Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

फंगल इंफेक्‍शन से बचने के घरेलू उपाय

आजकल की सक्रिय जीवनशैली के कारण फंगल इंफेक्‍शन किसी को भी आसानी से प्रभावित कर सकता है। लेकिन कुछ आसान हर्बल उपचारों की मदद से संक्रमण के कारण कवक को नष्‍ट करने और लक्षणों की तीव्रता को कम करने में मदद मिल सकती हैं।

घरेलू नुस्‍ख By Pooja SinhaMay 22, 2015

फंगल इंफेक्‍शन से बचने के उपाय

फंगल इंफेक्‍शन आमतौर पर कवक से होनी वाली समस्‍या है। इसमें त्वचा की ऊपरी सतह पर पपड़ी, पैरों में खुजली, पैरों के नाखूनों का पीला और मोटा होना, त्वचा पर लाल चकत्ते बनना और उनके चारों ओर खुजली होना, पसीने वाले हिस्सों में ज्यादा खुजली होना, जैसे लक्षण देखने को मिलते हैं जो एक संक्रामक रोग है। फंगल संक्रमण के कुछ सामान्य प्रकार एथलीट फुट, जॉक खुजली, दाद, रिंगवार्म, कैंडिडिआसिस आदि शामिल है। फंगल संक्रमण की गंभीरता व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न हो सकती हैं। फंगल संक्रमण कई कारणों जैसे एंटीबॉ‍योटिक दवाओं के साइड इफेक्‍ट, कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली, डायबिटीज, स्‍वच्‍छता की कमी, गर्म वातावरण में रहना, ब्‍ल्‍ड सर्कुलेशन की कमी आदि से होता है। आजकल की सक्रिय जीवनशैली के कारण फंगल इंफेक्‍शन किसी को भी प्रभावित करना बहुत आम है। लेकिन कुछ आसान हर्बल उपचारों की मदद से संक्रमण के कारण कवक को नष्‍ट करने और लक्षणों की तीव्रता को कम करने में मदद करते हैं।
Image Source : Getty

संक्रमण का आम इलाज है एप्पल साइडर सिरका

एप्पल साइडर सिरका किसी भी प्रकार के फंगल इंफेक्‍शन के लिए बहुत आम इलाज है। एंटीमाइक्रोबील गुणों की उपस्थिति के कारण सेब साइडर सिरका, संक्रमण पैदा करने वाले कवक को मारने में मदद करता है। इसके अलावा, इसकी हल्‍‍की एसिडिक प्रकृति संक्रमण को फैलने से रोकने में मदद करता है और स्‍वास्‍थ्‍य लाभ को बढ़ावा देता है। समस्‍या होने पर एक कप गर्म पानी में दो बड़े चम्‍मच सेब साइडर सिरका मिलाकर पीयें।
Image Source : Getty

सादे दही में मौजूद होता है प्रोबायोटिक्‍स

फंगल इंफेक्‍शन के इलाज के लिए आप सादे दही का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। सादा दही में मौजूद प्रोबायोटिक्‍स लैक्टिक एसिड का निर्माण कर कवक के विकास को जांच में रखता है। समस्‍या होने पर सादा दही कॉटन पर लेकर संक्रमित हिस्‍से पर लगाकर 30 मिनट के लिए छोड़ दें, फिर गुनगुने पानी से धो लें। इस उपाय को संक्रमण के साफ होने तक एक दिन में दो बार लगाये।
Image Source : Getty

एंटीफंगल गुणों से भरपूर लहसुन

लहसुन में मौजूद उपयोगी एंटीफंगल गुणों के कारण यह किसी भी प्रकार के संक्रमण का बहुत ही प्रभावी उपाय है। इसके अलावा इसमें एंटीबैक्‍टीरियल और एंटीबायोटिक गुण भी मौजूद होते हैं जो रिकवरी की प्रक्रिया के लिए महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। समस्‍या होने पर दो लहसुन की कली को अच्‍छे से कुचलकर, उसमें जैतून के तेल की कुछ बूंदें मिलाकर बारीक पेस्‍ट बना लें। फिर इस पेस्‍ट को संक्रमित हिस्‍से पर लगाकर 30 मिनट के लिए छोड़ दें। फिर गुनगुने पानी से त्‍वचा के उस हिस्‍से को धो लें।
Image Source : Getty

प्राकृतिक एंटीसेप्टिक है हल्दी

हल्दी को प्राकृतिक एंटीसेप्टिक, एंटीबायोटिक और एंटीफंगल गुणों के रूप में जाना जाता है। साथ ही, इसकी हीलिंग गुण उपचार को जल्‍द ठीक करने और संक्रमण को दोबारा होने से रोकता है। त्‍वचा के प्रभावित हिस्‍से पर कच्ची हल्दी के जड़ के रस को लगाये। दो से तीन घंटे के लिए इसे ऐसे ही छोड़ दें, और फिर गुनगुने पानी से धो लें। संक्रमण के दूर होने तक इस उपाय को दिन में दो बार करें।
Image Source : Getty

संक्रमण को दूर करें टी ट्री ऑयल

टी ट्री ऑयल में मौजूद प्राकृतिक एंटीफंगल गुण फंगल संक्रमण का कारण बनने वाले कवक को दूर करने में मदद करता है। साथ ही इसके एंटीसेप्टिक गुण शरीर के अन्‍य भाग में संक्रमण के प्रसार को रोकते हैं। ट्री टी ऑयल में ऑलिव ऑयल और बादाम के तेल को बराबर मात्रा में लेकर मिलाये। फिर इस मिश्रण को संक्रमित त्‍वचा पर लगाये।
Image Source : Getty

फैटी एसिड से भरपूर नारियल का तेल

नारियल तेल में मीडियम चेन फैटी एसिड की उपस्थिति के कारण यह किसी भी प्रकार के कवक संक्रमण को दूर करने का एक कारगर उपाय है। यह फैटी एसिड संक्रमण के लिए जिम्‍मेदार कवक को मारने में मदद करता है। नारियल के तेल को संक्रमित त्‍वचा पर लगाकर, थोड़ी देर के लिए छोड़ दें। संक्रमण साफ होने तक इस उपाय को दिन में दो से तीन बार दोहराये। नारियल तेल और दालचीनी के तेल को बराबर मात्रा में मिलाकर भी लगा सकते हैं।
Image Source : Getty

जैतून के पत्ते में मौजूद होते हैं एंटीफंगल गुण

जैतून की पत्‍तों में मौजूद एंटीफंगल के साथ-साथ एंटीमाइक्रोबीयल गुणों के कारण यह कवक को दूर करने में मदद करते है। इसके अलावा यह प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने में मदद करते हैं जिससे संक्रमण को तेजी से ठीक होने में मदद मिलती है। जैतून के पत्‍तों को पीसकर पेस्‍ट बना लें। फिर इसे संक्रमित त्‍वचा पर सीधा लगा लें। 30 मिनट लगा रहने के बाद इसे गुनगुने पानी से साफ कर लें।
Image Source : Getty

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK