Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

साइटिका के दर्द को दूर करने के प्रभावी तरीके

उम्र से जुड़ी साइटिका जैसी समस्या को रोक पाना संभव नहीं है। लेकिन सुरक्षात्मक उपाय अपनाकर इसके दर्द को दूर किया जा सकता है।

दर्द का प्रबंधन By Pooja SinhaSep 16, 2014

साइटिका का दर्द

कमर से संबंधित नसों में से अगर किसी एक में भी सूजन आ जाए तो पूरे पैर में असहनीय दर्द होने लगता है, जिसे साइटिका कहा जाता है। यह दर्द रीढ़ की हड्डी से शुरू होकर टांगों के निचले हिस्‍से तक जाता है। image courtesy : getty images

साइटिका का आरंभ

बड़ी उम्र में हड्डियों तथा हड्डियों को जोड़ने वाली चिकनी सतह के घिस जाने के कारण ही व्यक्ति इस समस्या का शिकार बनता है। आमतौर पर यह समस्या 50 वर्ष की उम्र के बाद ही देखी जाती है। लेकिन नि‍ष्क्रिय जीवनशैली और मोटापे के कारण बड़ी संख्‍या में युवा भी इसका शिकार बन रहे हैं। image courtesy : getty images

साइटिका के सामान्‍य लक्षण

कुछ मरीजों को छींकते, खांसते और हंसते समय दर्द होता है। वहीं कुछ लोगों को लगातार खड़े होने या बैठे रहने में भी दर्द होता है। कुछ मरीज पीछे झुकते समय दर्द का आभास करते हैं। वे मरीज जिन्‍हें लंबे समय तक कमर, लोअर बैक या टांगों के अकड़ने की शिकायत हो या फिर मूत्र अथवा शौच असयंम हो उन्‍हें फौरन डॉक्‍टर से संपर्क करना चाहिये।  image courtesy : getty images

पैरों में झनझनाहट

साइटिका में पैरों में झनझनाहट होती है तथा खाल चढ़ने लगती है। पैर के अंगूठे व अंगुलियां सुन्न हो जाती हैं। कभी-कभी कुछ पलों के लिए पैर बिल्कुल निर्जीव से लगने लगते हैं। इस समस्या के लगातार बढ़ते रहने पर यह आंतरिक नसों पर भी बुरा असर डालना प्रारंभ कर देती है।  image courtesy : getty images

दर्द को दूर करने के उपाय

प्रकृति के नियम को कभी बदला नहीं जा सकता। अर्थात् उम्र से जुड़ी ‘सायटिका’ जैसी समस्या को रोक पाना किसी के लिए भी संभव नहीं है। लेकिन इसके लिए सुरक्षात्मक उपाय जरूर अपनाएं जा सकते हैं, जिससे कि समस्या विकराल रूप न धारण कर सके। image courtesy : getty images

एक ही जगह पर बैठने से बचें

लंबे समय तक एक ही जगह पर बैठने से साइटिका का दर्द बढ़ने लगता है। इसलिए लंबे समय तक एक स्‍थान पर बैठने से बचें। हर आधे-एक घंटे में कुछ देर के लिए खड़े रहने की कोशिश करें। इससे कमर की हड्डियों को आराम मिलता है।  image courtesy : getty images

भारी वस्‍तुओं को उठाने से बचें

झुककर भारी वस्तुओं को उठाने की आदत से भी बचने की कोशिश करें। इससे रीढ़ की हड्डियों के जोड़ों पर अधिक जोर पड़ता है। इसके अलावा भारी वजन उठाकर लंबी दूर तय न करें। अगर ऐसा करना जरूरी हो भी तो बीच-बीच में कहीं बैठकर थोड़ी देर के लिए आराम कर लें। image courtesy : getty images

अपना पॉश्‍चर सही रखें

अगर आपको ऑफिस में लंबे समय तक कुर्सी पर बैठकर कंप्‍यूटर पर काम करना पड़ता है तो कुर्सी में कमर के हिस्से पर एक छोटा सा तकिया लगा लें व सीधे बैठने की कोशिश करें। इसके अलावा मुलायम गद्दों पर ज्‍यादा न सोएं और दर्द वाले जगह पर गर्म पानी की थैली से सिकाई करें।  image courtesy : getty images

व्‍यायाम का सहारा लें

चिकित्सक से सलाह से कमर और रीढ़ की हड्डी से संबंधित व्‍यायाम नियमित रूप से करें। नियमित व्‍यायाम से कमर की मांसपेशियों को मजबूत बनाया जाता है। व्‍यायाम से एंडोरफिन का स्राव भी अधिक होता है। एंडोरफिन कुदरती दर्दनिवारक है।  image courtesy : getty images

दवाओं से दर्द से राहत

शारीरिक आराम, दवाओं व इंजेक्शन की मदद से दर्द पर नियंत्रण में लाया जा सकता है। अगर बहुत ज्यादा दर्द हो रहा हो तो ‘स्टेराइड’ का उपयोग भी करना पड़ता है और कभी-कभी कमर के अंदर तक इंजेक्शन द्वारा दवाओं को पहुंचाना पड़ता है। image courtesy : getty images

सर्जरी

कई बार डिस्‍क को इतना नुकसान पहुंच चुका होता है कि दवाओं के जरिये उसे ठीक कर पाना आसान नहीं होता। ऐसे में सर्जरी का सहारा लिया जाता है। स्लिप या डर्नियेटेड डिस्‍क के लक्षण यदि लगातार बिगड़ रहे हों, तो चिकित्‍सक सर्जरी का सहारा लेता है।  image courtesy : getty images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK