Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

रोजाना 1 मिनट के इस प्राणायम तन और मन दोनों रहेंगे स्‍वस्‍थ

माइंडफुलनेस तकनीक संतुष्टि और शांति का भाव है। यह लोगों को उसी पल में रहने और भटकाव से उनके दिमाग को रोकने की सशक्‍त तकनीक है। हजारों सालों से इसका इस्‍तेमाल आध्‍यात्मिक विकास और मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ावा देने के लिए किया जा रहा है।

तन मन By Atul ModiFeb 16, 2018

माइंडफुलनेस तकनीक

माइंडफुलनेस तकनीक (तकनीक जो आपको दिलायें संतुष्टि और शांति का भाव) लोगों को पल में रहने और भटकाव से उनके दिमाग को रोकने की सशक्‍त तकनीक है। हजारों सालों से इसका इस्‍तेमाल आध्‍यात्मिक विकास और मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ावा देने के लिए किया जाता है। जब मस्तिष्‍क माइंडफुल मेडिटेशन की अवस्‍था में होता है तो मस्तिष्‍क के कुछ हिस्‍से व्‍याकुलता को कम करने और जागरूकता को बढ़ावा देने की ओर प्रेरित करते है। समय के साथ, ध्‍यान वास्‍तव में आपके मस्तिष्‍क के कार्यों में बदलाव कर इसे विश्राम, रचनात्मकता, और अन्‍य चीजों को बढ़ावा देने लगा देता है।

आरामदेह मुद्रा के बड़े लाभ

ध्‍यान से मिलने वाले लाभों को पाने के लिए आपको नियमित रूप से एक घंटे ध्‍यान करने की जरूरत नहीं होती है। इसकी बजाय, आप अपने दैनिक जीवन में त्वरित ध्यान को शमिल कर सकते हैं। जर्नल ब्रेन के शोधकर्ताओं के अध्‍ययन के अनुसार, नियमित रूप से 45 मिनट माइंडफुलनेस मेडिटेशन करने से प्रतिभागियों को अप्रासंगिक जानकारी को दबाने और सही जानकारी पर ध्‍यान केन्द्रित करने में मदद मिलती है। इस विशिष्‍ट माइंडफुल तकनीक को माइंडफुल बेस्ड स्ट्रेस रिडक्शन कहा जाता है।

त्वरित ध्यान के लाभ

त्वरित ध्यान को अपनी दिनचर्या में शामिल करने के कुछ अन्‍य लाभों में

  • बेहतर रिलैक्सेशन
  • बेहतर एकाग्रता
  • अधिक रचनात्मकता और एनर्जी
  • तनाव, चिंता और अवसाद में कमी
  • लंबी अवधि के दर्द में कमी
  • संक्रमण के लिए विरोध शामिल है।  

शोध की मानें तो

जर्नल साइकाइट्री रिसर्च: न्यूरोइमेजिंग के एक अन्‍य अध्‍ययन के अनुसार, शोधकर्ताओं ने एमआरआई इमेजिंग का इस्‍तेमाल करके आठ सप्ताह के लिए घर में माइंडफुल सीडी का इस्‍तेमाल करने वाले लोगों के दिमाग और न करने वाले अन्‍य समूह की तुलना की। शोधकर्ताओं ने पाया कि माइंडफुल मेडिटेशन स्मृति, शिक्षा, और भावनात्मक नियंत्रण के साथ जुड़े मस्तिष्क के क्षेत्रों में वृद्धि का कारण बनता है।

त्वरित ध्यान और माइंडफुलनेस तकनीक

एक शांत कमरे में बस कुछ ही मिनट मेडिटेशन की निर्देशित सीडी के साथ खर्च करके आप माइंडफुल मेडिटेशन के लाभ प्राप्‍त कर सकते हैं। आप अपनी दैनिक दिनचर्या में त्वरित ध्यान को शामिल करके भी इसे सीख सकते हैं। बस आपको जरूरत हैं एक शांत जगह, एक आरामदायक आसन, और सही रवैया की। इन सुझावों का प्रयास करें - यहां तक कि सिर्फ एक मिनट व्‍यतीत करके आप इनका लाभ ले सकते हैं।

श्‍वासों पर ध्‍यान केंद्रित करें

माइंडफुल लक्ष्‍य को हासिल करने के लिए सबसे आम तरीकों में से एक अपने श्‍वास पर ध्‍यान केंद्रित करना होता है। जब आप सांसों को अंदर बाहर करते हैं तो आपका दिमाग रिलैक्‍स और केवल वर्तमान पलों पर ही ध्‍यान केंद्रित करता हैं।

इसे भी पढ़ें: इन 5 योगासनों से मजबूत होगी पाचन शक्ति और दूर रहेंगी लिवर की बीमारियां

दिमाग खुला रखें और मंत्र का प्रयोग करें

एक खुला या गैर आलोचनात्मक मन, जागरूक मन होता है। इसका मतलब अपने विचारों को बिना किसी अलोचना के आने और जाने दे और उनका पीछा करे। आप अपने विचार या भावना को दूर से समझें और बस उसे जाने दें। एक मंत्र में एक या दो सार्थक शब्‍द अपने मस्तिष्‍क में अधिक से अधिक दोहराने से आपके मन में ध्यान केंद्रित करने में मदद मिलती है। एक मंत्र को ध्यान केंद्रित श्वास के साथ जोड़ा जा सकता है।

इसे भी पढ़ें: झड़ते बाल, कमजोर दिमाग और दिल की बीमारियों को ठीक करता है ये एक योगासन

सुकून से खाये

औसत अमेरिकी हर दिन खाने पर बस एक घंटा खर्च करता है। जबकि भोजन माइंडफुलनेस के लिए एक अवसर होता है। माइंडफुल खाने से आपके मन और पाचन दोनों अच्‍छा रहता है। जब आप खाते हैं तो आपका ध्‍यान भोजन की गंध और स्‍वाद पर ध्‍यान केंद्रित होना चाहिए हैं। साथ ही आपको आपके लिए खाने की थाली लगाने वाले सभी लोगों के लिए आभारी होना चाहिए। अपने प्रत्‍येक पल में आपको उपस्थित रहना चाहिए। फिर वह आपका खाने का निवाला हो या भोजन का अनुभव।

प्राचीन आध्यात्मिक परंपरा का हिस्‍सा

माइंडफुल तकनीक में ध्यान केंद्रित करने के लिए लंबे समय तक शामिल होने की जरूरत नहीं होती है। बस पल-पल उपस्थित होना किसी भी समय को बहुमूल्य बनाता है। माइंडफुलनेस ध्यान तकनीक प्राचीन आध्यात्मिक परंपरा का हिस्‍सा है। लगभग 20 लाख अमेरिकी लोग चिंता, अवसाद, दर्द, तनाव, और अनिंद्रा जैसी समस्याओं के लिए इस तकनीक का उपयोग करते हैं।

इसे भी पढ़ें: रोज 10 मिनट निकालकर करिये ये 5 योगासन, कभी नहीं होगा डायबिटीज

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK