• shareIcon

सेक्सुअल सक्रियता में कमी के कारण और इलाज

बहुत-सी महिलाएं या पुरुष में चाहते हुए भी सेक्स की इच्‍छा नहीं होती। अगर वे अपने पार्टनर के कहने पर तैयार हो भी जाते हैं, तो भी बिल्कुल ऐक्टिव नहीं हो पाते।

सभी By ओन्लीमाईहैल्थ लेखक / Jan 10, 2014

कामेच्छा में कमी

बहुत-सी महिलाएं या पुरुष में चाहते हुए भी सेक्स की इच्‍छा नहीं होती। अगर वे अपने पार्टनर के कहने पर तैयार हो भी जाते हैं, तो भी बिल्कुल ऐक्टिव नहीं हो पाते। वह सेक्‍स को बस एक ड्यूटी समझकर निबटा देते हैं, बस। बच्चे होने के बाद यह समस्या और भी ज्यादा हो जाती है। आगे की स्‍लाइड्स में जानें कि सेक्‍स की इच्‍छा में कमी क्‍यों आती हैं।

उम्र के कारण

अकसर लोग बढ़ती उम्र को सेक्‍स शक्ति में कमी का कारण मान लेते हैं। यह बात पूरी तरह सच नहीं है। सच्‍चाई यह है कि यदि मध्‍यम उम्र के पुरुष या महिला अपने स्वास्थ्य की देखभाल सही ठीक से करें, तो वह सेक्स का आनन्द ले सकते हैं।

लुब्रिकेशन और टेस्टोस्टेरोन हार्मोन की कमी

महिला जननांग में लुब्रिकेशन को उत्तेजना का पैमाना माना जाता है। लेकिन कुछ महिलाओं को इसमें कमी की शिकायत होती है। ऐसे में सेक्‍स काफी तकलीफदेह हो जाता है। जबकि पुरुषों के शरीर में टेस्टोस्टेरोन हार्मोंन के स्तर में कमी आने से सेक्स करने की इच्छा कम हो जाती है।

मांसपेशियों में कमजोरी

ज्यादातर लोगों में सेक्स इच्‍छा खत्म होने का सबसे बड़ा कारण इरेक्टाइल डिस्फंक्शन यानी लिंग की मांसपेशियां का कमजोर होना होता है। ये समस्या कई कारणों से हो सकती है जैसे- विटामिन बी की कमी, बुरी आदतें, लाइफस्टाइल और तनाव संबंधी समस्या।

सहवास में दर्द

कुछ महिलाओं को सहवास के दौरान दर्द होता है। कई बार यह दर्द बहुत ज्यादा होता है कि ऐसे में महिला सेक्स से बचने लगती है। साथी को इस दर्द का अहसास नहीं होता। उसे लगता है कि साथी महिला उसे सहयोग नहीं दे रही।

ऑर्गेज्म न होना या देर से होना

महिलाओं में यह शिकायत आम है कि उनका पार्टनर उन्हें संतुष्ट किए बिना ही छोड़ देता है। कुछ को ऑर्गेज्म नहीं होता और कुछ को होता है परन्‍तु महसूस नहीं होता। जबकि सेक्स के दौरान पुरुष स्खलन होने के साथ ही उनकी उत्तेजना शांत हो जाती है फिर चाहे उनकी पार्टनर की कामोत्तेजना शांत न भी हो। इसलिए भी लोग सेक्स से बचने लगते हैं।

हॉर्मोन थेरेपी

अगर सेक्‍स में इच्‍छा न होने का कारण हॉर्मोन की कमी है तो इसको दूर करने के लिए हॉर्मोन थेरेपी की मदद ली जाती है। इस थेरेपी की मदद से दो से तीन महीने के अंदर इस समस्‍या को दूर कर दिया जाता है।

सेक्स थेरेपी

सेक्‍स में कमी होने के कई मामले शारीरिक न होकर दिमागी होते है। ऐसे मामलों में सेक्स थेरेपी की मदद से मरीज को सेक्स संबंधी विस्तृत जानकारी दी जाती है, जिससे वह अपने तरीकों में सुधार करके इस समस्या से बच सकता है।

वियाग्रा

सेक्‍स इच्‍छा में कमी के लिए वायग्रा का इस्तेमाल अच्छा ऑप्शन है, लेकिन इसका इस्तेमाल डॉक्टरी सलाह के बिना नहीं करना चाहिए। वियाग्रा सेक्‍स की इच्‍छा को ठीक करने में फायदेमंद साबित तो होती है, लेकिन यह महज एक अस्‍थायी तरीका है। इससे समस्या की वजह ठीक नहीं होती।

तनाव से दूरी

मानसिक तनाव से भी सेक्‍स क्षमता में कमी आती है। आपको चाहिए कि स्‍वस्‍थ जीवनशैली अपनायें और तनाव से दूर रहें। इसके लिए आप ध्‍यान और योग का सहारा लें।

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK