Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

गर्भावस्‍था में मछली के सेवन से बच्‍चे में एडीएचडी का संबंध

गर्भावस्‍था के दौरान अधिक मछली का सेवन करने से बच्‍चों को एडीएचडी नामक बीमारी होने की संभावना बढ़ जाती है, यह एक प्रकार की मानसिक बीमारी है जो उम्र बढ़ने के साथ बढ़ती है।

गर्भावस्‍था By Nachiketa SharmaNov 05, 2014

गर्भावस्‍था में खानपान

गर्भवती महिला के लिए खानपान का ध्‍यान रखना बहुत जरूरी होता है क्‍योंकि वह जो भी खाती है उसका सीधा असर बच्‍चे के स्‍वास्‍थ्‍य पर पड़ता है। गर्भावस्‍था के समय महिला को अधिक मात्रा में प्रोटीन के सेवन की सलाह दी जाती है, क्‍योंकि मां को स्‍वस्‍थ रखने के साथ बच्‍चे के अंगों के समुचित विकास के लिए प्रोटीन जरूरी होता है। प्रोटीन मछली में बहुतायत में पाया जाता है, लेकिन मछली के सेवन से बच्‍चे की याद्दाश्‍त पर असर पड़ता है।

image source - getty images

गर्भावस्‍था में मछली का सेवन

मछली में ओमेगा-3 फैटी एसिड और प्रोटीन पाया जाता है। गर्भावस्‍‍था में मछली के सेवन से बच्‍चे को सभी आवश्‍यक तत्‍व तो मिल सकते हैं। लेकिन इससे बच्‍चे के दिमाग पर सबसे नकारात्‍मक असर पड़ता है। इसके कारण बच्‍चा एडीएचडी (अटेंशन-डिफिसिट/हाइपरएक्टिव डिसऑर्डर) का शिकार हो सकता है।

image source - getty images

क्‍या कहता है शोध

गर्भावस्‍था के दौरान बच्‍चे को एडीएचडी नामक दिमागी समस्‍या हो सकती है। हाल ही में हुए एक शोध में यह बात सामने आयी है। अगर गर्भवती मां मछली का सेवन अधिक करती है तो इसके कारण बच्‍चे को एडीएचडी नामक बीमारी हो सकती है।

image source - getty images

मछली और एडीएचडी में संबंध

ऑर्काइव ऑफ पेडियाट्रिक्‍स एंड एडोलसेंट मेडिसिन नामक पत्रिका में छपे शोध की मानें तो, अगर गर्भवती महिला सप्‍ताह में दो दिन मछली का सेवन करती है तो गर्भ में पल रहे बच्‍चे को एडीएचडी होने का खतरा 60 प्रतिशत तक कम होता है।

image source - getty images

अधिक मछली खाना नुकसानदेह

इसी शोध में यह बात भी छपी है कि अगर गर्भावस्‍था के दौरान अधिक मात्रा में मछली का सेवन करे तो इसके कारण बच्‍चे को दिमागी सक्रियता की कमी, आवेग की समस्‍या, जल्‍दी क्रोधित होने जैसे दिमागी बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है। टूना और स्‍वोर्डफिश मछली खाना नुकसानदेह है क्‍योंकि इसमें मर्करी का स्‍तर सामान्‍य से अधिक होता है।

image source - getty images

उम्र बढ़ने के साथ बढ़ता है खतरा

मैसाचुसेट्स में हुए इस शोध में गर्भवती महिला पर 1993 से 1998 तक शोध किया गया, इसमें प्रसव के बाद भी बच्‍चों के मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य पर शोध जारी रहा। इस शोध में 788 बच्‍चों और उनकी मांओं को शामिल किया गया। जब बच्‍चा 8 साल का हुआ तो अध्‍ययन के दौरान उनमें एडीएचडी के लक्षण दिखाई देने लगे।

image source - getty images

क्‍या है एडीएचडी

एडीएचडी यानी अटेंशन डिफिसिट हाइपरएक्टिव डिसऑर्डर एक प्रकार की मानसिक बीमारी है जो बच्‍चों और बड़ों दोनों को हो सकती है, लेकिन बच्‍चों में होने की संभावना अधिक होती है। इस बीमारी के होने पर आदमी का व्‍यवहार बदल जाता है, याद्दाश्‍त कमजोर हो जाती है और बच्‍चा किसी भी चीज पर ध्‍यान केंद्रित नहीं कर पाता है।

image source - getty images

कैसे करें बचाव

बच्‍चे को एडीएचडी जैसी मानसिक बीमारी से बचाव के लिए जरूरी है कि गर्भावस्‍था के दौरान मछली का सेवन कम मात्रा में किया जाये। मछली के सेवन से मर्करी की मात्रा अधिक न हो, इसलिए गर्भवती महिलायें सप्‍ताह में दो दिन ही मछली का सेवन करें। समुद्र से आई मछलियों से बेहतर है कि आपपास के तालाब या नदी से पकड़ी जाने वाली मछलियों का सेवन कीजिए। स्‍वार्डफिश, किंग मैककेरल और शार्क का सेवन करने से गर्भावस्‍था के दौरान बचना चाहिए। तालाब की रोहू, कातला और हिल्‍सा अच्‍छी होती हैं।

image source - getty images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK