Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

जानें हाई कोलेस्‍ट्रॉल से निजात पाने के वैकल्पिक उपाय

वसायुक्त आहार, फास्‍ट फूड, जंक फूड और ज्‍यादा तला हुआ खाने से शरीर में कोलेस्‍ट्रॉल बढ़ने लगता है। लेकिन आहार और अपनी दिनचर्या में कुछ बदलाव कर इस खतरे से बचा जा सकता है। आइए जाने हाई कोलेस्‍ट्रॉल से निजात पाने के वैकल्पिक तरीको के बारे में।

हृदय स्‍वास्‍थ्‍य By Pooja SinhaMar 27, 2014

हाई कोलेस्‍ट्रॉल के लिए वैकल्पिक उपचार

अधिक कोलेस्‍ट्रॉल युक्‍त भोजन न केवल शरीर का वजन बढ़ाता है, बल्कि इससे हार्टअटैक का खतरा भी बढ़ जाता है। वसायुक्त आहार, फास्‍ट फूड और जंक फूड का सेवन कोलेस्‍ट्रॉल बढ़ने का सबसे अहम कारण हैं। इसके साथ ही हमारी अनियमित दिनचर्या भी कोलेस्‍ट्रॉल के स्‍तर में इजाफा करती है। बढ़े हुए कोलेस्‍ट्रॉल को नियंत्रित करने के लिए चिकित्‍सीय तरीके तो हैं ही, लेकिन साथ ही कुछ वैकल्पिक उपाय भी हैं। आइए जाने हाई कोलेस्‍ट्रॉल से निजात पाने के वैकल्पिक तरीको के बारे में। Image Courtesy: gettyimages.in

दो प्रकार का होता है कोलेस्‍ट्रॉल

कोलेस्‍ट्राल दो प्रकार का होता है। एक बैड कोलेस्‍ट्रॉल जो रक्‍त वाहिनियों में जम जाता है। जिससे हमारे दिल को पर्याप्‍त मात्रा में रक्‍त नहीं पहुंचता और दिल की बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। वहीं दूसरा गुड कोलेस्‍ट्रॉल हमारे दिल की सेहत के लिए अच्‍छा होता है। यह बैड कोलेस्‍ट्रॉल को साफ कर दिल को सेहतमंद बनाये रखने में मदद करता है। Image Courtesy: gettyimages.in

धूम्रपान न करें

सिगरेट में कार्सीनो‍जेन और कार्बन मोनोऑक्‍साइड होता है। इससे खून में जल्‍दी ही कोलेस्‍ट्रॉल का लेवल बढ़ जाता है। साथ ही धूम्रपान से धमनियों के अंदर की परत नष्‍ट होने लगती है। धूम्रपान करने से शरीर में खराब कोलेस्‍ट्रॉल का स्‍तर बढ़ने लगता है तथा अच्‍छा कोलेस्‍ट्रॉल घटने लगता है। Image Courtesy: gettyimages.in

ट्रांस फैट से बचें

बुरे कोलेस्‍ट्रॉल के स्‍तर को कम करने के लिए ट्रांस फैट को बिल्‍कुल भी न लें। इसके लिए अंडे का पीला भाग, तला हुआ आहार, वसा वाला दूध और उससे बने उत्‍पाद और फैटी मीट आदि खाने से परहेज करना चाहिए। क्‍योंकि यह तेल आपके खराब कोलेस्‍ट्रॉल के स्‍तर को बढ़ा सकता है। Image Courtesy: gettyimages.in

नियमित व्‍यायाम करें

हाई कोलेस्‍ट्रॉल से निजात पाने के लिए नियमित रूप से व्‍यायाम करने की आदत डालें। इस‍के लिए हफ्ते में चार-पांच दिन कड़ा व्‍यायाम करें। एक्‍सरसाइज से कोलेस्‍ट्रॉल का लेवल कम हो जाता है और हृदय रोग पास नहीं आते। इसलिए सप्‍ताह में 250 मिनट व्‍यायाम के लिए जरूर निकालें। Image Courtesy: gettyimages.in

पालक खाएं

ढेर सारा पालक खाइए। माना जाता है कि पालक के साग में 13 फ्लेवनॉइड तत्‍व पाये जाते हैं, जिनसे कैंसर, हार्ट की बीमारी और ऑस्टियोपोरोसिस से बचाव होता है। इसलिए अगर कोलेस्‍ट्रॉल बढ़ गया है, तो पालक को अपने आहार में शामिल कीजिए इससे दिल की बीमा‍री का खतरा तो कम होता ही है साथ ही आपकी हड्डियां भी मजबूत बनती हैं। Image Courtesy: gettyimages.in

मछली का सेवन

मछली में ओमेगा-3 फैटी एसिड पाया जाता है, जो कोलेस्‍ट्रॉल के उच्‍च स्‍तर को कम करता है। ओमेगा-3 फैटी एसिड दिल के लिए बहुत फायदेमंद होता है। यह ब्‍लड प्रेशर को सामान्‍य रखता है और खून के थक्‍के बनने से रोकता है। अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के अनुसार ओमेगा-3 फैटी एसिड सबसे ज्‍यादा मैक्‍लारेन, हैरिंग, लेक ट्राउट, सार्डिनेस, सालमन, हैलीबट मछली में पाया जाता है। Image Courtesy: gettyimages.in

मेवों का सेवन

पिस्ता, अखरोट और बादाम में मौजूद ओमेगा-3 फैटी एसिड और एंटीऑक्सीडेंट वसायुक्त आहार में मौजूद सैचुरेटेड फैट से आर्टरीज को होने वाले नुकसान की भरपाई करते है। अमेरिकन कॉलेज ऑफ कर्डियोलॉजी के जर्नल में प्रकाशित शोध के अनुसार, पिस्ता खाने से खराब कोलेस्ट्रॉल का स्तर घट जाता है। वसायुक्त आहार लेने के बाद अखरोट का सेवन करने से दिल को संभावित खतरों से बचाया जा सकता है। इसलिए कोलेस्ट्रॉल के स्‍तर को कम करने के लिए अपने आहार में अखरोट, बादाम, काजू, पिस्‍ता आदि शामिल करें। Image Courtesy: gettyimages.in

ओट्स

शरीर में कोलेस्‍ट्रोल के स्‍तर को नियंत्रित रखने के लिए अपने आहार में ओट्स को शामिल करें। ओट्स में घुलनशील फाइबर, प्रोटीन और शुगर होता है। इसके अलावा ओट्स में बीटा ग्लूकेन नामक रसायन होता है, जो कोलेस्ट्रॉल के उच्‍च स्तर को रक्त नलिकाओं से हटा देता है। इसमें अधिक फाइबर होने की वजह से कॉलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है और हृदय की मांसपेशियों को मजबूती मिलती है। Image Courtesy: gettyimages.in

दही

दही कोलेस्ट्रॉल के उच्‍च स्‍तर को कम करने में मदद करता है। दही में मौजूद प्रोबायोटिक्स लैक्टोबैसिलियम एसिडोफिलिस कोलेस्ट्रॉल के स्तर को घटाने में मददगार साबित होता है। दही का नियमित रूप से सेवन करने से शरीर में मौजूद कोलेस्ट्रॉल और फैट कम होता है। हर रोज दो से तीन बार दही खाएं तथा मट्ठा पिएं। Image Courtesy: gettyimages.in

सोयाबीन

साइंस ऑफ फूड एंड एग्रीकल्चर, अमेरिका के जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, सोयाबीन में आइसोफ्लेविन्स नामक प्रोटीन होता है जिससे शरीर में मौजूद बुरा कोलेस्ट्रॉल और अतिरिक्त फैट कम होता है। इसके अलावा चर्बी बढाने वाले कोशिकाओं की वृद्धि को भी यह रोकता है। Image Courtesy: gettyimages.in

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK