Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

सर्दी-जुकाम के मौसम के 7 शिष्टाचार

सर्दियों के मौसम में बहुत आसानी से सर्दी-जुकाम फैलता है। इससे बचने के लिए आपको इस मौसम में कुछ खास शिष्टाचार अपनाने की जरूरत होती है। ऐसा करके आप न सिर्फ अपने आपको बल्कि दूसरों को भी सेहतमंद रहने में मदद करते हैं।

फ्लू By Shabnam Khan Jan 09, 2015

सर्दियों में अपनाएं ये खास शिष्टाचार

सर्दियों का मौसम कोल्ड एंड फ्लू का मौसम भी होता है। इस मौसम में लगभग हर दिन हमारे परिवार, दोस्त और ऑफिस के लोगों में से कोई न कोई सर्दी-जुकाम और खांसी का शिकार बन ही जाता है। ये बीमारियां बहुत आसानी से अपने आसपास के लोगों को संक्रमित करके उन्हें भी बीमार कर देती हैं। इसलिए, इस मौसम में खास एटीकेट्स यानी शिष्टाचार अपनाने की जरूरत होती है, जो कोल्ड एंड फ्लू से आपका और दूसरों का बचाव कर सकता है। आइये जानते हैं ऐसे ही सात सीजन एटीकेट्स के बारे में।

Image Source - Getty Images

जब कलीग हो बीमार

अक्सर लोग बीमार होने के बावजूद ऑफिस चले जाते हैं। खासतौर पर, सर्दियों के दिनों में जब बार-बार सर्दी-जुकाम होता रहता है तो लोग बार-बार ऑफिस से छुट्टी नहीं ले पाते और बीमारी की हालत में चले जाते हैं। ऐसे में वो बॉस की नजर में अच्छे ऐम्प्लॉई साबित जरूर हो जाते हैं लेकिन अपने को-वर्कर के लिए मुसीबत की वजह बन जाते हैं। उनके जर्म्स से उनके कलीग बीमार पड़ सकते हैं। तो अगर आप ऐसे ही कलीग के साथ बैठे हैं जो बीमार होकर भी ऑफिस आ गया है तो आपके लिए ये दिक्कत वाली बात हो सकती है। ऐसी परिस्थिति से बाहर निकलने के लिए उस कलीग को सहानुभूति दर्शाएं, लेकिन उसे बोलने का मौका कम दें। वो बात करने लगें, तो बहुत नर्मी से उनके लिए चाय-कॉफी लेने चले जाएं। जरूरी कॉल या काम का बहाना भी बनाया जा सकता है। लेकिन याद रखें, अपने व्यवहार में नर्मी बनाए रखें।

Image Source - Getty Images

अगर बीमार शख्स हो आपका को-पैसेंजर

अगर आप हवाई जहाज से यात्रा कर रहे हैं और बदकिस्मती से आपके साथ बैठा शख्स कोल्ड और फ्लू साथ लेकर यात्रा कर रहा है तो सावधान हो जाएं! जर्नल ऑफ ऐन्वायरोमेंटल हेल्थ रिसर्च के मुताबिक, अधिक पास में सीट होने और केबिन में कम नमी होने की वजह से हवाई जहाज में जुकाम का सक्रमण होने की आपकी आशंका 113 गुना बढ़ जाती है। ऐसी स्थिति में, रेस्टरूम से कुछ टिशू अपने को-पैसेंजर के लिए लेकर आएं, उससे पूछें कि उसे एलर्जी है या फिर जुकाम। अगर फ्लाइट फुल नहीं है तो अटेंडेंट से कहकर सीट बदलवा लीजिए। अगर ये मुमकिन नहीं तो कोशिश करें कि अपने को-पैसेंजर से बात न करें। अपना मुंह, नाक और आंखें छूने से पहले हैंड सेनेटाइजर का इस्तेमाल करें।

Image Source - Getty Images

जब आ जाए खाना शेयर करने की नौबत

किसी रेस्टोरेंट में बैठा आपका बीमार दोस्त ऑर्डर किया हुआ खाना आपके साथ शेयर करना चाहता है और आप उसके साथ शेयर करने से डर रहे हैं? खैर, डरना भी चाहिए। खाने के साथ-साथ सर्दी-जुकाम के जर्म्स भी शेयर हो जाने का जोखिम तो होता ही है। अगर आप ऐसी स्थिति में फंस जाएं, तो बजाय कि अपने दोस्त को मुंह पर मना करने के होशियारी से काम लें। वेटर से कहें कि वो खाने को दो प्लेट में सर्व करे। आप मजाकिया लहजे में दोस्त से ये भी कह सकते हैं, "मिलकर खाने में मुझे मजा आता है, लेकिन इस मौसम में मैं सेहत का ज्यादा खयाल रखना चाहता हूं!" या फिर आप ये भी कह सकते हैं कि एक प्लेट से खाने में दिक्कत होगी, इसलिए आराम से अलग-अलग प्लेट से खाते हैं।

Image Source - Getty Images

आप भी खयाल रखें दूसरों का

जितना आप दूसरों के जर्म्स से बचना चाहते हैं, उतनी ही कोशिश इस बात की भी होनी चाहिए कि आप उन्हें अपने जर्म्स से बचाएं। अगर आपको कोल्ड और फ्लू है तो आपकी जिम्मेदारी बनती है कि आप किसी से हाथ न मिलाएं। आप उन्हें हाथ न मिलाने का कारण साफ-साफ बता सकते हैं। भला कौन सा इंसान इस बात पर खुश नहीं होगा कि आपको उनकी सेहत का इतना खयाल है?

Image Source - Getty Images

अगर घर आ जाए बीमार मेहमान

आपने घर में गेट-टुगेदर रखा है और आपके ढेर सारे मेहमानों में से एक बीमार है। अच्छे मेजबान बनें या फिर स्वस्थ रहें? आ गया न आप पर धर्मसंकट? घबराइये नहीं, आप इस स्थिति को भी संभाल सकते हैं। सबसे पहले एक अच्छा मेजबान बनते हुए मेहमान से पूछें कि वो क्या लेना पसंद करेंगे, और साथ ही, उन्हें टिशू पेपर भी पकड़ा दें। इससे उनको महसूस होगा कि आपको उनका कितना खयाल है, और इसी दौरान, आप जर्म्स को फैलने से रोकने के लिए पहला कारगर कदम उठा चुके होंगे (टिशू पेपर देकर)। अगर चिप्स और डिप सर्व कर रहे हैं तो सबको अलग-अलग सर्व करें, इससे डिपिंग शेयर करने से बच जाएंगे। अपने बीमार मेहमान के चले जाने के बाद कमरों में ताजा हवा आने दें और घर में कीटाणुनाशक स्प्रे छिड़क दें।

Image Source - Getty Images

लगातार खांसी होने पर

अगर आपको काफी खांसी है तो गले को आराम देने वाली चीज़ें जैसे कि कफ ड्रॉप, मिंट, पानी या फिर गर्म चाय का एक ट्रैवल मग अपने पास रखें। अगर आपकी खांसी में इनसे भी आराम न हो तो कमरे से बाहर निकल आएं, जब तक कि आपकी खांसी न रूके। अगर आपके साथ कमरे में कोई और हो तो सिर्फ "एस्क्यूज मी!" कहना काफी रहेगा। ज्यादा बोलते से आपकी खांसी बढ़ भी सकती है।

Image Source - Getty Images

अगर किसी की नाक बह रही हो

बहुत ज्यादा सर्दी में या जुकाम बढ़ जाने पर नाक का बहना आम बात है और उतना ही आम है जिस शख्स की नाक बह रही हो उसे इसकी जानकारी न हो। अगर ऐसा कोई शख्स आपके आसपास खड़ा या बैठा है और आपकी उससे इतनी जान पहचान नहीं है कि आप उसे ये बात बता सकें (या उस पर हंस सकें) तो भी कुछ तो है ही जो आप कर सकते हैं। ऐसी स्थिति में आप हल्के से हाथ से अपनी नाक की ओर इशारा करें, और फिर उन्हें टिशू ऑफर करें। इतने में वो शख्स समझ जाएगा। हो सकता है कि वो थोड़ा झेंप जाए, लेकिन आपकी हल्की सी मुस्कुराहट जो ये कह रही हो, "कोई बात नहीं!" उसकी झेंप मिटा देगी।

Image Source - Getty Images

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK