Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

व्‍यायाम से कम करें कैंसर का खतरा

व्‍यायाम से न केवल आपका वजन कम होता है और आप सेहतमंद रहते हैं। बल्कि कई शोध यह भी प्रमाणित करते हैं कि यह आपको कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी से बचाने में भी सहायक होते हैं।

कैंसर By Bharat MalhotraAug 22, 2014

व्‍यायाम और कैंसर में संबंध

व्‍यायाम सभी प्रकार के कैंसर के खिलाफ रक्षा-कवच की तरह काम करता है। कैंसर से होने वाली करीब एक तिहाई मौतें मोटापे और आरामतलब जीवनशैली के कारण होती हैं। इसमें कोलोन और स्‍तन कैंसर भी शामिल हैं, जो अमेरिका में सबसे सामान्‍य कैंसर में शामिल हैं। Image Courtesy- getty images

जीवनशैली और कैंसर में संबंध

कर्इ लोग दिल की बीमारियों से बचने के लिए व्‍यायाम करते हैं। लेकिन, व्‍यायाम कैंसर से बचाने में भी महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाता है। जानकारों का कहना है कि ज्‍यादातर कैंसर अनुवांशिक नहीं होते। इनके पीछे जीवनशैली संबंधी कारक उत्‍तरदायी होते हैं। Image Courtesy- getty images

व्‍यायाम कम करे मोटापा और स्‍तन कैंसर का खतरा

दो दर्जन से ज्‍यादा शोध में यह बात सामने आयी है कि व्‍यायाम करने वाली महिलाओं को स्‍तन कैंसर होने का खतरा, निष्क्रिय जीवन जीने वाली महिलाओं की अपेक्षा 30 से 40 प्रतिशत तक कम होता है। इसमें महिलाओं का हॉर्मोन एस्‍ट्रोजन महती भूमिका निभाता है। जिन महिलाओं के रक्‍त में एस्‍ट्रोजन का स्‍तर अधिक होता है, उन्‍हें स्‍तन कैंसर होने का खतरा अधिक होता है। क्‍योंकि व्‍यायाम करने से एस्‍ट्रोजन का स्‍तर कम हो जाता है इसलिए महिलाओं को स्‍तन कैंसर होने का खतरा भी घट जाता है। इसके साथ ही व्‍यायाम इनसुलिन जैसे कैंसर के अन्‍य कारकों को भी कम करता है। Image Courtesy- getty images

बुजुर्ग महिलाओं को भी खतरा

यहां तक कि बूढ़ी महिलाओं को भी एस्‍ट्रोजन के बारे में सोचने की जरूरत होती है। मेनापोज के बाद वसा कोशिकायें इस हॉर्मौन का निर्माण करती हैं। जो महिलायें एक्‍सरसाइज करती हैं उनमें वसा कम होती है इसलिए एस्‍ट्रोजन का निर्माण भी कम होता है। दुनिया भर की महिलाओं में स्‍तन कैंसर सबसे अधिक देखा जाता है। ऐसे में महिलायें व्‍यायाम के जरिये स्‍तन कैंसर के संभावित खतरे को कम कर सकती हैं। Image Courtesy- getty images

कोलन कैंसर को हरायें

अकेले अमेरिका में हर साल करीब 50 हजार लोग कोलोन कैंसर के कारण अपनी जान गंवाते हैं। तीन दर्जन से अधिक शोध में यह बात सामने आयी कि व्‍यायाम करने से कोलोन कैंसर का खतरा 20 फीसदी तक कम हो जाता है। इसके फायदे महिलाओं और पुरुषों दोनों को होते हैं। हालांकि, पुरुषों में व्‍यायाम के फायदे ज्‍यादा देखे जाते हैं। वर्जिश करने से पाचन अम्‍ल और अन्‍य कारकों पर भी सकारात्‍मक असर पड़ता है। और ऐसा माना जाता है कि ये कारक भी कोलोन कैंसर के संभावित कारण हो सकते हैं। एक्‍सरसाइज करने से मोटापा कम होता है, इनसुलिन का स्‍तर स्थिर रहता है इससे भी कोलोन कैंसर का खतरा कम होता है। ताजा शोध में भी यह बात सामने आयी है कि शारीरिक गतिविधि डीएनए को सुधारती है जिससे कोलोन कैंसर का खतरा कम होता है। Image Courtesy- getty images

कितना व्‍यायाम है काफी

जानकार मानते हैं कि हफ्ते के अधिकतर दिन 30 मिनट का व्‍यायाम करना चाहिये। हालांकि अगर आप ज्‍यादा से ज्‍यादा लाभ हासिल करना चाहते हैं तो आपको रोजाना एक घंटा व्‍यायाम करने का लक्ष्‍य बनाना चाहिये। मध्‍यम व्‍यायाम जैसे तेज चलना और साइकिल चलाना आदि भी काफी है। हालांकि अगर आप ज्‍यादा लाभ प्राप्‍त करना चाहते हैं तो आपको थोड़े कड़े व्‍यायाम करने चाहिये। Image Courtesy- getty images

बैठे न रहें

यह कहना आसान है और करना बहुत मुश्किल। रोजाना आधे घंटे का व्‍यायाम जिसमें पैदल चलना, धीरे-धीरे तैरना, साइकिल चलाना आदि से आप अपने व्‍यायाम की शुरुआत कर सकते हैं। इसके अलावा आप लिफ्ट या एक्‍सकलेटर के स्‍थान पर सीढ़ियों का इस्‍तेमाल करें। रात के खाने के बाद जरा यूं ही टहल लिया करें। आप चाहें तो दोस्‍तों या परिवार के लोगों के साथ लंच के समय व्‍यायाम कर सकते हैं। डांस भी कसरत का एक अच्‍छा और मनोरंजक विकल्‍प है। अपने को-वकर्स को बार-बार ईमेल भेजने से अच्‍छा है कि आप उनके पास उठकर जायें। Image Courtesy- getty images

खेलें और मजा लें

पैरों में पेडोमीटर पहनें और देखें कि आप कितने कदम रोज चलते हैं। रोजाना पिछले दिन से ज्‍यादा पैदल चलने का प्रयास करें। आप किसी खेल टीम का हिस्‍सा भी बन सकते हैं। इससे आपको व्‍यायाम के लाभ भी मिलेंगे और साथ ही आपका मनोरंजन भी होगा। Image Courtesy- getty images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK