• shareIcon

फलों और सब्जियों के सेहतमंद हिस्से जो आप नहीं खाते

फलों और सब्जियों के बेकार हिस्से को काटने से पहले इसके फायदों के बारे में जान लेना जरूरी है। आइए जानें फलों और सब्जियों के काट कर फेंकने वाले हिस्से में समाए गुणों के बारे में।

स्वस्थ आहार By Anubha Tripathi / Mar 10, 2014

फलों और सब्जियों के बेस्ट पार्ट

हम हर रोज सेहत से भरपूर फलों और सब्जियों का सेवन करते हैं लेकिन क्या उसका पूरा पोषण आपको मिल रहा है? कई बार ऐसा देखा जाता है कि आप इन पौष्टिक आहार का सेवन करते समय उनके फायदेमंद भाग को काट कर अलग कर देते हैं। इसकी सबसे बड़ी वजह यह है कि आपको उनके फायदों के बारे में जानकारी नहीं हैं। आइए जानें कुछ ऐसे ही फलों और सब्जियों के बारे में जिनके संपूर्ण भाग में समाए हैं सेहत के गुण।  image courtsey getty images

सेब का छिलका

ज्यादातर लोग सेब छीलकर खाते हैं लेकिन डॉक्टरों की मानें तो ऐसा नहीं करना चाहिए। सेब के छिलके में भी शरीर के लिए जरूरी कई पोषक तत्व होते हैं। एक सेब के छिलके में औसतन चार मिलीग्राम क्वेरसेटिन होता है, जिसमें एंटीऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में पाया जाता है। इसकी वजह से कोशिकाएं स्वस्थ बनी रहती हैं। यह तत्व कैंसरकारी एजेंटों को भी रोकता है, जिससे शरीर में कैंसर का विकास और प्रसार रुक सकता है। image courtsey getty images

संतरे का छिलका

यह पाचन में सुधार, गैस, उल्टी, हार्ट बर्न और अम्लीय डकार को दूर करने में मदद करता है। यह भूख बढाता है और मतली से राहत दिलाने का काम करता है। इसके अलावा यह मोटे व्‍यक्‍तियों में हाई कोलेस्‍ट्रॉल को कम करता है। इसमें फ्लेवेनॉइड पाया जाता है जो कि पेट के कैंसर और ऑस्‍टियोपुरोसिस से लड़ने में मदद करता है। image courtsey getty images

गोभी की पत्‍तियां

गोभी की हरी पत्‍तियों को हम हमेशा ही नजरअंदाज कर जाते हैं और गोभी की सब्‍जी बना कर खा जाते हैं। कई लोगों को इसके बारे में जानकारी नहीं है, लेकिन इन हरी पत्‍तियों में अच्‍छी मात्रा में विटामिन के पाया जाता है जो कि अन्‍य सब्‍जियों में बडी़ ही मुश्‍किल से प्राप्‍त होता है। image courtsey getty images

शलजम की पत्‍तियां

शलजम खाते समय लोग इसकी पत्तियों को काटकर अलग कर देते हैं क्योंकि वे इसके गुणों से अनजान होते हैं। शलजम की पत्‍तियों में विटामिन ए और के, मिनरल, अमीनो एसिड, कैरोटीन और ल्‍यूटीन पाया जाता है। शलजम के छोटे-छोटे पत्तों को काटकर लोहे की कढ़ाई में तेल और मसाले डालकर भुजिया बनाने से आयरन मिलेगा।पत्तियों को काटते समय यह ध्यान रखें कि उसमें कीड़े आदि ना लगे हों।  image courtsey getty images

ब्रोकली की डंडी

हरी पत्‍तेदार सब्‍जियों में ब्रोकली का नाम सबसे ऊपर हो रहा है क्‍योंकि लोग इसकी आवश्‍यकता को जानने लगे हैं। इसमें बहुत सारा एंटी ऑक्‍सीडेंट, फाइबर, कैल्‍शियम और मैगनीशियम पाया जाता है। इसको खाने से लो पीबी की समस्‍या कंट्रोल में रहती है। image courtsey getty images

अनार का छिलका

अनार के छिलके को धूप में सुखा कर पाउडर के रूप में तैयार करने के बाद इसे स्वच्छ पानी के साथ फांकने से पुरानी से पुरानी पेचिस जल्द ही खत्म हो जाती है। इस चूर्ण को तब तक लें जब तक समस्या पूरी तरह से ठीक ना हो जाए। image courtsey getty images

करेला का छिलका

कड़वे करेले के छिलकों को निचोड़ कर नमक लपेट करके लगभग एक घंटे तक तेज सूर्य की किरणों में सुखाएं। फिर इसे तलकर इस्तेमाल में लाएं। यकीनन, मधुमेह की मार झेल रहे रोगियों के लिये यह किसी रामबाण औषधि से कमतर साबित नहीं होगी। image courtsey getty images

 

आलू का छिलका

आलू के छिलके उतार कर खाने वालों के लिए यह जानना बहुत जरूरी है कि इसमें फाइबर पर्याप्त मात्रा में होता है जो स्किन के लिए काफी अच्छा माना जाता है। इसी के साथ इसमें विटामिन बी, विटामिन सी, आयरन, कैल्शियम भी काफी मात्रा में पाया जाता है। इसलिए अब से आलू को छिलके के साथ ही खाएं। image courtsey getty images

पालक की डंडी

पालक की डंडियों को व्यर्थ समझकर फेंकने की जगह इसकी सब्जी या आंटे में गूंथ कर इसकी रोटी बनाकर खाएं। आप चाहें तो इसका सूप भी बना सकते हैं। इसमें भी वही गुण होते हैं जो पालक की पत्तियों में पाए जाते हैं। जिन लोगों में खून की कमी होती है तो उनके लिए यह काफी फायदेमंद होता है। image courtsey getty images

तरबूज का छिलका

तरबूज का सेवन करते समय इसके छिलके को उतार कर कभी ना फेंके। इसमें मौजूद अमीनो एसिड को एल-सिट्रूलाइन कहते हैं जो एथलीट की कार्यक्षमता को बढ़ाने के साथ ही मांसपेशियों के दर्द को भी दूर करता है। सिट्रूलाइन रक्त में मौजूद नाइट्रोजन की मात्रा को हटाने में भी मददगार साबित होता है। image courtsey getty images

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK