• shareIcon

विश्वसनीय लोगों की आदत में शुमार होती हैं ये बातें

विश्वसनीय लोगों की पहचान होती है कि वो अन्य लोगों से काफी अलग होते हैं। ऐसे लोग दिखावे से बहुत दूर रहते हैं। आइए जानें इन लोगों की आदतों के बारे में।

मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य By Anubha Tripathi / Jun 12, 2014

खास होती हैं आदतें

विश्वसनीय लोगों की पहचान होती है कि वो आत्मविश्वास और साहस से भरे हुए होते हैं। ऐसे लोग सच्चाई कहने से नहीं डरते हैं और ना ही अपना असली चेहरा दुनिया से छिपाते हैं। ये जैसे लोगों के सामने होते हैं वैसे ही उनके पीछे भी रहते हैं। आइए जानें विश्वसनीय लोगों की क्या करते हैं।  

विचारों को जाहिर करने से नहीं डरते

ऐसे लोगों की खास बात होती है कि ये अपने विचारों को जाहिर करने से नहीं डरते हैं भले ही इनके विचार औरों से अलग और कम पसंद किए जाने वाले क्यूं ना हों फिर भी यह लोगों के सामने अपने विचार जरूर रखते हैं।

सलाह पर बात

इन लोगों को जो भी सलाह दी जाती है यह उसे तुरंत अपनाते नहीं हैं। पहले वो इस बारे में खुलकर बात करते हैं जिससे मन में उठने वाले सारे सवाल शांत हो जाए फिर यह उस सलाह को अपनाते हैं।  

विशिष्ट पहचान पर गर्व

इन लोगों को अपने विशिष्ट पहचान पर काफी गर्व होता है क्योंकि यह उन्हें भीड़ से अलग बनाता है। ऐसे लोग अपने गुणों के जरिए ही लोगों के दिल दिमाग में अपनी जगह बनाने में कामयाब होते हैं।  

औरों से अलग होती है दिनचर्या

अगर आप ऐसे लोगों से परिचित हों तो आप देखेंगे कि इनकी दिनचर्या अन्य लोगों से काफी अलग होती है जैसे यह सोने जाने से पहले किसी विशेष तरीके से कॉफी बनाते हैं या मोमबत्ती की रोशनी में ध्यान करते हैं।   

जैसे हैं वैसे ही दिखते हैं

ये लोग जब भी अपने दोस्तों या अन्य लोगों से मिलते हैं तो ये जैसे हैं वैसे ही खुद को दिखाते हैं। अगर आपके आसपास ऐसे लोग हैं तो आप उनमें इस आदत को देख सकते हैं।  

बातों की तह तक जाते हैं

ऐसे लोग सुनी-सुनायी बातों पर यकीन करने की जगह बातों की तह तक जाकर सच्चाई का पता लगाते हैं। इसके अलावा किसी भी भावनात्मक खबर पर गॉसिप करने की जगह यह उस खबर के दर्द को समझते हैं।

अपनी कंपनी लगती है अच्छी

विश्वसनीय लोगों को अपना साथ बहुत पसंद आता है। यह खुद के साथ घंटों समय बीता सकते हैं। इसके पीछे मुख्य कारण यह है कि यह खुद को समझते हैं और बखूबी जानते हैं। इसलिए इन्हें अपना साथ बहुत पसंद आता है।

परिस्थितियों का सामना

परिस्थितियों से भागने की जगह यह उनका सामना करना बहेतर समझते हैं। कोई भी स्थिति अच्छी है या खराब इसके बारे में यूं ही कहना इनकी आदत नहीं होती है। यह पहले स्थिति का जायजा लेते हैं फिर स्थिति को अच्छा या बुरा बताते हैं।

दिखावे पर नहीं जाते हैं

यह लोगों को परखने के लिए उनकी अंदर की भावना को देखते हैं ना कि बाहरी दिखावे को। लोग बाहर से अच्छे होने का जितना भी दिखावा कर लें लेकिन जो लोग सच में अच्छे होते हैं उन्हें किसी दिखावे की जरूरत नहीं होती है।

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK