• shareIcon

इन 8 आहारों से होता है पीलिया का उपचार

पीलिया यानी जांडिस शरीर में खून की कमी होने लगती है, भूख मर जाती है और आखों के साथ पूरा शरीर प्रभावित होता है, इसके उपचार के लिए इन आहारों का सेवन करें।

संक्रामक बीमारियां By Aditi Singh / Sep 11, 2015

पीलिया में आहार

गर्मी तथा बरसात के दिनों में जो रोग सबसे अधिक होते हैं, उनमें से पीलिया प्रमुख है। यह ऐसा रोग है जो एक विशेष प्रकार के वायरस और किसी कारणवश शरीर में पित्त की मात्रा बढ़ जाने से होता है इसमें रोगी को पीला पेशाब आता है। ऐसे में आप कुछ आहारों का सेवन करके भी पीलिया का मात दे सकते हैं। इन आहारों के बारे में विस्तार से जानने के लिए ये स्लाइडशो पढ़ें।

टमाटर और मूली कर रस

टमाटर में विटामिन सी पाया जाता है, इसलिये यह लाइकोपीन में रिच होता है, जो कि एक प्रभावशाली एंटीऑक्‍सीडेंट हेाता है। इसलिये टमाटर का रस लीवर को स्‍वस्‍थ्‍य बनाने में लाभदायक होता है।मूली के रस मे इतनी ताकत होती है कि वह खून और लीवर से अत्‍यधिक बिलिरूबीन को निकाल सके। रोगी को दिन में 2 से 3 गिलास मूली का रस जरुर पीना चाहिये।

जौ और धनिया बीज

जौ आपके शरीर से लीवर से सारी गंदगी को साफ करने की शक्‍ति रखता है। जौ और धनिया के बीज को रातभर पानी में भिगो दीजिये और फिर उसे सुबह पी लीजिये। जौ और धनिया के बीज वाले पानी को पीने से लीवर से गंदगी साफ होती है।

तुलसी पत्‍ती व आमला

यह एक प्राकृतिक उपाय है जिससे लीवर साफ हो सकता है। सुबह सुबह खाली पेट 4-5 तुलसी की पत्‍तियां खानी चाहिये। आमला मे भी बहुत सारा विटामिन सी पाया जाता है। आप आमले को कच्‍चा या फिर सुखा कर खा सकते हैं। इसके अलावा इसे लीवर को साफ करने के लिये जूस के रूप में भी प्रयोग कर सकते हैं।

गन्ने का रस व पाइनेप्‍पल

जब आप पीलिया से तड़प रहे हों तो, आपको गन्‍ने का रस जरुर पीना चाहिये। इससे पीलिया को ठीक होने में तुरंत सहायता मिलती है।गन्‍ने का रस में नींबू को निचोड़ कर पीने से पेट साफ होता है। इसे रोज खाली पेट सुबह पीना सही होता है। पाइनएप्‍पल एक दूसरे किसम का फल है जो अंदर से सिस्‍टम को साफ रखता है।

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK