Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

बढ़ा हुआ प्रोस्टेट आपके सेक्स जीवन को कर सकता है प्रभावित

प्रोस्‍टेट ग्रंथि को पौरुष ग्रंथि भी कहा जाता है, यदि यह बढ़ जाये तो कई प्रकार की सेक्‍स समस्‍यायें शुरू हो जाती हैं।

सभी By Pradeep SaxenaApr 09, 2014

प्रोस्‍टेट और सेक्‍स

प्रोस्‍टेट ग्रंथि को पौरुष ग्रंथि भी कहा जाता है, यदि यह बढ़ जाये तो कई प्रकार की सेक्‍स समस्‍यायें शुरू हो जाती हैं। समय से पहले शुक्राणुओं का गिरना और शीघ्रपतन होने जैसी समस्‍यायें प्रोस्‍टेट ग्रंथि के बढ़ने के बाद होने लगती हैं। इसलिए यदि आपका प्रोस्‍टेट सामान्‍य से अधिक है तो इसके कारण आपका सेक्‍स जीवन प्रभावित हो सकता है। आगे के स्‍लाइडशो में जानिए बढ़ा हुआ प्रोस्‍टेट कैसे सेक्‍स संबंधों को प्रभावित करता है।
image courtesy-gettyimages

प्रोस्‍टेट ग्रंथि

प्रोस्‍टेट ग्‍लेंड पुरुषों में पायी जाने वाली एक ग्रंथि है जो कई छोटी-छोटी ग्रंथियों से मिलकर बनी होती है। यह ग्रंथि पेशाब के रास्‍ते को घेर कर रखती है। जब इस ग्रंथि के ऊतकों में गैर-नुकसानदेह कोशिकाओं का विकास हो जाता है तो प्रोस्‍टेट ग्रंथि का आकार सामान्‍य से अधिक हो जाता है। यदि इसका आकार ज्‍यादा बढ़ जाये तो पेशाब करने में समस्‍या हो सकती है।

image courtesy-gettyimages

उम्र और प्रोस्‍टेट

सामान्‍यतया प्रोस्‍टेट के बढ़ने की समस्‍या 50 की उम्र पार करने वाले पुरुषों में बिनाइन प्रोस्टेटिक हाइपरप्लेसिया ग्रंथि की समस्‍या होती है। इसे बीपीएच भी कहते हैं। लेकिन इस समस्‍या के शिकार किसी भी उम्र के लोग हो सकते हैं।

image courtesy-gettyimages

सर्दियों में ज्‍यादा होती है समस्‍या

सर्दियों के मौसम में प्रोस्टेट ग्रंथि की समस्या अन्य मौसमों की तुलना में कुछ ज्यादा बढ़ जाती है। इसका कारण यह है कि सर्दियों में पानी पीने की इच्छा कम होती है, जिसके कारण पेशाब की थैली में एकत्र पेशाब की मात्रा बढ़ जाती है। परिणामस्वरूप किसी व्यक्ति में पेशाब की नली में संक्रमण हो सकता है और पेशाब रुक भी सकती है।

image courtesy-gettyimages

सेक्‍स की इच्‍छा में कमी

बीपीएच की समस्‍या से ग्रस्‍त लोगों की सेक्‍स की इच्‍छा में कमी हो जाती है। हालांकि इसके कारण सेक्‍स की इच्‍छा में कमी के पीछे कोई प्रमुख कारण की पहचान नहीं हुई है, लेकिन 2009 में ''यूरोलॉजी'' में छपे एक शोध के अनुसार इसके पीछे प्रोस्‍टेट के उपचार के दौरान इस्‍तेमाल की जाने वाली दवाओं का साइड-इफेक्‍ट हो सकता है।
image courtesy-gettyimages

स्‍खलन की समस्‍या

बीपीएच की समस्‍या से ग्रस्‍त लोग स्‍खलन की समस्‍या से प्रभावित हो सकते हैं। इसमें स्‍खलन बाहर होने की बजाय अंदर की तरफ होता है, यानी रिवर्स इजैकुलेशन होता है। ये पदार्थ बाद में मूत्र के साथ बाहर निकल जाते हैं।

image courtesy-gettyimages

नपुंसकता की समस्‍या

बिनाइन प्रोस्टेटिक हाइपरप्लेसिया से प्रभावित व्‍यक्ति को नपुंसकता का सामना करना पड़ सकता है। ''इंपोटेंस रिसर्च'' मैगजीन में 2007 में छपे एक शोध के अनुसार इनलार्ज प्रोस्‍टेट के उपचार के दौरान प्रयोग की जाने वाली दवाओं के अधिक प्रयोग के कारण व्‍यक्ति नपुंसकता का शिकार हो जाता है, जिसके कारण उसकी सेक्‍स के प्रति इच्‍छा समाप्‍त हो जाती है।

image courtesy-gettyimages

दवाओं का प्रभाव

प्रोस्‍टेट के बढ़ने के उपचार के दौरान व्‍यक्ति जिन दवाओं का प्रयोग करता है उनके कारण सेक्‍स जीवन पर भी असर पड़ता है। इसके अलावा इन दवाओं का सेवन करने वाले व्‍यक्ति का स्‍पर्म कांउट भी कम हो जाता है। सेक्‍स के प्रति रुचि कम होने जैसे साइड-इफेक्‍ट इन दवाओं के कारण होते हैं।

image courtesy-gettyimages

प्रोस्‍टेट की सर्जरी और सेक्‍स लाइफ

प्रोस्‍टेट ग्रंथि की चिकित्‍सा के लिए सर्जरी की जाती है। इसके लिए दो प्रकार की सर्जरी की जाती है - टीयूआरपी सर्जरी और प्रोस्टेटिक आर्टरी इंबोलाइजेशन सर्जरी। इन सर्जरी के बाद आदमी को कई दिनों तक सेक्‍स से दूर रहने की सलाह दी जाती है। लेकिन सर्जरी के बाद प्रयोग की जाने वाली दवायें सेक्‍स की इच्‍छा को कम कर देती हैं।

image courtesy-gettyimages

गुर्दों को करता है प्रभावित

प्रोस्‍टेट के बढ़ने के कारण गुर्दों पर भी असर होता है। रोगी की पेशाब मूत्राशय के अंदर देर तक रुकी रहे तो कुछ समय के बाद गुर्दों पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ने लगता है। इसके परिणामस्वरूप गुर्दे की पेशाब बनाने की क्षमता कम होने लगती है। जिसके कारण गुर्दे यूरिया को पूरी तरह शरीर के बाहर निकाल नहीं पाते। इस कारण रक्त में यूरिया अधिक बढ़ने लगता है और आदमी तनाव और अवसाद ग्रस्‍त होने लगता है। इसके कारण आदमी सेक्‍स के प्रति उदासीन हो जाता है।

 

image courtesy-gettyimages

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK