• shareIcon

पैनिक अटैक के 7 प्रभावी घरेलू उपाय

पैनिक अटैक के दौरान आपके शरीर अधिक ऑक्‍सीजन और जल्‍दी-जल्‍दी सांस लेने की कोशिश करता है। यह यकीनन बहुत ही अप्रिय स्थिति है। लेकिन घबराइए नहीं, क्‍योंकि कई घरेलू उपचार की मदद से प्रभावी ढंग से पैनिक अर्टक के लक्षणों से राहत पाई जा सकती हैं।

घरेलू नुस्‍ख By Pooja Sinha / Feb 09, 2015

पैनिक अटैक

पैनिक अटैक तीव्र भय या घबड़ाहट के दौरों को कहते हैं जो अचानक पैदा होते हैं और अपेक्षाकृत छोटी अवधि के होते हैं। पैनिक अटैक  आमतौर पर अचानक शुरू होते हैं और 10 मिनट के अंदर चरम अवस्था तक पहुंच जाते हैं। इस अवस्‍था में व्‍यक्ति अपने होशो हवास खोने लगता है। पैनिक अटैक 15 सेकण्ड की अल्पावधि से लेकर कभी-कभी घंटों तक भी आवर्ती में जारी रहता हैं। पैनिक अटैक के प्रभावों में भिन्नता होती है। पैनिक अटैक का अनुभव करने वाले कई लोगों को, ज्यादातर पहली बार के दौरे में दिल के दौरे या नर्वस ब्रेकडाउन का डर लगा रहता है। कहा जाता है कि पैनिक अटैक का अनुभव, किसी व्यक्ति की जिंदगी के सबसे भयावह, कष्टप्रद और असहज अनुभवों में से एक होता है।
Image Courtesy : Getty Images

पैनिक अटैक के लिए घरेलू उपाय

पैनिक अटैक एक संवेदनशील तंत्रिका तंत्र (एसएनएस) की प्रतिक्रिया है। सबसे सामान्य लक्षणों में कंपन, सांस लेने में कठिनाई, दिल का तेजी से धड़कना, सीने में जकड़न, हॉट फ़्लैश, कोल्ड फ्लैश, जलन का अनुभव, पसीना, मिचली, चक्कर आना, सिर में हल्कापन महसूस होना, सांसें तेज चलना, सांसों में रुकावट या दम घुटने की अनुभूति और मस्तिष्‍क में कमजोरी शामिल हैं। पैनिक अटैक के दौरान आपके शरीर अधिक ऑक्‍सीजन और जल्‍दी-जल्‍दी सांस लेने की कोशिश करता है। यह यकीनन बहुत ही अप्रिय स्थिति है। लेकिन घबराइए नहीं, क्‍योंकि कई घरेलू उपचार की मदद से प्रभावी ढंग से पैनिक अर्टक के लक्षणों से राहत पाई जा सकती हैं।
Image Courtesy : Getty Images

बादाम

बादाम में पोटेशियम, कैल्शियम और मैग्नीशियम जैसे महत्वपूर्ण पोषक तत्वों और मिनरल प्रचुर मात्रा में पाये जाते हैं, जो नर्वस सिस्‍टम के कामकाज में सुधार करने के साथ आपके मस्तिष्‍क को स्‍वस्‍थ रखने में मदद करते हैं। इसके अलावा यह पैनिक अटैक को रोकने में भी मदद करता है। इसे इस्‍तेमाल करने के लिए 15 बादाम को रातभर पानी में भिगोकर छोड़ दें। अगले दिन सुबह बादामों  को छीलकर इसका पेस्‍ट बना लें। इसे पेस्‍ट को गर्म दूध में मिलाकर स्‍वानुसार चीनी मिला लें। पैनिक अटैक से राहत पाने के लिए हर सुबह इस औषधि का सेवन करें।
Image Courtesy : Getty Images

ग्रीन टी

ग्रीन टी में एंटीऑक्‍सीडेंट और पॉलीफिनॉल मस्तिष्‍क को तनाव कम करने और मोनोमाइन ऑक्सीडेज की गतिविधि को कम कर  मस्तिष्क की कोशिकाओं और ऊतकों के स्वास्थ्य में मदद करता है। साथ ही पॉलीफिनॉल पैनिक अटैक से जुड़े तनाव को कम करने में भी मदद करता है। सामाजिक कारकों के कारण होने वाले पैनिक अटैक को कम करने के लिए आपको ग्रीन टी का सेवन करना चाहिए। अधिक लाभ पाने के लिए ग्रीन टी के कम से कम तीन कप पीने चाहिए।
Image Courtesy : Getty Images

संतरे

विटामिन से भरपूर होने के कारण रक्‍तचाप को बनाये रखने के साथ पैनिक अटैक को कम करने में मदद करता है। संतरा पैनिक अटैक के दौरान न्‍यूरॉन्‍स को शांत करने में मदद करता है। इसके अलावा यह सुखदायक प्रभाव प्रदान कर पैनिक अटैक को रोकने में मदद करता है।
Image Courtesy : Getty Images

सालमन

समुद्री आहार ओमेगा-3 फैटी एसिड का सबसे अच्‍छा स्रोत है और सालमन मछली में सबसे ज्‍यादा ओमेगा-3 फैटी एसिड होता है। मस्तिष्क के विभिन्न हिस्‍सों में बहने वाले असममित रक्त प्रवाह को पैनिक अटैक के लिए दोषी माना जाता है। लेकिन सालमन जैसे खाद्य पदार्थ मस्तिष्क के कामकाज को बनाए रखने के लिए ऑक्सीजन, ग्लूकोज और अन्य महत्वपूर्ण पोषक तत्वों की आवश्यक राशि मस्तिष्क की कोशिकाओं को प्रदान करते हैं।
Image Courtesy : Getty Images

बीन्‍स

प्रोटीन के साथ-साथ अन्‍य पोषक तत्‍व जैसे थिअमिने और विटामिन बी 1 का समृद्ध स्रोत होने के कारण, बीन्‍स मस्तिष्‍क और तंत्रिका तंत्र के कार्य को अच्‍छे से बना कर पैनिक अटैक को रोकने में मदद करती है। लगातार पैनिक अटैक की समस्‍या से ग्रस्‍त रोगियों में दैनिक आधार पर विटामिन बी-1 की 1-1 आधा मिलीग्राम लेने के लिए कहा जाता है। सेम जैसे खाद्य वस्तुओं आपकी इस आवश्यकता को पूरा कर सकते हैं।
Image Courtesy : Getty Images

एवोकाडो

एवोकाडो में पोषक तत्‍वों की एक पूरी सूची मौजूद है। इसमें विटामिन ए, बी 1, बी 2, बी 3, बी 5, B9, बी 12, सी, डी, ई और पोटेशियम जैसे ओमेगा -3 फैटी एसिड और मिनरल जैसे पॉलीअनसेचुरेटेड वसा मौजूद है। अपने ब्रेन बूस्टिंग पोषक तत्‍वों के लिए प्रसिद्ध यह फल क्षति के खिलाफ मस्तिष्क की कोशिकाओं की रक्षा और पैनिक अटैक से मस्तिष्क संबंधी स्थितियों को रोकने में मदद करता है। एंटीऑक्‍सीडेंट विटामिन जैसे विटामिन सी और ई मुक्‍त कणों को नष्‍ट कर तंत्रिका कोशिकाओं को नुकसान से बचाता है।
Image Courtesy : Getty Images

कैमोमाइल चाय

चिकित्सा और रोगनाशक गुणों के कारण कैमोमाइल चाय का उपयोग दवा के रूप में काफी समय से किया जाता रहा है। इसके एंटी-इफ्लेमेंटरी और शांत रहने वाले गुण तनाव और चिंता के इलाज में मदद करते हैं साथ ही नर्वस को शांत रखने में मदद करते हैं। कैमोमाइल की चाय बनाने के लिए एक कप पानी में सूखे कैमोमाइल के दो चम्‍मच मिलाकर अच्‍छे से उबाल लें। फिर इसमें शहद की एक चम्‍मच मिला लें। इस गर्म चाय को दिन में तीन बार लें। यह मस्तिष्‍क को शांत रखने के साथ आपकी प्रतिरक्षा प्रणानी को भी बढ़ावा देती है।
Image Courtesy : Getty Images

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK