Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

हम गौर ही नहीं करते कि रोजमर्रा की ये 7 चीजें हैं कितनी अजीब

अपने हाथ को कुछ देर तक यूं ही देखते रहिये, थोड़ी देर बाद आपको वह अजीब सा नजर आने लगता है। और रोजमर्रा की कुछ ऐसी चीजें हैं जिनके बारे में शायद ही आपने कभी सोचा हो, लेकिन यूं ये बातें है बड़ी अजीब।

तन मन By Pooja SinhaJan 22, 2015

रोजमर्रा की अजीब बातें

अपने हाथ को कुछ देर तक यूं ही देखते रहिये, थोड़ी देर बाद आपको वह अजीब सा नजर आने लगता है। और रोजमर्रा की कुछ ऐसी चीजें हैं जिनके बारे में शायद ही आपने कभी सोचा हो, लेकिन यूं ये बातें है बड़ी अजीब।
क्या आपने कभी सोचा है कि अपने दिन का एक तिहाई हिस्सा हम बिना कुछ किये सिर्फ सोने में निकाल देते हैं। या फिर जोर से हंसते हुए हम कितना अजीब लग सकते हैं। लेकिन आप अगर जरा सा ध्यान दें तो फिर ये व्यवहार हमें पूरी तरह विचित्र लग सकता है।
Image Courtesy : Getty Images

रोना

आंखों से गिरने वाले पानी के कारण आपको कैसे अजीब लग सकते है! क्‍योंकि लोग अक्‍सर अपने तनाव को दूर करने के लिए ऐसा करते हैं। यह सच है कि तनाव के दौरान अक्‍सर आंसू आने लगते है, लेकिन वैज्ञानिकों के अनुसार, तनाव के दौरान शरीर स्‍ट्रेस को बाहर निकालने के लिए आंसू कुछ अवांछनीय हार्मोंन और अन्‍य प्रोटीन का उत्‍पादन करता है। जो आंसू के असली भेद को समझाता है।
Image Courtesy : Getty Images

हिचकी

सांस लेने पर फेफड़ों में हवा के आती जाती रहती है। इसके साथ ही वह पर्दा भी हिलता है जो चेस्‍ट और पेट के बीच में होता है। मगर कभी-कभी इस प्रवाह की लय गड़बड़ा जाने से डायफ्रॉम फड़कने लगता है और हिचकी आने लगती है। जल्दी-जल्दी भोजन निगलने, अधिक मिर्च वाला खाना खाने, शराब पीने आदि से हिचकी आ सकती है।
अजीब बात यह है कि हालांकि हिचकी आपको परेशान करती है। लेकिन इसका कोई स्‍पष्‍ट उद्देश्‍य आज तक समझ में नहीं आया। एक
अनुमान के अनुसार, डायाफ्राम संकुचन गैस्ट्रिक या गैस के प्रभाववश होता है। रक्तशून्यता रक्तस्राव, अतिपरिश्रम भय, क्रोध तथा शरीर से जलीय पदार्थ या जीवद्रव्य के निकल जाने से भी हिचकियां आती है।
Image Courtesy : Getty Images

नींद

हम जीवन के लगभग एक तिहाई हिस्‍से को सोने पर खर्च करते हैं। सोने के अभाव में हम सिर्फ कुछ दिन तक रह सकते हैं। लेकिन फिर भी हम सोने की सभी गतिविधियों को समझ नहीं पाते हैं।
नींद केमिकल का उत्‍पादन कर शरीर के "रखरखाव का काम" करता है, ताकी निश्चित रूप से विकासशील दिमाग में न्यूरॉन्स का  संगठन कर जागने के दौरान इसका इस्तेमाल किया जा सके। कई सिद्धांतों इस बात की ओर इशारा करते हैं कि सोना याद्दाश्‍त और सीखने का एक महत्‍वपूर्ण राज्‍य है।
Image Courtesy : Getty Images

ब्‍लश करना

खुशी से गाल लाल होना या शर्माना सामाजिक ध्यान के प्रति एक सार्वभौमिक मानवीय प्रतिक्रिया है। हर कोई इसे दूसरों की तुलना में कुछ अधिक पाने की चाह रखता है। शर्माने के आम लक्षणों में किसी महत्वपूर्ण बैठक में शामिल होना, तारीफ प्राप्त करना और सामाजिक स्थिति में एक मजबूत भावना का अनुभव करना शमिल है।
लेकिन सही मायनों में ब्‍लश का जीवविज्ञान इसतरह से काम करता है: नसों से चेहरे का चौड़ा होना या गाल में रक्‍त के अधिक प्रवाह के कारण गुलाबी रंगत आना। हालांकि, वैज्ञानिक इस बात को लेकर स्‍पष्‍ट नहीं हैं कि ऐसा क्‍यों होता है और इसके कार्य क्‍या है।
Image Courtesy : Getty Images

गैस पास करना

जवाब में ही बदबू आ रही है, लेकिन हमारे खाने और पीने से गैस बनती है। वास्‍तव में, अधिकतर लोग 1 से 4 पिंट्स गैस पैदा करते हैं और एक दिन में कम-से-कम 14 से 23 बार गैस पास करना सामान्य बात है। गैस की समस्‍या खानपान की गलत आदतों जैसे पोषक भोजन खाने की बजाए जल्दी-जल्दी जंक फूड खाना, खाने में बहुत अधिक मिर्च मसाले आदि के कारण होती है। हालांकि इस समस्‍या को हम सामान्‍य मानते हैं लेकिन लंबे समय तक रहने वाली गैस की समस्या अल्सर में बदल सकती है जो और कई तरह की समस्याएं पैदा कर सकती हैं।
Image Courtesy : Getty Images

पलक झपकाना

पलको को झपकाने में कुछ भी अजीब नहीं है : पलकें झपकाने को एक सामान्‍य शारीरिक क्रिया ही माना जाता है। हर दसवीं की गतिविधि के बाद धूल कणों को साफ करने आंखों की तरलता बनाए रखने के लिए पलकों का झपकना जरूरी है। लेकिन शोधकर्ताओं के अनुसार, पलकें झपकाने से दिमाग को भी तरोताजा रहने में मदद मिलती है। इस मौके का फायदा उठाकर आपका दिमाग जरा सी देर के लिए ही सही आराम कर लेता है। शोधकर्ताओं के मुताबिक अपनी जागृत अवस्‍था के दस फीसदी समय में हमारी आंखें मूंदी रहती हैं। पलक झपकने के चलते ही ऐसा होता है। दिमाग इस बेहद छोटे लम्‍हे में खुद को तरोताजा कर लेता है।
Image Courtesy : Getty Images

किस

सोचने पर आपको यह थोड़ा अजीब लग सकता है, लेकिन किस हर किसी को रोमांटिक लगता है। लेकिन इसके साथ-साथ किस से आपके रिश्ते में भी मजबूती आती है- किसिंग के दौरान ऑक्सिटॉसिन नाम का हार्मोन बनता है, जो दो लोगों के बीच बॉडिंग को मजबूत बनाता है। यह तो हम सभी जानते हैं कि जब दो लोग लिप लॉक करते हैं, तो उनकी करीबी बढ़ती है। इसलिए अपने रिश्ते में मजबूती के लिए दो लोग किस करते है।  
Image Courtesy : Getty Images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK