Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

जानें सामान्य एलर्जी से जुड़े मिथ

दूध पीने से एलर्जी होने जैसे मिथ से आज भी कई लोग ग्रस्‍त दिखाई देते हैं, ऐसे कई और भी मिथ हैं जिसके बारे में लोगों में जागरुकता की कमी है, आइए इन मिथ के बारे में हम आपको बताते हैं।

एलर्जी By Aditi Singh Aug 17, 2015

एलर्जी से जुड़े मिथ

स्वास्थ्य को लेकर लोगों में कई तरह की मान्यतायें और अपने तरीके भी होते हैं। लेकिन कई ऐसी मान्‍यतायें होती हैं जो सिर्फ किसी मिथ से कम नहीं हैं। लेकिन इन मिथ के बारे में आपको जानकारी ऱखनी जरूरी है वरना ये आपकी सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकती हैं। आपने स्वास्थ्य से जुड़े इन गलतफहमियों के बारे में जानें और स्वास्थ्य पर उनके प्रभावों को भी जानें।
Image Source-Getty

दूध से नहीं है दमा या मुंहासों का संबंध

हालांकि दूध से एलर्जी रखने वाले बच्चों में भविष्य में दमा की आशंका ज्यादा रहती है, लेकिन फिर भी इसका कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है कि डेयरी उत्पादों का प्रयोग करने से दमा होता ही हो। विज्ञान से ऐसे भी कोई प्रमाण नहीं मिले हैं कि दूध का मुहांसों से कोई संबंध हो। दूध तो विटामिन ए और डी का स्रोत है, जो त्वचा को खूबसूरत बनाने में मददगार होता है।
Image Source-Getty

अस्थमा के मरीज नहीं खा सकते खट्टा और सामान्य ठंडा

अस्थमा के मरीज को खट्टा और सामान्य ठंडा नहीं खाना चाहिए, यह मिथ है। आमतौर पर एलर्जी के शिकार जल्दी बनते हैं। इसलिए इन्हें उन चीजों से दूर रहने की सलाह दी जाती है, जिनसे एलर्जी हो सकती हैं, जैसे कि अंडा, मछली या तीखी महक वाली चीजें। हालांकि हर किसी की एलर्जी हो, यह जरूरी नहीं है। इसलिए यह जानना जरूरी हो जाता है कि अस्थमा के मरीजों के स्वास्थ्य के ऐसे कौन से आहार उपयोगी है जिससे उनका स्वास्थ्य सकारात्मक रूप से प्रभावित हो सके।
Image Source-Getty

डायबिटीज के रोगी भी कर सकते है मीठे का सेवन

डायबिटीज के लिए यह माना जाता है, कि इसके रोगियों को मीठी चीजों का सेवन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए। लेकिन हकीकत यह है, कि कभी-कभी मीठी चीजें खाने में कोई हर्ज नहीं है। बल्कि ऐसा डेजर्ट खाना चाहिए, जिसमें फायबर की मात्रा ज्यादा हो, और  ग्लाइकेमिक इंडेक्स कम हो।
Image Source-Getty

जंकफूड से नहीं होते है मुंहासे

कुछ लोगों को लगता है, कि चॉकलेट या फ्रेंच फ्राइज जैसे जंक फूड का सेवन करने से मुहांसों की समस्या पैदा होती है। लेकिन डर्मेटोलॉजिस्ट का मानना है, कि किसी भी प्रकार के फूड का मुहांसों से सीधा संबंध नहीं होता। डाइट में अत्यधि‍क तली हुई चीजें खाने से त्वचा की तैलीय ग्रंथि‍यां सक्रिय हो सकती है, जिससे मुहांसे होते हैं। हां, हेल्दी डायट लेने से त्वचा स्वस्थ एवं सुंदर जरूर बनती है।
Image Source-Getty

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK