• shareIcon

आयुर्वेद के मुताबिक किन चीजों को ना खाएं साथ

आयुर्वेद विश्व की प्राचीनतम चिकित्सा प्रणालियों में से एक है। आयुर्वेद के अनुसार कुछ चीजों को साथ नहीं खाना सेहत के लिए अच्छा नहीं होता।

स्वस्थ आहार By Rahul Sharma / Jan 18, 2014

आयुर्वेद के मुताबिक इन चीजों को साथ खाना ठीक नहीं

आयुर्वेद विश्व की प्राचीनतम चिकित्सा प्रणालियों में से एक है। चिकित्सा की यह अनूठी पद्धति शारीरिक विकारों की चिकित्सा के साथ-साथ उनसे बचने के उपायों पर भी बल देती है। यही कारण है कि इस चिकित्सा पद्धति को भारत ही नहीं, विश्व भर में जाना और सराहा जाता है। आयुर्वेद हमें यह जानकारी भी देते हैं कि किस चीज को कैसे खाया जाए कि असका शरीर को पूरा लाभ मिल सके। आयुर्वेद के अनुसार कुछ चीजों को साथ नहीं खाना चाहिए।

दूध के साथ दही

दूध और दही की तासीर अलग-अलग होती है। दही एक खमीर वाली चीज है। इसलिए ही इन्हें मिलाने पर बिना खमीर वाला भोजन (दूध) खराब हो जाता है। इनका साथ सेवन करने से एसिडिटी गैस, अपच व उल्टी हो सकती है। ठीक इसी तरह दूध के साथ संतरे का जूस लेने पर भी पेट में खमीर बनता है। वैसे तो इनको साथ खाना ही नहीं चाहिए, और यदि खाना ही है तो दोनों के बीच कम से कम एक घंटे का अंतर रखें।

दूध के साथ तली-भुनी (नमकीन) चीजें

दूध में मिनरल और विटामिंस के अलावा लैक्टोस शुगर और प्रोटीन भी होते हैं। दूध में नमक मिलने उसमें मौजूद से मिल्क प्रोटीन्‍स जम जाते हैं और उसका पोषण कम हो जाता है। अगर लंबे समय तक इनका साथ सेवन किया जाए तो त्वचा संबंधी बीमारियां हो सकती हैं। आयुर्वेद के अनुसार (मॉडर्न मेडिकल साइंस के उलट) विपरीत गुणों वाले भोजन लंबे वक्त तक और अधिक मात्रा में साथ खाए जाएं तो वे नुकसान पहुंचा सकते हैं।

दही और फल

फलों में अलग एंजाइम होते हैं और दही में अलग। इसलिए इनका साथ सेवन करने पर वे पच नहीं पाते, इसलिए आयुर्वेद में दोनों को साथ लेने की सलाह नहीं दी जाती। फ्रूट रायता कभी-कभार ले सकते हैं, लेकिन बार-बार इसे खाने से बचना चाहिए।

मछली के साथ दूध

दही की तासीर ठंडी होती है। इसे किसी भी गर्म चीज के साथ नहीं लेना चाहिए। वहीं मछली की तासीर काफी गर्म होती है, इसलिए इसे दही के साथ नहीं खाना चाहिए। इसके साथ सेवन से गैस, एलर्जी और त्वचा संबंधी बीमारी हो सकती है। दही के अलावा शहद को भी गर्म चीजों के साथ नहीं खाना चाहिए।

मीठे फल और खट्टे फल

आयुर्वेद के अनुसार, संतरा और केला एक साथ नहीं खाना चाहिए, क्योंकि खट्टे फल मीठे फलों से निकलने वाली शुगर को डाइजेस्ट होने में रुकावट पैदा करते हैं, जिससे पाचन में दिक्कत हो सकती है। इनके साथ सेवन से फलों की पौष्टिकता भी कम हो सकती है। हालांकि मॉडर्न मेडिकल साइंस इस बात से इत्तफाक नहीं रखती।

फैट और प्रोटीन

घी, मक्खन, तेल आदि फैट्स को पनीर, अंडा, मीट जैसे भारी प्रोटींस के साथ नहीं खाना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि दो तरह के खाने अगर एक साथ खाए जाएं, तो वे एक-दूसरे की पाचन प्रक्रिया में दखल देते हैं। इससे पेट में दर्द या पाचन में गड़बड़ी हो सकती है।

दूध के साथ फल खाने

दूध के साथ फल खाने पर दूध के अंदर का कैल्शियम फलों के कई एंजाइम्स को सोख (खुद में समेट लेता है और उनका पोषण शरीर को नहीं मिल पाता) लेता है। संतरा और अनन्नास जैसे खट्टे फल तो दूध के साथ तकई नहीं खाने चाहिए। व्रत वगैरह में बहुत से लोग केला और दूध साथ लेते हैं, जो सेह के लिए बिल्कुल अच्छा नहीं है। आयुर्वेद के अनुसार, केला कफ बढ़ाता है और दूध भी कफ बढ़ाता है। दोनों को साथ खाने से कफ बढ़ता है और पाचन पर भी बुरा असर पड़ता है।

भारी काबोर्हाइड्रेट्स के साथ भारी प्रोटीन

मीट, अंडे, पनीर, नट्स प्रोटीन ब्रेड, दाल, आलू आदि जैसे भारी प्रटीन वाली चीजों को कार्बोहाइड्रेट्स के साथ नहीं खाना चाहिए। दरअसल, हाई प्रोटीन को पचाने के लिए जो एंजाइम चाहिए, अगर वे एक्टिवेट होते हैं तो वे हाई कार्बोहाइड्रेट्स को पचाने वाले एंजाइम को रोक देते हैं। ऐसे में दोनों का पाचन एक साथ नहीं हो पाता। अगर लगातार इन्हें साथ खाएं तो कब्ज की शिकायत हो जाती है।

खाने के साथ पानी

पानी पीना सेहत के लिए अच्छा ही नहीं जरूरी भी है। लेकिन खाने के साथ पानी नहीं पीना चाहिए। दरअसल, खाना लंबे समय तक पेट में रहेगा तो शरीर को पोषण भी ज्यादा मिलेगा। अगर पानी ज्यादा लेंगे तो खाना फौरन नीचे चला जाएगा।

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK