• shareIcon

नए रिश्ते में कम्‍यूनिकेशन की इन गलतियों से बचें

क्या आप जाते हैं कि ऐसे क्या है जो प्यार भरे हसीन रिश्तों को कमजोर बना देता है?... इसका एक बड़ा कारण हैं कम्युनिकेशन मिस्टेक्स। छोटी-छोटी कम्युनिकेशन मिस्टेक्स रिश्ते में दरार पैदा कर सकती हैं।

डेटिंग टिप्स By Rahul Sharma / Jul 16, 2014

अपने नए रिश्ते को पनपने में मदद करे बातचीत

इसमें कोई शक नहीं कि रिश्ते प्यारे होने के साथ-साथ नाजुक भी होते हैं। लेकिन ऐसे क्या है जो इन्हें कमजोर बना देता है? नए रिश्तों में कई ऐसी चीजें होती हैं जिनकी वजह से उनमें खटास आ सकती है। ऩए रिश्ते पर जाने पर खट्टे-मीठे तजुर्बे होते हैं। यहां हम नए रिश्ते में आम बातचीत (कम्युनिकेशन) के दौरान की जाने वाली ऐसी ही कुछ गलतियों की बात कर रहें हैं।
(Image source:Thinkstockphotos)

बार-बार टेस्ट ना करें

आपका पार्टनर आपको कितना चाहता है सिर्फ ये जानने के लिए उन्‍हें टेस्ट ना करें। प्यार को साबित करने के लिए कोई भी बात मनवाना गलत है। इसलिए बार-बार ये न पूछें कि "क्या तुम मुझे सच में प्यार करते / करती हो?"

क्या तुम्हें नहीं लगता कि वो अच्छी दिखती है?

जब आप अपने पर्टनर से किसी और के बारे में ये सवाल पूछते हैं तो यकीन मानिए ऐसी बातों के जवाब से निश्चित तौर पर बहस की गुंजाइश बढ़ेगी और झगड़ा भी हो सकता है।

तुलना न करें

मेरी / मेरा एक्स ऐसा कभी नहीं करता / करती या उसने तुमसे बेहतर किया होता.... जब आप अपने पार्टनर की किसी के साथ इस प्रकार तुलना करते हैं तो इससे समस्या हल नहीं होगी बल्कि बढ़ेगी ही।

अपने बारे में गलत बताना

इस बात का खयाल रखें कि आपने साथी को अपने बारे में गलत न बताएं। ऐसा करने से बाद में जब आप कभी सच बताएंगे या उन्हें कहीं और से पता चलेगा, तो आपके प्रति उनका भरोसा कम हो जाएगा। और किसी भी नए रिश्ते के लिए यह अच्छी बात नहीं है।

सवाल पर सवाल करते रहना

यह पज़ेसिव होने की निशानी है। कहां गए थे, किससे बात कर रहे थे, ये क्या है, वो क्या है... इस तरह के सवाल आपके साथी को परेशान कर सकते हैं। इसलिए सवाल वही पूछें, जो काम के हों। बिना मतलब के सवाल न पूछें। इससे सामने वाला इंसान झुंझला जाता है।

सोशल नेटवर्किग साइट्स

सोशल नेटवर्किग साइट्स और इंटरनेट से हमारी दुनिया और आदतें बहुत ही तेजी से बदली जा रही हैं। ऑनलाइन फ्रेंड्स से बात करना अब आसान हो गया है, लेकिन इसमें बढ़ती रुचि के चलते अपने ही साथी के साथ बात करना दुश्‍वार हो गया है। यह एक बड़ी कम्यूनिकेशन मिस्टेक्स है जो हमें अक्सर नजर नहीं आती।

मुझे इसी बात का डर था...

मुझे इसी बात का डर था। इसीलिए तुमसे शादी करने से पहले ही मैं डरा हुआ था/डरी हुई थी। अगर आप ऐसी बात करने जा रहे हैं तो थोड़ा रुकें और सोचें कि ऐसी बातें कहने के पीछे आपकी क्या सोच है। इस तरह से गुस्सा दिखाने और ऐसी बातें कहने से अच्छा है कि आपको जिस बात से परेशानी है उसके बारे में अपने पार्टनर से खुल कर बात कर लें।

दूसरे को नीचा दिखाना

तुम जानते हो हमेशा से तुम्हारी यही प्रॉब्लम रही है... किसी भी रिलेशनशिप में कोई भी पार्टनर अपने बारे में ऐसी बातें सुनना नहीं चाहता है। ऐसी बातें प्यार भरे रिश्ते में दरार डालने का काम करती हैं। इसलिए साथी को नीचा न दिखाएं और इस प्रकार की बातें न करें।

नकारात्मक विचारों, धर्म और राजनीति

किसी के खराब स्वास्थ्य के बारे में बात करना और धर्म और राजनीति की बुराइयों पर ज्यादा बात करने से आपकी सकारात्मक ऊर्जा बाहर निकल जाती है। इसलिए नकारात्मक विचारों से बचने के लिए इन बातों की बजाय अच्छी चीजों के बारे में अधिक बात करें। (Image source:Thinkstockphotos)

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK