सपनों की हकीकत

सपने देखना हमारे जीवन में सबसे रहस्यमय और दिलचस्प अनुभवों में से एक है। इन्‍हीं सपनों से जुड़ी कुछ चौंका देने वाली हकीकत के बारे में आगे की स्‍लाइड में पढ़ें।

मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य By Pooja Sinha / Jan 07, 2014
सपनों की हकीकत

सपनों की हकीकत

सपनों की दुनिया भी कितनी अजीब होती है, सपने में सपना जैसा कुछ लगता ही नही, बिलकुल ऐसा महसूस होता है जैसे सब सचमुच में घटित हो रहा हो। सपने देखना हमारे जीवन में सबसे रहस्यमय और दिलचस्प अनुभवों में से एक है। इन्‍हीं सपनों से जुड़ी कुछ चौंका देने वाली हकीकत के बारे में आगे की स्‍लाइड में पढ़ें।

भूल जाते है सपने

भूल जाते है सपने

क्‍या आप जानते हैं कि पूरी रात हम जितने भी सपने देखते हैं, उनमें से कितने हमें याद रहते हैं। सोचिये, जरा दिमाग पर ज़ोर डालिये... सपनों से जुड़ी एक हकीकत यह है कि हम जितने सपने देखते हैं जागने के 5 मिनट के भीतर ही आधे से ज्‍यादा सपने भूल जाते हैं।

अंधे लोगों के सपने

अंधे लोगों के सपने

जो लोग जन्‍म के बाद अंधे होते है वह लोग अपने सपनों चित्र देख सकते हैं। जो लोग अंधे पैदा होते है वह किसी भी चित्र को देख नहीं पाते। लेकिन वह ध्वनि, गंध, स्पर्श और भावना व अन्य इंद्रियों से जुड़े समान रूप से ज्वलंत सपने देखते हैं।

सपने सब देखते हैं

सपने सब देखते हैं

ऐसे इनसानों को छोड़कर, जिन्‍हें बहुत ज्‍यादा मनोवैज्ञानिक विकार होता है, हर इनसान सपने देखता हैं। अगर आपको लगता है कि आप सपना नहीं देखते हैं तो ऐसा नहीं है। आप अपने सपनों को भूल जाते हैं।

जान पहचान वाले चेहरे

जान पहचान वाले चेहरे

हमारे मन चेहरों की खोज नहीं करता। हम अपने सपनों में वही लोग या चेहरे देखते हैं जिन्‍हें हमने अपनी जिन्‍दगी में देखा होता हैं। यह अलग बात है कि हम उन्‍हें जानते नहीं है या भूल जाते हैं।

रंगीन नहीं होते सभी के सपने

रंगीन नहीं होते सभी के सपने

सभी लोगों के सपने रंगीन नहीं होते। कुछ सपने ब्लैक एंड वाइट भी होते है।  1915 से 1950 के दशक के माध्यम में हुए अध्ययन के अनुसार ज्‍यादातर सपने ब्‍लैक एंड वाइट होते थे लेकिन परिणामों में 1960 के दशक में बदलाव आ गया। आज केवल 4.4 प्रतिशत सपने ही ब्‍लैक एंड वाइट होते है।

भावनाएं

भावनाएं

चिंता सपने में सबसे आम भावना जो अनुभव की जाती है। नकारात्मक भावनाओं सकारात्मक भावनाओं की तुलना में बहुत आम होती हैं।

सपनों की संख्‍या

सपनों की संख्‍या

क्‍या आप जानते हैं कि एक रात में आप 4 से 7 सपने तक देख सकते हैं और आप कहीं भी हो हर रात औसतन एक या दो घंटे सपने देख सकते हैं।

पुरुषों और महिलाओं के सपने अलग

पुरुषों और महिलाओं के सपने अलग

पुरुष अन्य पुरुषों के बारे में अधिक सपने देखते हैं। दूसरी ओर, एक महिला सपने में पुरुषों और महिलाओं को लगभग समान संख्या में देखती हैं। एक तरफ, पुरुष आमतौर पर सपने में अधिक आक्रामक भावनाओं को देखते हैं जबकि, महिलायें अलग-अलग तरह के सपने देखती हैं।

निकटता का सपना

निकटता का सपना

कुछ ऐसे सपने भी होते हैं जिसमें आप अपने को किसी के साथ यौन संबंध बनाते हुए और बहुत भावुक महसूस करते हैं। इन सपनों में कुछ भी सेक्‍सुअल नहीं होता है। आमतौर पर यह सपने किसी के साथ एक भावनात्‍मक बंधन और सहायक रिश्‍ता को दर्शाते हैं।

बेवफाई का सपना

बेवफाई का सपना

पार्टनर या आप खुद किसी और के साथ सेक्‍स कर रहे हैं, इस तरह के सपने भी लोग बहुत देखते हैं। बेवफाई के सपने आमतौर पर तब आते हैं जब कोई संबंधों में उपेक्षा, परित्‍याग और क्रोध की भावना को महसूस करता हैं। साथ ही यह इस बात का भी संकेत हैं कि पार्टनर से आपको वह प्‍यार और अपनापन नहीं मिल रहा जितना आप चाहते हैं और आप अपनी जरूरतों को दूसरे पार्टनर से पूरा करना चाहते हैं।

मित्र का सपना

मित्र का सपना

अगर आप किसी को बहुत अच्‍छा मित्र मानते हैं लेकिन सपने में उसी मित्र के साथ अपने आप को शरारती होते हुए देखते हैं। तो इस तरह के सपने इस बात का संकेत देते है कि वह मित्र आपके लिए कुछ खास हैं। लेकिन होश्‍ा में आप इस रोमांटिक प्‍यार को स्‍वीकार नहीं कर पा रहे हैं।

यौन उत्पीड़न के सपने

यौन उत्पीड़न के सपने

इस तरह के सपने को हम सपना नहीं बल्कि भयावह अनुभव कह सकते हैं। आमतौर पर यौन शोषण या बलात्‍कार के सपने दर्दनाक अनुभवों को प्रतिनिधित्‍व करते हैं। अगर आपको कोई नियंत्रित करने की कोशिश, धमकी या उपहास उड़ाता है तो इस बात की बहुत अधिक संभावना हैं कि आप उस इंसान को सपने में बलात्‍कारी के रूप में देखें।

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK