• shareIcon

गर्भावस्‍था और नई चुनौतियां

गर्भावस्‍था के दौरान आप खुद को तन्‍हा और अकेली महसूस करती हैं। इस तन्‍हाई से बचने के लिए इन तरीको आजमाएं।

गर्भावस्‍था By Nachiketa Sharma / Apr 04, 2013

मातृत्‍व का एहसास

मां बनना ही अपने आप में एक सुखद एहसास है, हर महिला मातृत्‍व सुख का एहसास लेना चाहती है। लेकिन प्रेग्‍नेंट होने के बाद आपको मां बनने में 9 महीने लगते हैं। इस दौरान कई कठिनाई और मुश्किलों का सामना करना होता है। जिंदगी के इस रोमांचक पल को खुशी के साथ निभाइए।

प्‍यार जतायें

प्रेग्‍नेंसी ऐसा समय है जब आपका पार्टनर आपके किसी काम को मना नही करेगा। आपका पार्टनर आपकी खुशी और आराम के लिए सभी प्रकार की कोशिश करता है। ऐसे में आप प्‍यार को अलग-अलग तरीके से जतायें। पति के साथ बाहर घुमें, खुद की मसाज करने के लिए कहें, अच्‍छी बातें करें।

संगीत सुनें

प्रेग्‍नेंसी के दौरान आप ज्‍यादातर समय अकेले घर में बिताते हैं। इस दौरान आप अपने पसंदीदा गानों को सुनिए। हल्‍की आवाज में क्‍लासिकल संगीत सुनें, ऐसे गाने सुनिए जिनसे सुकून मिले और मन शांत हो।

मोटापे से न घबरायें

प्रेग्‍नेंसी के दौरान वजन का बढ़ना स्‍वाभाविक है। अपने बढ़ते वजन को लेकर बिलकुल तनाव न लें। यह समस्‍या डिलीवरी के बाद समाप्‍त हो जाती है। इस दौरान खुद को फिट रखने के लिए आप एक्‍सरसाइज और योगा कर सकते हैं। इसके लिए आप चिकित्‍सक की सलाह लीजिए।

आरामदायक कपड़े पहने

प्रेग्‍नेंसी के दौरान सबसे ज्‍यादा परेशानी ड्रेसअप को लेकर होती है। इस दौरान आप पुराने और कसे हुए कपड़े बिलकुल नही पहन सकते। पेट पर ज्‍यादा दबाव न पड़े उसके लिए ढीले कपड़े पहनिए। इसके अलावा ऐसे कपड़ों का चयन कीजिए जो आरामदायक हों और हल्‍के हों।

नये कमरे को सजाइए

प्रेग्‍नेंट होने के बाद आपने अपने आने वाले बच्‍चे के लिए स्‍पेशल कॉर्नर बनाया ही होगा। उस कोने को अच्‍छे से डेकोरेट कीजिए। उसमें छोटे-छोटे खिलौने कुशन आदि से सजाइए। पक्षियों, मछलियों, फूलों और जानवरों आदि के आकार की कलरफुल कटिंग को बच्‍चे के बेड के ऊपर लगा सकते हैं।

स्‍वागत की तैयारी

आप अब मां बनने जानने रही है, यह आपके लिए अलग तरह की दुनिया होगी। ऐसे में सबसे ज्‍यादा वक्‍त अपने सगे-संबंधियों के साथ बिताइए। अपने दोस्‍तों और रिश्‍तेदारों के साथ रहिए। आपके आसपास अगर बच्‍चे हैं तो उनके साथ खेलिए।

भरपूर नींद लीजिए

प्रेग्‍नेंट होने के बाद सबसे ज्‍यादा आराम करने की जरूरत है। इस दौरान नींद से कोई समझौता मत कीजिए। कम से कम 9 से 10 घंटे की नींद लीजिए। भरपूर नींद लेने से तनाव और अवसाद नही होगा।

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK