मांसपेशियों में खिंचाव से घुटनों में है तेज दर्द, तो इन 5 व्यायामों से मिलेगी राहत

कई बार मांसपेशियों में खिंचाव, किसी चोट या अन्य कारण से घुटनों में दर्द की समस्या हो जाती है। घुटनों में दर्द के कारण चलना-फिरना और उठना-बैठना भी मुश्किल हो जाता है इसलिए दर्द और परेशानी के अलावा इससे रोजमर्रा के काम भी प्रभावित होते हैं। लेकिन कुछ आ

एक्सरसाइज और फिटनेस By Anurag Anubhav / Mar 29, 2018
आम समस्या है घुटनों का दर्द

आम समस्या है घुटनों का दर्द

घुटने का दर्द सुनने में जितनी आम समस्या लगती है, ये उतनी दर्दभरी होती है। घुटने का दर्द अगर ज्यादा हो तो आपको चलने-फिरने में समस्या होती है। अक्सर लोगों को लगता है कि ये समस्या सिर्फ बुजुर्गों को ज्यादा होती है लेकिन ये गलतफहमी है। वर्तमान जीवनशैली ऐसी है कि युवाओं को भी घुटनों की समस्या होने लगी है। घुटने के दर्द से निपटना बहुत जरूरी है ताकि आप चल सकें।

घुटनों में दर्द के कारण

घुटनों में दर्द के कारण

घुटनों में दर्द कई कारणों से हो सकता है। घुटनों की माँसपेशियो में खून का दौरा सही नहीं होने से उनमें दर्द होना शुरू हो जाता है। इसके अलावा घुटनों की माँसपेशियो में खिंचाव या तनाव होने से भी उनमें दर्द होता है। माँसपेशियो में किसी भी तरह की चोट के प्रभाव से घुटने दर्द कर सकते हैं। वृद्धावस्था में अर्थराइटिस की वजह से घुटने सबसे ज्यादा दर्द होते हैं। इन एक्सरसाइज को नियमित रूप से करने से आप अपने घुटनों के दर्द से छुटकारा पा सकते हैं।

स्टेप अप

स्टेप अप

स्टेपिंग या स्टेप अप्स एक कार्डियो एक्सरसाइज है, जिसके कई फायदे हैं। यह एक्सरसाइज दिल की धड़कन का बढ़ाता है, शरीर में गर्मी पैदा करता है और पूरे शरीर को ऊर्जावान बनाता है। स्टेप अप करते समय अपने घुटने को न मोड़ें। उसे पूरी तरह से सीधा रखें। एक समान गति से एक मिनट तक लगातार स्टेप अप करने से घुटने को काफी फायदा पहुंचेगा। स्टेप अप एक्सरसाइज घुटने को गर्म करता है और इसपर से तनाव को कम करता है। अगर आप किसी तरह की घुटने की चोट से जूझ रहें हैं तो तुरंत इस एक्सरसाइज को कर सकते हैं।

स्ट्रेचिंग कीजिए

स्ट्रेचिंग कीजिए

दर्द से आराम पाने के लिए मसल स्ट्रेचिंग एक बेहतरीन एक्सरसाइज होता है। ऐसे कई स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज हैं जो घुटने के लिए काफी अच्छे होते हैं। ऐसा ही एक एक्सरसाइज है हैम्स्ट्रिंग स्ट्रेचिंग, जिससे घुटनों के मसल ढीले होते हैं। इस एक्सरसाइज के लिए आप एक पैर आगे करें और दूसरे पैर के घुटने को इतना मोड़ें कि आप दबाव महसूस करने लगें। ऐसे ही कुछ और एक्सरसाइज भी हैं।

मैट एक्सरसाइज

मैट एक्सरसाइज

एक्सरसाइज कुछ मैट एक्सरसाइज जैसे लेग लिफ्ट, नी लिफ्ट आदि में घुटने का मसल्स स्ट्रेच होता है, जिससे घुटने के दर्द को कम करने में काफी मदद मिलती है। मैट एक्सरसाइज को आप घर में कभी भी कर सकते हैं। अपने पैर को ऊपर की ओर उठाते समय घुटने को न मोड़ें और कुछ देर पैर को उठा हुआ रहने दें। घुटने की चोट के लिए यह एक्सरसाइज काफी अच्छा होता है।

साइकलिंग

साइकलिंग

साइकलिंग से भी घुटनों का दर्द धीरे-धीरे ठीक हो जाता है। अगर आप घुटने के दर्द को कम करने के लिए एक्सरसाइज कर रहे हैं तो साइकलिंग के दौरान अपने पैरों को सही तरह से पोजिशन करें। साइकलिंग 10 से 15 मिनट तक करना चाहिए और समय के साथ इसे बढ़ा देना चाहिए। साइकलिंग से पैर और घुटने मजबूत होते हैं। घुटने का अस्थिरज्जु और मसल्स मजबूत होते हैं, जिससे चोट का दर्द धीरे-धीरे कम होता है। घुटने की चोट के असर को कम करने का यह एक बेहतरीन एक्सरसाइज है।

योग का अभ्यास

योग का अभ्यास

अगर आपका घुटना किसी वजह से चोटिल हो गया है तो आप योगा कर सकते हैं। योग करने से मसल्स रीलैक्स होते हैं और घुटने पर से दबाव व तनाव भी कम होता है। ऐसे कई योगआसन हैं जो खासतौर पर घुटने को आराम पहुंचाने के लिए होते है। अन्य एक्सरसाइज की तुलना में योगा का असर अधिक समय तक रहता है। यदि आप नियमित रूप से सूर्य नमस्कार करें तो भी घुटने का दर्द काफी कम होता है।

घुटनों के दर्द के घरेलू उपचार

घुटनों के दर्द के घरेलू उपचार

आप अपने घुटनों के दर्द को कुछ घरेलू उपायों से भी दूर कर सकते हो। इसके लिए प्रतिदिन नारियल की गिरी का सेवन करें। इसके अलावा, लगातार 20 दिनों तक अखरोट की गिरी खाने से घुटनों का दर्द समाप्त होता है। बिना कुछ खाए प्रतिदिन प्रात: एक लहसुन कली, दही के साथ दो महीने तक लेने से घुटनों के दर्द में चमत्कारिक लाभ होता है।

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK