Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

आहार जो पीठ और कमर दर्द को करे दूर

पीठ का दर्द अपने आप में कोई रोग नहीं हैं, लेकिन कई रोगों का लक्षण हो सकता है। इसलिए पीठ के दर्द को कभी भी नजर अंदाज न करें।

दर्द का प्रबंधन By Pooja SinhaSep 12, 2014

पीठ और कमर दर्द

आज की तेज रफ्तार बदलती हुई जिंदगी की सबसे बड़ी देन हैं, पीठ का दर्द। रोजमर्रा के कामों को गलत ढंग से करने से भी कमर और पीठ का दर्द होता है। जब हम गलत तरीके से लेटते हैं या बैठते हैं, तो संवेदनशील नाड़ियों और अन्य अंगों पर इसका बुरा प्रभाव पड़ता है और बार-बार या लगातार इसके गलत प्रभाव के कारण पीठ के दर्द की शिकायत हो जाती है। पीठ का दर्द अपने आप में कोई रोग नहीं हैं, लेकिन कई रोगों का लक्षण हो सकता है। इसलिए पीठ के दर्द को कभी भी नजरअंदाज न करें। image coutesy : getty images

पीठ के दर्द के लिए आहार

आमतौर पर लगातार झुक कर काम करने, कैल्शियम की कमी या मांसपेशियों में खिंचाव के कारण दर्द हो जाता है। पीठ या कमर दर्द को एक आम समस्या के रूप में देखा जाता है लेकिन शायद आप ये नहीं जानते कि अगर इसे नजरअंदाज किया जाए तो ये बड़ी मुसीबत भी बन सकता है। संतुलित आहार, योग और व्यायाम कमर दर्द से उबरने के सबसे आसान उपाय हैं। आइए, जानें कि आहार की मदद से कैसे इस दर्द को दूर किया जा सकता है। image coutesy : getty images

ओमेगा 3 फैट एसिड

ज्‍यादातर संयंत्र आधरित आहार जैसे अलसी और चिया बीज दर्द को कम करने के सर्वोंतम उपाय है। खासकर तब जब इसे सामन, मैकेरल, सार्डिन, हेरिंग, काले कॉड, ट्यूना जैसे ओमेगा 3 युक्त मछली के साथ संयोजन करके खाया जाये। image coutesy : getty images

रंगीन सेहतमंद स्‍वाद

सूजन कम करने के लिए प्राकृतिक आहार एंटी-इंफ्लेमेटरी आहार का एक महत्वपूर्ण हिस्सा होते है। अमेरिकी पोषण एसोसिएशन के नील ई लेविन, सीसीएन, डनला, ला ग्रेंज के अनुसार, अगर आप पीठ दर्द को दूर करने और पोषण से भरपूर खाद्य पदार्थों की खोज कर रहे है तो आप गाजर, बीट, मीठे आलू, चेरी, जामुन, अंगूर और रेड वाइन, अनार, और तरबूज का इस्‍तेमाल करना चाहिए। image coutesy : getty images

जड़ी बूटियां

तुलसी, दालचीनी, अदरक, मेंहदी, लहसुन, करक्यूमिन, प्याज, अजवायन की पत्ती, और हल्दी सहित जड़ी बूटियों और मसाले  विशेष रूप से एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों से समृद्ध होते है। इसलिए पीठ दर्द से बचने के लिए इसका इस्‍तेमाल अपने आहार में करें। इसके अलावा स्वस्थ जड़ी बूटी युक्त ग्रीन या हर्बल चाय का भी इस्‍‍तेमाल करें। image coutesy : getty images

हरी सब्जियां

जैतून का तेल, हरी चाय, और चमकीले रंग के फल और सब्जियां स्पाइनल कॉर्ड में उपास्थि सूजन को कम करने के लिए के कारण प्रसिद्ध है, जो पीठ दर्द और जकड़न को नियंत्रित करने में मदद करता है। इसलिए अपने आहार में हरी सब्जियों को शामिल करना बेहतर रहता है। एंटी-इंफ्लेमेटरी से भरपूर आहार सूची में गोभी, पालक और ब्रोकोली अव्‍वल नम्‍बर पर आता है, जिसमें दर्द से लड़ने के सारे गुण मौजूद होते है। image coutesy : getty images

प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ से दूरी

प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ, फास्ट फूड, और संतृप्त वसा से बचना चाहिए। इसमें सफेद ब्रेड, पास्ता, चावल, मीठा पेय और स्नैक्स, तले हुए खाद्य पदार्थ, और किसी के भी साथ आंशिक रूप से हाइड्रोजनीकृत तेल जैसी सामग्री शामिल होती हैं। इसके अलावा   कैफीन और शराब से भी दूर रहें। image coutesy : getty images

मोनोअनसैचुरेटेड तेल का चुनाव

हाइड्रोजनीकृत तेल जिसमें मूंगफली, तिल, सोयाबीन, मक्का, कपास, अंगूर बीज, और सूरजमुखी तेल शामिल हैं। इन सब की जगह खाना पकाने के लिए मोनोअनसैचुरेटेड तेल के रूप में केनोला और जैतून तेल को चुनें। image coutesy : getty images

विटामिन बी

पीठ दर्द में विटामिन बी का सेवन आराम दिलाता है। अगर आप विटामिन बी का सेवन नियमित रूप से करते है तो पीठ में दर्द होने की संभावना कम होती है। विटामिन बी, सेंट्रल नर्व सिस्‍टम को सर्पोट करने का काम करती है और पीठ को मजबूती प्रदान करती है। इससे बॉडी में इम्‍यूनिटी भी बढ़ती है। इसके साथ ही विटामिन डी3 और विटामिन सी, कैल्सियम और फास्फोरस से भरपूर आहार भी पीठ दर्द में लाभकारी होता है। image coutesy : getty images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK