हो, तनाव रोजमर्रा की जिंदगी का हिस्‍सा बन गया है। तनाव हमारे पूरे शरीर को प्रभावित करता है और इसके कारण हार्मोन में भी असंतुलन हो जाता है। गर्भवती महिलाओं को तनाव बिलकुल भी नहीं लेना चाहिए। तनाव से बचने के लिए योग और ध्‍यान कीजिए।

image source - getty images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK