Subscribe to Onlymyhealth Newsletter
  • I have read the Privacy Policy and the Terms and Conditions. I provide my consent for my data to be processed for the purposes as described and receive communications for service related information.

कब्‍ज से राहत पाने में मदद करते हैं ये 10 आहार

शौच जाने पर मल सख्त हो या उसे निकलने में बहुत जोर लगाना पड़े या फिर मल की प्रकृति सामान्य न हो, तो इसे कब्ज कहा जाता है। हालांकि कब्ज की समस्या में कुछ खाद्य पदार्थों का सेवन इस समस्या से राहत दिला सकता है।

घरेलू नुस्‍ख By Rahul SharmaFeb 27, 2015

कब्ज की समस्या में आहार

शौच जाने पर मल सख्त हो या उसे निकलने में बहुत जोर लगाना पड़े या फिर मल की प्रकृति सामान्य न हो, तो इसे कब्ज कहा जाता है। रसौली (आंत में गांठ) किसी वजह से आंत में रुकावट आने, खान-पान संबंधी या फिर कई अन्य कारणों से भी कब्ज हो जाती है। कब्ज शुरू होने पर पेट में तेज दर्द होता है या पेट फूल जाता है। हालांकि कब्ज की समस्या में कुछ खाद्य पदार्थों का सेवन इस समस्या से राहत दिला सकता है। तो चलिये जानें कब्ज से राहत पाने में मददगार 10 आहार कौंन से हैं?
image courtesy : getty images

रास्पबेरी

रास्‍पबेरी स्वादिष्ट उच्‍च फाइबर भरपूर फल के रूप में मशहूर है। एक कप रास्‍पबेरी में होल ग्रेन अनाज ब्रेड की 3 स्‍लाइस जितना ही फाइबर होता है। जोकि पाचन को बेहतर बनाता है और मेटाबॉलिज्‍म को सुचारु करता है। साथ ही इसमें प्रचुर मात्रा में विटामिन सी तथा दूसरे महत्वपूर्ण खनिज जैसे फासफोरस, पोटैशियम, कैल्शियम तथा आयरन आदि भी पाये जाते हैं।
image courtesy : getty images

ओटमील

ओट्स में बीटा ग्‍लूकन काफी होता है जो विशेष प्रकार का फाइबर है। ओट्स में वसा कम होती है, यह कोलेस्‍ट्रॉल के स्तर को कम कर शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। इसके अलावा ओटमील में आयरन, प्रोटीन और विटामिन बी 1 भी प्रचुर मात्रा में होता है। कब्ज की समस्या को दूर करने के अवाला इससे कार्डियोवस्कुलर रोगों को कम करने में भी मदद मिलती है।
image courtesy : getty images

ब्रोकोली

ब्रोकोली एक उच्‍च फाइबर युक्त सुपरफूड है। एक कप ब्रोकोली में लगभग 5 ग्राम फाइबर और 50 कैलोरी होती हैं। ब्रेसिक्‍का फेमिली की गहरे रंग की इस सब्‍जी में आयरन, प्रोटीन, कैल्‍शियम, कार्बोहाइड्रेट, क्रोमियम, विटामिन ए और सी होता है, जो इसे और भी पौष्टिक बनाता है। इसके अलावा इसमें फाइटोकेमिकल्स और एंटीऑक्‍सीडेंट भी होता है, जो बीमारियों व इंफेक्‍शन से लड़ने में सहायक होते हैं। इसके सेवन से कब्ज़ की शिकायद भी दूर होती है।
image courtesy : getty images

सब्जियां

सब्जियां जैसे आलू, बंदगोभी, फूलगोभी, मटर, सभी प्रकार की फलियां, शिमला मिर्च, तोरी, टिंडा, लौकी, परमल, गाजर, थोड़ी बहुत मेथी, मूली, खीरा , ककड़ी, कद्दू- पेठा, पालक, नींबू व सरसों आदि के सेवन से कब्ज दूर करने के लिये अच्छी होती हैं।
image courtesy : getty images

फल खाएं

फलों का सेवन जैसे, मौसमी, संतरा, नाशपाती, तरबूज, खरबूजा, आडू, अन्ननास, कीनू, सरदा, आम, शरीफा, अमरूद, पपीता व रसभरी व अनार। यानी मुख्य रूप से रेशेदार फल कब्ज़ की समस्या में बेहद लाभदायक होते हैं।
image courtesy : getty images

बींस

अपने आहार में उच्च फाइबर युक्त अनाज जैसे, राजमा, विभिन्न प्रकार की दालें आदि शामिल करें। पोषण से भरपूर बींस में प्रोटीन तथा घुलनशील फाइबर भी प्रचुर मात्रा में होते हैं और इसमें फैट भी काफी कम होता है। यह संतृप्त वसा से मुक्त होते हैं और स्वास्थ्य के लिए आवश्यक कई पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं। इनका नियमित सेवन से कब्ज़ की समस्या से मुक्ति मिलती है।  
Image courtesy : getty images

अंजीर

खट्टे-मीठे स्वाद वाली अंजीर स्वादिष्ट, स्वास्थ्यवर्धक और बहु उपयोगी फल है। वैज्ञानिकों के अनुसार अंजीर में कार्बोहाइड्रेट (शर्करा) 63 प्रतिशत, प्रोटीन 5.5 प्रतिशत, सेल्यूलोज 7.3 प्रतिशत, चिकनाई 1 प्रतिशत, खनिज लवण 3 प्रतिशत, अम्ल 1.2 प्रतिशत, राख 2.3 प्रतिशत और जल 20.8 प्रतिशत होता है। इसके अलावा प्रति 100 ग्राम अंजीर में लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग आयरन, विटामिन, पोटैशियम, सोडियम, गंधक, फास्फोरिक एसिड और गोंद भी पाया जाता है। स्थाई रुप से होने वाली कब्ज़ अंजीर खाने से दूर हो जाती है। साथ ही गैस और एसीडिटी में भी इसके सेवन से राहत मिलती है।
image courtesy : getty images

बेल का फल

उदर विकारों के लिये बेल का फल रामबाण दवा की तरह होता है। बेल के नियमित सेवन से कब्ज़ की समस्या जड़ से समाप्त हो जाती है। कब्ज़ के रोगी इस समस्या से राहत पाने के लिये इसके शर्बत का नियमित सेवन कर सकते हैं। बेल का पका हुआ फल उदर की स्वच्छता के अलावा आंतों को भी साफ करता है और उन्हें मजबूत बनाता है।  
image courtesy : getty images

शहद या ड्राई फ्रूट

कब्‍ज में शहद का सेवन करना बहुत फायदेमंद होता है। रात को सोने से पहले एक चम्‍मच शहद को एक गिलास गुनगुने पानी के साथ मिलाकर नियमित रूप से पीने से कब्‍ज दूर हो जाता है। शहद के सेवन से मोटापा भी कम होता है और त्वचा पर भी निखार आता है। बादाम, पिस्ता और अखरोट में केवल प्रोटीन ही नहीं होता, उसमें फाइबर भी प्रचुर पाया जाता है। यदि सुबह उठकर बिना कुछ खाए 5 से 10 काजू 4 से 5 मुनक्‍कों के साथ खाएं तो इससे कब्‍ज की शिकायत दूर हो जायेगी।
image courtesy : getty images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK