• shareIcon

महिलाओं की सभी समस्याओं को दूर करने वाले आहार

महिलाओं को अक्सर सामान्य बीमारियों जैसे - सिरदर्द, कमरदर्द आदि से जूझना पड़ता है, इसे दूर करने के लिए चिकित्‍सक के पास जाने की बजाय अपने खानपान पर ध्‍यान दें और ऐसे आहारों का सेवन करें जो इन बीमारियों से निजात दिलायें।

महिला स्‍वास्थ्‍य By Aditi Singh / Apr 02, 2015

महिलाओं की समस्या और आहार

कई आहारों के फायदे और नुकसान के बारें में महिलाएं अक्सर बात करती रहती हैं, कैसे बेरीज एंटीआक्सीडेंट से भरपूर होती है और मछली से हमें ओमेगा3 फैटी एसिड मिलता है। पर क्या ये सब हमारी रोजमर्रा की दिक्कतों से हमेशा निजात दिला सकती हैं। अगर दिला भी सकती हैं तो क्या हम जानते हैं। आज हम आपको रोज होने वाले सिरदर्द से लेकर अनिद्रा तक की शिकायतों को दूर करने वाले आहारों के बारे में बताते हैं। इन समस्याओं और आहारों के बारे में विस्तार से जानने के लिए ये स्लाइडशो पढ़ें।
ImageCourtesy@gettyimages

माहवारी के दर्द में आराम

महिलाएं हर महीने माहवारी के दर्द से गुजरती हैं। इस दर्द से राहत के लिए वे हरी पत्तेदार सब्जियां, फाइबर, लो फैट, अनाज, नट्स आदि का सेवन कर सकती हैं। माहवारी का दर्द बढ़ाने वाला प्रोस्टाग्लाइंडिस हमारे शरीर के एस्ट्रोजन से प्रभावित होता है। एक शोध के अनुसार पत्तेदार उच्‍च फाइबर और लो फैट आहार एस्ट्रोजन के गाढ़ेपन को कम करता है। एस्ट्रोजन का गाढ़ापन दूध से बने पदार्थों से होता है और प्रोस्टाग्लाइंडिस के उत्पादन को कम करता है। इससे माहवारी के समय होने वाले दर्द में आराम मिलता है।
ImageCourtesy@gettyimages

पाचन की समस्या से निजात

जिन महिलाओं को पाचन की समस्या रहती है वो अपने भोजन में दही, बींस, चिया बीज, ओट्स, पपीता, और पानी का मात्रा बढ़ाएं। इन आहारों में मिलने वाला प्रोबॉयोटिक्स और फाइबर आपकी पाचन क्रिया को संतुलित करता है। दही के प्रोबॉयोटिक्स आपकी पाचन क्रिया को नियमित करते है और बींस, दालों आदि से मिलने वाला फाइबर इस क्रिया को आसान कर देता है। पपीते में पाया जाने वाला पपैन नामक एंजाइम भी पाचन में सहायक होता है।  
ImageCourtesy@gettyimages

अनिद्रा को दूर करनें वालें आहार

अनिद्रा की शिकार महिलाओं को अनार, संतरा और केले का सेवन करना चाहिए। इन फलों के सेवन से शरीर के सीरम में मेलाटोनिन के गाढेपन को बढ़ाता है। मेलाटोटिन एक हार्मोन होता है जो कि सोने-जाने के साइकिल को नियंत्रित करता है। इन आहारों के सेवन से सोने के दो घंटे में मेलाटोटिन के स्तर बढ जाता है। पोटैशियम, सेलेनियम और कैल्शियम से लैस ये खाद्य वस्तुएं स्लीप हार्मोन ‘मेलाटोनिन’ व ‘सेरोटोनिन’ के उत्पादन को बढ़ावा देती हैं। इससे अनिद्रा की समस्या दूर होती है और व्यक्ति मीठी नींद सो पाता है।
ImageCourtesy@gettyimages

तनाव दूर करे

महिलाएं अक्सर तनाव की समस्या से जूझती रहती हैं। घर-परिवार के कामों में संतुलन बनाने के चलते अक्सर उनमें तनाव बढ़ जाता है। तनावग्रस्त महिलाओं को साग, मछली और ब्लूबेरीज आदि का सेवन करना चाहिए। शोध का कहना है कि ब्लूबेरीज में शामिल विटामिन सी ब्लडप्रेशर और कोर्टिसोल के स्तर को संतुलित रखता है। साग फोलिक एसिड से भरपूर होता है जो मूड को ठीक करने वाला न्यूट्रीयन होता है। हमें मछली से मिलने वाला ओमेगा- फैटी एसिड को भी अनदेखा नहीं करना चाहिए। ये भी कोर्टिसोल के स्तर को कम रखता है।    
ImageCourtesy@gettyimages

सिरदर्द में आराम

सिरदर्द की समस्या आम समस्याओं में से एक है। अगर आपकों भी ये समस्या है तो भोजन में पालक को शामिल करें। पालक के अलावा कॉफी और ब्लैक कॉफी भी सिरदर्द में आराम देती है। कॉफी में दर्द को आराम देने वाले वालें तत्व होते है। जो आप सिरदर्द की समस्या से तुरंत निजात दिलाएंगे। पालक में विटामिन ए, बी, सी और र्ई के अलावा प्रोटीन, सोडियम, कैल्शियम, फॉस्फोरस, थायामिन, फाइबर, राइबोफ्लेविन और आयरन आदि पाए जाते हैं। जो माइग्रेन की समस्या में आराम दिलाते हैं।
ImageCourtesy@gettyimages

ब्लोटिंग की समस्या

ब्लोंटिग की समस्या होने पर आप केला, खीरा, पपीता, ऐवोकैडो आदि का सेवन कर सकती है। खीरे में क्वेरसेटिन होता है, जोकि एक फ्लेवनॉइड एंटीऑक्सीडेंट है और सूजन को कम करने में मदद करता है। इसके सेवन से ब्‍लोटिंग की समस्या से बचाव होता है। केले में पोटेशियम प्रचुर मात्रा में होता है। केले के ही तरह ऐवेकाडो, कीवी व संतरे का सेवन शरीर में सोडियम के स्तर को विनियमित करते हैं, जिससे नमक क वजह से होने वाली ब्‍लोटिंग से बचाव होता है। केले में घुलनशील फाइबर होता है, जो कब्ज की समस्या से भी बचाता है।
ImageCourtesy@gettyimages

मांसपेशियों में दर्द का इलाज

इस तरह के दर्द में केला, ऐवाकैडो, चेरी, हल्दी, नट्स, ब्रोकली, अनन्नास आदि आहारों का का सेवन करें। चेरी में एंटी-ऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में होता है और यह मांसपेशियों में दर्द से निजात दिलाने में बहुत फायदेमंद होती है। मांसपेशियों के दर्द को कम करने के लिए इसका प्रयोग किया जा सकता है। अनन्‍नास में ब्रोमलेन नामक एंजाइम पाया जाता है, जो मांसपेशियों के दर्द को दूर करने में बहुत सहायक होता है। साथ ही यह गठिया व जोड़ों के दर्द को दूर करने के लिए भी बहुत उपयोगी होता है। यह पाचन क्रिया को भी सुधारता है।
ImageCourtesy@gettyimages

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK